अन्तर्राष्ट्रीय

hindi news portal lucknow

दुनिया को चीन की चेतावनी, कहा- चीन को बांटने वाले को कुचल दिया जाएगा

14 Oct 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

काठमांडू। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने रविवार को चेतावनी दी कि चीन को विभाजित करने की जो कोई कोशिश करेगा, उसे ‘कुचल दिया जाएगा’। उन्होंने यहां नेपाल के शीर्ष नेतृत्व के साथ व्यापक वार्ता की और दोनों देशों ने अपने द्विपक्षीय संबंधों को सहयोग की रणनीतिक साझेदारी तक पहुंचाया तथा एक ‘ट्रांस हिमालयन’ रेलवे लाइन बिछाने की योजना सहित कई समझौतों पर हस्ताक्षर किये। शी ने शनिवार को नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी के साथ अपनी बैठक के दौरान नेपाल के विकास कार्यक्रमों के लिये 56 अरब नेपाली रुपये की मदद की घोषणा की। पिछले 23 बरसों में नेपाल की यात्रा करने वाले शी पहले चीनी राष्ट्रपति हैं।

चीनी राष्ट्रपति ने काठमांडू और तातोपानी ट्रांजिट बिंदु को जोड़ने वाले अरनिको हाईवे का उन्नयन करने का संकल्प लिया। इसे नेपाल में आये 2015 के विनाशकारी भूकंप के बाद बंद कर दिया गया था। उन्होंने संपर्क बढ़ाने के लिये और अधिक सीमा चौकियां खोलने का भी संकल्प लिया। उन्होंने कहा कि ट्रांस हिमालयन रेलवे के लिए एक व्यवहार्यता अध्ययन जल्द शुरू किया जाएगा और चीन केरूंग-काठमांडू सुरंग मार्ग के निर्माण में भी मदद करेगा। चीन की आधिकारिक समाचार एजेंसी शिन्हुआ की खबर के मुताबिक नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली के साथ रविवार को अपनी बैठक के दौरान

शी ने कहा कि जो कोई भी चीन को विभाजित करने की कोशिश करेगा उसे कुचल दिया जाएगा। नेपाल में तिब्बती आध्यात्मिक गुरु समर्थकों पर नकेल कसने के लिये काठमांडू पर बीजिंग के दबाव बनाये जाने के बीच शी की ये टिप्पणियां आई हैं। तिब्बत के साथ नेपाल एक लंबी सीमा साझा करता है और करीब 20,000 निर्वासित तिब्बती इस देश में रहते हैं। बीजिंग भारत में स्वनिर्वासन में रह रहे दलाईको चीन को विभाजित करने की कोशिश करने के वाले एक अलगाववादी के तौर पर देखता है।

ओली ने कहा कि नेपाल चीन को उसकी संप्रभुता एवं क्षेत्रीय अखंडता की हिफाजत करने में पूरा समर्थन करता है तथा एक चीन की नीति के प्रति दृढ़ता से खड़ा है। उन्होंने कहा कि दोनों देश सच्चे मित्र एवं साझेदार हैं। एक संयुक्त बयान में दोनों देशों ने कहा कि उन्होंने अपने द्विपक्षीय संबंधों को सहयोग की रणनीतिक साझेदारी पर पहुंचाने का फैसला लिया है। बयान में कहा गया है कि नेपाल और चीन ने बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (बीआरआई) को व्यापक रूप से सभी क्षेत्रों में परस्पर फायदेमंद सहयोग को मजबूत करने के एक अवसर के तौर पर देखते हैं। शी ने नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के सह अध्यक्ष पुष्प कमल दहल प्रचंड के साथ भी रविवार को वार्ता की। शी ने उन्हें चीनियों का एक अच्छा और पुराना मित्र बताया।



hindi news portal lucknow

इमरान के वित्तीय सलाहकार ने कहा- पाकिस्तान के व्यापार और राजकोषीय घाटे में आयी कमी

13 Oct 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के वित्तीय सलाहकार अब्दुल हाफिज शेख ने शनिवार को कहा कि सरकार द्वारा व्यापार और राजकोषीय घाटे की दोहरी मुश्किलों से निपटने से देश की आर्थिक स्थिति सुधरी है। फेडरल ब्यूरो ऑफ रेवेन्यू (एफबीआर) के अध्यक्ष शब्बार जैदी के साथ यहां मीडियाकर्मियों को संबोधित करते हुए शेख ने कहा कि इस साल की पहली तिमाही में व्यापार घाटे में 35 प्रतिशत की गिरावट आयी है जबकि राजकोषीय घाटे में 36 प्रतिशत की कमी है। उन्होंने कहा कि गैर कर राजस्व वसूली में पिछले वित्तीय वर्ष की तुलना में उल्लेखनीय सुधार आया है।

उन्होंने कहा कि हमने गैर कर राजस्व के रूप में 406 अरब रूपये की वसूली की है जो पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि की तुलना में 140 फीसद अधिक है। शेख ने कहा कि इस वित्त वर्ष में गैर कर राजस्व के रूप में 1200 अरब रूपये की वसूली का लक्ष्य था लेकिन सरकार को इस मद में 1600 अरब रूपये मिलने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि सरकारी सहायता से निर्यात में भी तेजी आ रही है। एक सवाल के जवाब में एफबीआर अध्यक्ष ने कहा कि व्यापारिक समुदाय के साथ बातचीत सकारात्मक ढंग से बढ़ रही है और शीघ्र ही व्यापारियों के सभी मुद्दों का हल निकल आएगा।



hindi news portal lucknow

मुशर्रफ के खिलाफ आतंकवाद के आरोप रद्द करने संबंधी याचिका खारिज

10 Oct 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

इस्लामाबाद। पाकिस्तान की एक अदालत ने उस याचिका को खारिज कर दिया है जिसमें पूर्व सैन्य तानाशाह परवेज मुशर्रफ के खिलाफ आतंकवाद के आरोपों को रद्द करने और उनके मामले को आतंकवाद रोधी अदालत (एटीसी) से सत्र अदालत स्थानांतरित करने का अनुरोध किया गया था। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, मुख्य न्यायाधीश अतहर मीनल्लाह और न्यायमूर्ति मियांगुल हसन औरंगजेब वाली इस्लामाबाद उच्च न्यायालय की एक खंडपीठ ने मुशर्रफ की तरफ से उनके वकील अख्तर शाह द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई शुरू की। डान न्यूज की खबर के मुताबिक, पीठ ने बुधवार को शाह के बार-बार अनुपस्थित रहने के कारण याचिका खारिज कर दी थी। पूर्व सैन्य शासक अपने खिलाफ लगे आतंकवाद के आरोपों को हटवाना और बाद में मामले को आंतकवाद विरोधी अदालत से सत्र अदालत स्थानांतरित करवाना चाहते थे। मुशर्रफ (75) ने याचिका में दलील दी थी कि 3 नवंबर 2007 को आपातकाल लगाए जाने के बाद उच्च न्यायपालिका के 60 न्यायाधीशों को हिरासत में रखे जाने के सिलसिले में उनके खिलाफ शुरुआती एफआईआर पाकिस्तानी दंड संहिता के तहत दर्ज की गई थी।

उच्च न्यायालय की एक सदस्यीय पीठ ने हालांकि 2013 में पुलिस को आदेश दिया था कि मुशर्रफ के खिलाफ आतंकवाद रोधी कानून की धाराएं लगाई जाएं क्योंकि न्यायाधीशों को हिरासत में लेना “आतंकवाद का कृत्य” है। खबर के मुताबिक एटीसी पहले ही मुशर्रफ को भगोड़ा घोषित कर चुकी है। मुशर्रफ मार्च 2016 से ही देश से बाहर हैं।



hindi news portal lucknow

Mahatma Gandhi 150th Birth Anniversary: UN महासचिव गुटेरेस बोले- गांधी जी ने इतिहास बदल दिया

02 Oct 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

न्यूयॉर्क। Mahatma Gandhi 150th Birth Anniversary, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर उन्हें पूरा विश्व याद कर रहा है। इस दौरान संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने अहिंसक आंदोलन से इतिहास को बदल दिया। संयुक्त राष्ट्र में हम उनके आदर्शों को आगे बढ़ा रहे हैं। बता दें कि वैश्विक समुदाय द्वारा महात्मा गांधी की जयंती को अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रूप में मनाया जाता है।

गुटेरेस ने ट्वीट कर कहा, 'महात्मा गांधी ने अहिंसक आंदोलनों का नेतृत्व किया और इसके माध्यम से इतिहास बदल दिया। जन्म के150 साल बाद गांधी जी के आदर्शों के साथ यूएन आगे बढ़ रहा है। उनका साहस और दृढ़ विश्वास हमें हमेशा प्रेरित करता रहेगा। गुटेरेस ने एक बयान में कहा, 'संयुक्त राष्ट्र, आपसी समझ, समानता, सतत विकास, युवा लोगों के सशक्तिकरण और विवादों के शांतिपूर्ण समाधान करके उनकी दृष्टि को दुनिया भर में आगे बढ़ा रहा है।'

गुटेरेस ने इस दौरान कहा, ' 2 अक्टूबर, 1869 को गुजरात के पोरबंदर शहर में जन्मे, महात्मा गांधी (मोहनदास करमचंद गांधी) ने अहिंसक आंदोलन को अपनाया और ब्रिटिश शासन के खिलाफ स्वतंत्रता संघर्ष में धैर्य के साथ आगे बढ़े। इसका नतीजा ये हुआ कि भारत को 1947 में अंग्रेजों से आजादी मिल गई। बापू को 'स्वराज' और 'अहिंसा' में उनके अटूट विश्वास ने उन्हें दुनिया भर में प्रशंसा दिलाई।'

गुटेरेस ने इस दौरान ये भी कहा 'जनवरी 1948 में हत्या से पहले और विभाजन के बाद महात्मा गांधी ने लगातार हम जो करते हैं और जो हम करने में सक्षम हैं, उसके बीच की खाई को उजागर किया और इसे पाटने की कोशिश की। संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने कहा,' मैं इस अंतरर्राष्ट्रीय दिवस पर हर किसी से इस विभाजन को पाटने के लिए अपनी शक्ति अनुसार कोशिश करने का आग्रह करता हूं, ताकि हम एक बेहतर भविष्य बना सके।'



hindi news portal lucknow

Terror Funding Case: आतंकी हाफिज सईद के खिलाफ अब लाहौर हाईकोर्ट में होगी सुनवाई

30 Sep 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

लाहौर। Terror Funding Case: मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड और अंतरराष्ट्रीय आतंकी हाफिज सईद के खिलाफ टेरर फंडिंग मामले की सुनवाई अब लाहौर हाई कोर्ट में होगी। लाहौर हाई कोर्ट ने सोमवार को इसकी मंजूरी दे दी। इस मामले की सुनवाई पहले गुजरांवाला आतंकवाद-निरोधी कोर्ट में हो रही थी।

डॉन न्यूज के मुताबिक लाहौर हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश सरदार शमीम अहमद ने सईद द्वारा दायर एक याचिका पर सुनवाई की। इसमें उसने कहा था कि उसे लाहौर की जेल में रखा गया है, जबकि उसकी पेशी गुजरवाला में होती है। उसने सुरक्षा का हवाला देते हुए कहा कि अगर उसे लाहौर के जेल में रखा जा रहा है तो केस की सुनवाई भी यहीं होनी चाहिए। सुनवाई के दौरान, सरकार के एक वकील ने कहा कि उन्हें मामले को स्थानांतरित करने में कोई आपत्ति नहीं है। इसके बाद कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ने इसे मंजूरी दे दी। गौरतलब है इस साल जुलाई में टेरर फंडिंग मामले में सईद की गिरफ्तारी हुई थी। उसके गिरफ्तारी से पहले सईद और नायब अमीर अब्दुल रहमान मक्की सहित जमात-उद-दावा के शीर्ष 13 लोगों को आतंकवाद निरोधी अधिनियम, 1997 के तहत टेरर फंडिंग और मनी लॉन्ड्रिंग के लिए लगभग दो दर्जन मामले दर्ज किए गए थे।पिछले हफ्ते संयुक्त राष्ट्र राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) ने पाकिस्तान के गुहार पर उसे अपने बैंक खाते का इस्तेमाल करने की इजाजत दी थी। पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र द्वारा लगाए गए प्रतिबंध के बाद उसके बैंक खाते को फ्रीज कर दिए थे। पाकिस्तान ने उसे राहत दिलाने के लिए सुरक्षा परिषद को चिट्ठी लिखी थी।

इससे एक दिन पहले पाकिस्तान के लाहौर हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ने सईद के मामले की सुनवाई कर रही दो सदस्यीय पीठ बदल दी थी। कोर्ट ने मामले की सुनवाई कर रही न्यायमूर्ति मजाहिर अली नकवी और मुश्ताक अहमद की पीठ को बदलकर यह केस जस्टिस मुहम्मद कासिम खान की अध्यक्षता वाली पीठ को सौंप दिया था।

बता दें कि भारत ने इसी महीने गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम कानून (UAPA) के तहत व्यक्तिगत तौर पर हाफिज समेत जैश प्रमुख मसूद अजहर, जकी उर रहमान लखवी और अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम को आतंकी घोषित किया था। भारत के इस फैसले का अमेरिका ने भी समर्थन किया है।



hindi news portal lucknow

मारा गया ओसामा बिन लादेन का पुत्र हमजा, ट्रंप ने की पुष्टी

14 Sep 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अलकायदा समूह के संस्थापक ओसामा बिन लादेन के पुत्र हमजा बिन लादेन की मौत की शनिवार को पुष्टि की। ट्रंप ने कहा कि हमजा की मौत अफगानिस्तान-पाकिस्तान क्षेत्र में अमेरिका के आतंकवाद रोधी अभियान में हुई। ट्रंप ने एक बयान में कहा, अलकायदा का शीर्ष नेता और ओसामा बिन लादेन का पुत्र हमजा बिन लादेन अफगानिस्तान-पाकिस्तान क्षेत्र में अमेरिका के आतंकवाद रोधी अभियान में मारा गया।

हालांकि, अमेरिकी राष्ट्रपति ने यह नहीं बताया कि हमजा की मौत असल में किस जगह और किन परिस्थितियों में हुई। हमजा का आखिरी ज्ञात सार्वजनिक बयान 2018 में अल कायदा की मीडिया शाखा द्वारा जारी किया गया था। हमजा ने उस संदेश में सऊदी अरब को धमकी दी थी और अरब प्रायद्वीप के लोगों को विद्रोह करने के लिए कहा था। सऊदी अरब ने इस साल मार्च में उसकी नागरिकता छीन ली थी।



hindi news portal lucknow

NASA Facts: पिछले 60 साल में असफल रहे हैं 40 प्रतिशत चंद्र मिशन

07 Sep 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

नई दिल्ली। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के तथ्यों के मुताबिक पिछले छह दशक में शुरू किए गए चंद्र मिशन में सफलता का अनुपात 60 प्रतिशत रहा है। नासा के मुताबिक इस दौरान 109 चंद्र मिशन शुरू किए गए, जिसमें 61 सफल हुए और 48 असफल रहे। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो द्वारा चंद्रमा की तहत पर चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर को उतराने का अभियान शनिवार को अपनी तय योजना के मुताबिक पूरा नहीं हो सका। लैंडर का अंतिम छणों में जमीनी स्टेशन से संपर्क टूट गया। इसरो के अधिकारियों के मुताबिक चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर पूरी तरह सुरक्षित और सही है।

इस साल इजराइल ने भी फरवरी 2018 में चंद्र मिशन शुरू किया था, लेकिन यह अप्रैल में नष्ट हो गया। वर्ष 1958 से 2019 तक भारत के साथ ही अमेरिका, यूएसएसआर (रूस), जापान, यूरोपीय संघ, चीन और इजराइल ने विभिन्न चंद्र अभियानों को शुरू किया। पहले चंद्र अभियान की योजना अमेरिका ने 17 अगस्त, 1958 में बनाई, लेकिनपाइनियर 0 का लॉन्च असफल रहा। पहला सफल चंद्र अभियान चार जनवरी 1959 में यूएसएसआर का लूना 1 था। यह स‍फलता छठे चंद्र मिशन में मिली। एक साल से थोड़े अधिक समय के भीतर अगस्त 1958 से नवंबर 1959 के दौरान अमेरिका और यूएसएसआर ने 14 अभियान शुरू किए। इनमें से सिर्फ 3- लूना 1, लूना 2 और लूना 3 सफल हुए। ये सभी यूएसएसआर ने शुरू किए थे।

इसके बाद जुलाई 1964 में अमेरिका ने रेंजर 7 मिशन शुरू किया, जिसने पहली बार चंद्रमा की नजदीक से फोटो ली। रूस द्वारा जनवरी 1966 में शुरू किए गए लूना 9 मिशन ने पहली बार चंद्रमा की सतह को छुआ और इसके साथ ही पहली बार चंद्रमा की सतह से तस्वीर मिलीं। पांच महीने बाद मई 1966 में अमेरिका ने सफलतापूर्वक ऐसे ही एक मिशन सर्वेयर-1 को अंजाम दिया। अपोलो 11 अभियान एक लैंडमार्क मिशन था, जिसके जरिए इंसान के पहले कदम चांद पर पड़े। तीन सदस्यों वाले इस अभियान दल की अगुवाई नील आर्मस्ट्रांग ने की। वर्ष 1958 से 1979 तक केवल अमेरिका और यूएसएसआर ने ही चंद्र मिशन शुरू किए। इन 21 वर्षों में दोनों देशों ने 90 अभियान शुरू किए। इसके बाद जपान, यूरोपीय संघ, चीन, भारत और इस्राइल ने भी इस क्षेत्र में कदम रखा।



hindi news portal lucknow

इमरान खान ने कहा, कश्मीर पाकिस्तान की ‘‘दुखती रग” है

06 Sep 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने शुक्रवार को कहा कि कश्मीर पाकिस्तान की “दुखती रग” है और इसके विशेष दर्जे को वापस लेने का भारत का फैसला देश की सुरक्षा एवं अखंडता को चुनौती देता है। खान ने पाकिस्तान के ‘रक्षा एवं शहीद दिवस’ पर कहा कि उनकी सरकार ने वैश्विक राजधानियों और संयुक्त राष्ट्र में सक्रिय कूटनीतिक अभियान शुरू किया ताकि वैश्विक समुदाय को कश्मीर के बारे में बताया जा सके जिसका विशेष दर्जा भारत ने पांच अगस्त को खत्म कर दिया था।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के लिए कश्मीर उसकी कमजोर नस है। उसके दर्जे में बदलाव करना पाकिस्तान की सुरक्षा एवं अखंडता को चुनौती देता है उन्होंने कहा कि मैंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से भारत के परमाणु जखीरे की सुरक्षा पर गंभीरता से विचार करने की भी अपील की। यह वह मुद्दा है जो दक्षिण एशियाई क्षेत्र को ही नहीं बल्कि पूरे विश्व को प्रभावित करता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि अगर वैश्विक समुदाय भारत के परमाणु जखीरे पर ध्यान देने में विफल रहता है तो वे “विनाशकारी परिणामों’’ के लिए जिम्मेदार होंगे। खान ने कहा कि मैंने पूरी दुनिया से कहा है कि पाकिस्तान युद्ध नहीं चाहता, लेकिन साथ ही पाकिस्तान उसकी सुरक्षा एवं अखंडता को दी जाने वाली चुनौतियों से बेपरवाह भी नहीं रह सकता।



hindi news portal lucknow

PM मोदी ने पुतिन के साथ किया ज्वेज्दा पोत निर्माण परिसर का दौरा

04 Sep 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

व्लादिवोस्तोक। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ बुधवार को ज्वेज्दा पोत निर्माण परिसर का दौरा किया और उसके प्रबंधकों एवं अन्य कर्मियों से बातचीत की। दो दिवसीय यात्रा पर रूस पहुंचे मोदी, पुतिन के साथ शिखर वार्ता करेंगे और ‘पूर्वी आर्थिक मंच’ में शामिल होंगे। ऐसा पहली बार है जब कोई भारतीय प्रधानमंत्री रूस के पूर्वी सुदूर क्षेत्र की यात्रा कर रहा है। प्रधानमंत्री मोदी के यार्ड के दौरे के समय राष्ट्रपति पुतिन भी उनके साथ थे। ज्वेज्दा यार्ड जाने से पहले दोनों नेताओं ने एक दूसरे को गले लगाया और हाथ मिलाया।

मोदी ने यार्ड के प्रबंधकों एवं कर्मियों से बातचीत की। ‘तास’ संवाद समिति ने पुतिन के सहयोगी यूरी उशाकोव के हवाले से बताया कि भविष्य में इस यार्ड पर निर्मित पोतों का प्रयोग भारत समेत वैश्विक बाजार में रूसी तेल और द्रवित प्राकृतिक गैस पहुंचाने में किया जाएगा। रूसी संवाद समिति के अनुसार रोसनेफ्ट, रोसनेफ्टगाज और गजप्रॉमबैंक का संघ ‘फार ईस्टर्न शिपबिल्डिंग एंड शिप रिपेयर सेंटर’ में ज्वेज्दा पोत यार्ड का निर्माण कर रहा है। यार्ड के दौरे के बाद दोनों नेता 20वीं भारत-रूस वार्षिक शिखर वार्ता करेंगे। इससे पहले, प्रधानमंत्री मोदी का रूस की तीसरी द्विपक्षीय यात्रा पर व्लादिवोस्तोक हवाईअड्डा पहुंचने पर गर्मजोशी से स्वागत किया गया।

रूस रवाना होने से पहले मोदी ने कहा था कि वह पुतिन के साथ परस्पर हितों के क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा करने को लेकर उत्साहित हैं। उन्होंने अपनी दो दिवसीय यात्रा पर रवाना होने से पहले नयी दिल्ली में एक बयान में कहा था, ‘मैं अपने मित्र राष्ट्रपति पुतिन के साथ हमारे द्विपक्षीय संबंधों तथा आपसी हितों से संबंधित क्षेत्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय मुद्दों के सभी आयामों पर चर्चा को लेकर आशान्वित हूं।’ मोदी ने कहा था कि मैं पूर्वी आर्थिक मंच की बैठक में हिस्सा लेने वाले वैश्विक नेताओं के साथ मुलाकात तथा इसमें हिस्सा लेने वाले भारतीय उद्योगों एवं कारोबारी प्रतिनिधियों से चर्चा को लेकर भी उत्सुक हूं। उन्होंने कहा था कि यह मंच रूस के सुदूर पूर्वी क्षेत्र में कारोबार एवं निवेश अवसरों के विकास पर जोर देने तथा इस क्षेत्र में भारत और रूस के बीच साझा लाभ के लिये सहयोग बढ़ाने का व्यापक अवसर प्रदान करता है।



hindi news portal lucknow

चीन पर नए आयात शुल्क लगाने की दिशा में आगे बढ़ रही ट्रंप सरकार

01 Sep 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

वाशिंगटन। चीन पर नये व्यापार समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए दबाव डालने की अपनी रणनीति के तहत अमेरिका, चीन से आयातित उत्पादों पर नये आयात शुल्क लगाने की दिशा में आगे बढ़ रहा है। अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि के कार्यालय के मुताबिक अतिरिक्त 15 प्रतिशत शुल्क से चीन से आयातित 300 अरब डॉलर का वह हिस्सा भी प्रभावित होगा, जो अब तक इससे अछूता था।राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुल्क लगाये जाने के फैसले से किसी तरह के स्थगन से शुक्रवार को इनकार किया था। उन्होंने संवाददाताओं से कहा था, वे जारी रहेंगे। एक आधिकारिक सूची के मुताबिक विभिन्न तरह के खाद्य उत्पाद, खेल के सामान, वाद्य यंत्रों एवं फर्नीचर उत्पादों पर ये नये शुल्क लगाये जाएंगे।



12345678910...