उत्तर प्रदेश

hindi news portal lucknow

सत्ता में आते ही आजम के खिलाफ दर्ज सभी मामले वापस लिए जाएंगे: अखिलेश

14 Sep 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

लखनऊ। समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शनिवार को कहा कि उनकी पार्टी के सत्ता में आने पर सांसद आजम खां के खिलाफ दर्ज सभी मामले वापस ले लिये जाएंगे।अखिलेश ने रामपुर में संवाददाताओं से कहा, समाजवादी सरकार के सत्ता में आने पर सांसद एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खां के खिलाफ दर्ज सभी केस वापस ले लिए जाएंगे। उन्होंने कहा, इस सम्बंध में प्रदेश की राज्यपाल से और जरूरत होने पर लोकतंत्र के जिम्मेदार से भी मुलाकात करूंगा। उन्हें प्रशासन द्वारा किए जा रहे अत्याचार की जानकारी दूंगा। रामपुर से सभी एफआईआर की प्रति ले जाकर पूरी रिपोर्ट तैयार की जायेगी। अखिलेश ने कहा कि हमें न्यायपालिका पर भरोसा है और विश्वास है कि वहां से न्याय मिलेगा। ऐसे ही तमाम मुकदमे एक बार मुलायम सिंह यादव पर भी दर्ज हुए थे, तब न्यायालय ने मदद की थी। सपा की ओर से जारी एक बयान में अखिलेश के हवाले से कहा गया कि प्रशासन जितना अन्याय करेगा, लोगों का सरकार पर उतना ही विश्वास कम होगा। वैसे भी आज जनता का भरोसा प्रशासन और सरकार से उठता ही जा रहा है। अखिलेश ने कहा कि समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं, महिलाओं के साथ भी अन्याय हुआ है। परिवार के सदस्यों को अपमानित करने के लिए उन्हें थाने तक ले जाया गया। सपा अध्यक्ष ने कहा कि सपा के वरिष्ठ नेता आजम खां ने एक बेहतरीन जौहर अली विश्वविद्यालय की स्थापना की।

उन्होंने जो सपना देखा उसको जमीन पर उतारा। उन्होंने आने वाली नई पीढ़ी के भविष्य को बेहतर बनाने के लिए यह संस्थान बनाया। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार बदले की भावना से काम करती है। वह जानबूझ कर असली मुद्दों से भटकाने के लिए काम कर रही है। अखिलेश ने कहा कि भाजपा देश को डर और नफरत के रास्ते पर ले जा रही है। पहले सहारनपुर में बाबा साहब की मूर्ति तोड़ी। आज जालौन में गांधी जी की प्रतिमा तोड़ दी। मंहगाई, बेरोजगारी और किसानों की समस्या से ध्यान बंटाने के लिए विपक्षी नेताओं को परेशान किया जा रहा है। उन्होंने जौहर अली विश्वविद्यालय, उर्दू गेट और रामपुर पब्लिक स्कूल इंटरनेशनल का भी दौरा किया। वह आजम खां के निवास पर भी गए, उनके परिवार के सदस्यों से मिले तथा उन्हें समाजवादी पार्टी के पूर्ण समर्थन एवं सहयोग का भरोसा दिलाया।



hindi news portal lucknow

योगी ने खत्म किया 40 साल पुराना कानून, सभी मंत्री खुद चुकाएंगे अपना टैक्स

14 Sep 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने मंत्रियों से कहा कि आप अपना टैक्स खुद चुकाएं। जिसके साथ ही लगभग 40 वर्षों से चले आ रहे पुराने चलन का अंत हो गया। जिसके अंतर्गत मंत्रियों का टैक्स सरकारी खजाने से भरा जाता था। यूपी के वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने कहा कि उत्तर प्रदेश मिनिस्टर्स सैलरीज एलाउन्सेस एंड मिसलेनियस एक्ट-1981 के अन्तर्गत सभी मंत्रियों के इनकम टैक्स बिल का भुगतान अभी तक राज्य सरकार की ट्रेजरी द्वारा किया जाता है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथके निर्देशानुसार यह निर्णय लिया गया है कि अब सभी मंत्री अपने इनकम टैक्स का भुगतान स्वयं करेंगे। उन्होंने बताया कि सरकारी खजाने से अब मंत्रियों के आयकर बिल का भुगतान नहीं किया जाएगा।

बता दें कि वीपी सिंह के जमाने में उत्तर प्रदेश मिनिस्टर्स सैलरीज, अलाउंसेज एंड मिसलेनिअस एक्ट 1981 बनाया गया था। उस समय विधानसभा में यह कहा गया था कि मंत्रियों की तनख्वाह इतनी ज्यादा नहीं होती कि वह अपना कर भर सकें। ऐसे में उन्हें गरीब बताकर सरकारी खजाने का इस्तेमाल किया जाने लगा।



hindi news portal lucknow

योगी ने बताई विकास में शिक्षकों की भूमिका, कहा- शिक्षा को व्यापक परिवर्तन का कारक बनाएं

06 Sep 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने समाज, प्रदेश व देश के विकास में शिक्षकों की महत्वपूर्ण भूमिका को रेखांकित करते हुए बुधवार को कहा कि शिक्षक उत्कृष्ट शिक्षा एवं जनसहभागिता के आधार पर कार्य करते हुए शिक्षा को व्यापक परिवर्तन का कारक बनाएं, जिससे वर्तमान और आने वाली पीढ़ियों के भविष्य उज्ज्वल हो सके। योगी ने कहा कि शिक्षक जनहित की योजनाओं और देश-दुनिया में घट रही घटनाओं व गतिविधियों से निरन्तर अवगत रहें। इससे वे समाज व बच्चों में जागरूकता बढ़ाने में सहायक सिद्ध होंगे।

उन्होंने कहा कि प्राथमिक शिक्षक का सम्बन्ध किसी बच्चे से परिवार के सदस्यों के बाद सबसे पहले जुड़ता है। ऐसे में प्राथमिक शिक्षक का समाज के प्रति योगदान का दायित्व बढ़ जाता है। मुख्यमंत्री यहां इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान में शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर ‘शिक्षक सम्मान समारोह’ एवं ‘प्रेरणा एप’ व ‘मानव सम्पदा पोर्टल’ के लोकार्पण अवसर पर विभिन्न जनपदों से आए प्राथमिक शिक्षकों को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर पूरे प्रदेश से चयनित 49 प्राथमिक शिक्षकों को सम्मानित किया गया। योगी ने सभी शिक्षकों को शिक्षक दिवस की बधाई एवं शुभकामनाएं भी दीं।



hindi news portal lucknow

मेहनतकश जनता पर बढे़गा महंगाई का बोझ: मायावती

04 Sep 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

उत्तर प्रदेश बिजली नियामक आयोग ने खर्च में बढोतरी और राजस्व में कमी की स्थिति को देखते हुये मंगलवार को राज्य में बिजली की दरों में 12 फीसदी तक बढोतरी को मंजूरी दी है। सरकारी विज्ञप्ति में बताया गया कि आयोग ने नियामक सरचार्ज (राज्य की वितरण कंपनियों के लिए 4 .28 प्रतिशत)समाप्त कर दिया है। इस हिसाब से घरेलू, औद्योगिक और कृषि क्षेत्रों के उपभोक्ताओं के लिये दरों में बढोतरी होगी। नयी बिजली दरें सरकार द्वारा इस संबंध में अधिसूचना जारी करने की तारीख से लागू हो जाएंगी।

बसपा अध्यक्ष मायावती ने बिजली दरों में बढोतरी का विरोध करते हुए ट्वीट किया कि उत्तर प्रदेश की बीजेपी सरकार द्वारा बिजली की दरों को बढ़ाने को मंजूरी देना पूरी तरह से जनविरोधी फैसला है। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश की करोड़ों खासकर मेहनतकश जनता पर महंगाई का और ज्यादा बोझ बढे़गा व उनका जीवन और भी अधिक त्रस्त व कष्टदायी होगा। सरकार इस पर तुरन्त पुनर्विचार करे तो यह बेहतर होगा।

विज्ञप्ति में कहा गया कि घरेलू मीटर श्रेणी के उपभोक्ताओं के लिए आठ से 12 फीसदी के बीच बढोतरी होगी। इसी प्रकार औद्योगिक (भारी)उपभोक्ताओं के लिए पांच से दस प्रतिशत बढोतरी का प्रस्ताव है। विज्ञप्ति के मुताबिक कृषि क्षेत्र के मीटर वाले उपभोक्ताओं के लिए शहरी क्षेत्र में नौ प्रतिशत और ग्रामीण क्षेत्र में 15 प्रतिशत बढोतरी की गयी है। बिना मीटर के कनेक्शन रोकने और बिना मीटर के कनेक्शन को मीटर वाले कनेक्शन में तब्दील करने के लिए बिना मीटर वाले घरेलू कनेक्शन के लिए दरें बढाने को मंजूरी दी गयी है।

उत्तर प्रदेश बीजेपी सरकार द्वारा बिजली की दरों को बढ़ाने को मंजूरी देना पूरी तरह से जनविरोधी फैसला है। इससे प्रदेश की करोड़ों खासकर मेहनतकश जनता पर महंगाई का और ज्यादा बोझ बढे़गा व उनका जीवन और भी अधिक त्रस्त व कष्टदायी होगा। सरकार इसपर तुरन्त पुनर्विचार करे तो यह बेहतर होगा।



hindi news portal lucknow

कुपोषण से निपटने के लिये जन सहभागिता जरूरी : योगी आदित्यनाथ

01 Sep 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कहा कि कुपोषण से लड़ने में आम लोगों की भागीदारी बेहद जरूरी है। योगी ने राष्ट्रीय पोषण माह अभियान की शुरुआत करने के बाद कहा कि अगर देश के बच्चे ही कमजोर होंगे तो मुल्क कभी मजबूत नहीं बन पायेगा। कुपोषण से लड़ने के लिये आम लोगों की भागीदारी बहुत जरूरी है।उन्होंने कहा कि जन भागीदारी और संयुक्त प्रयासों की वजह से उत्तर प्रदेश में संक्रामक रोगों की दर में गिरावट आयी है। इस साल प्रदेश में डेंगू, कालाजार, चिकुनगुनिया और फाइलेरिया जैसे रोगों का प्रकोप नहीं फैला। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस बात को ध्यान रखना होगा कि इस एक महीने के राष्ट्रीय पोषण माह अभियान के फायदे से एक भी बच्चा महरूम न रहे।

उन्होंने कहा कि कुछ साल पहले तक पूर्वांचल में इंसेफ्लाइटिस की वजह से बड़ी संख्या में बच्चों की मौत होती थी। मगर स्वास्थ्य विभाग तथा अन्य महकमों के संयुक्त प्रयासों से पिछले दो वर्षों के दौरान हमने इस बीमारी को रोकने में कामयाबी हासिल की है। इसमें जन जागरूकता और भागीदारी ने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है। महिला एवं बाल कल्याण मंत्री स्वाति सिंह ने इस मौके पर कहा कि राष्ट्रीय पोषण माह अभियान का मकसद प्रदेश से कुपोषण को जड़ से खत्म करना है।



hindi news portal lucknow

मिर्जापुर में बच्चों को नमक व रोटी खिलाने के मामले में एबीएसए निलम्बित, BSA को हटाया

24 Aug 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

लखनऊ। मीरजापुर के जमालपुर ब्लॉक के सिउर प्राथमिक विद्यालय के बच्चों को बीती 22 अगस्त को मिड डे मील में नमक-रोटी खिलाये जाने के मामले में शासन ने ब्लॉक के खंड शिक्षा अधिकारी बृजेश कुमार सिंह को निलंबित कर दिया है। वहीं मीरजापुर के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी प्रवीण कुमार तिवारी को हटाकर जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान प्रयागराज में वरिष्ठ प्रवक्ता के पद पर तैनात कर दिया गया है। उन्हें एक हफ्ते में अपना स्पष्टीकरण देने के लिए कहा गया है। ऐसा न करने पर शासन उनके खिलाफ गुण-दोष के आधार पर निर्णय करेगा।

यह मामला उजागर होने पर बेसिक शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ.सतीश द्विवेदी ने मीरजापुर के जिलाधिकारी से रिपोर्ट तलब की थी। जांच रिपोर्ट मिलने पर उन्होंने शनिवार को विभाग के आला अधिकारियों के साथ बैठक की। रिपोर्ट के निष्कर्षों के आधार पर मंत्री ने जमालपुर ब्लॉक के खंड शिक्षा अधिकारी बृजेश कुमार सिंह को निलंबित करने का निर्देश दिया। मंत्री के निर्देश के क्रम में खंड शिक्षा अधिकारी को निलंबित करने का आदेश जारी कर दिया गया है।

निलंबन की अवधि में वह अपर शिक्षा निदेशक (बेसिक) शिक्षा निदेशालय, प्रयागराज के कार्यालय से संबद्ध रहेंगे। वहीं मीरजापुर के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के पद पर नियमित तैनाती होने तक जिले के मुख्य विकास अधिकारी को बीएसए का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है।

मीरजापुर के जिलाधिकारी की रिपोर्ट के मुताबिक स्कूल के बच्चों ने बताया कि उन्हें 22 अगस्त को नमक-रोटी खिलायी गई थी। विद्यालय की प्रधानाध्यापिका राधा लगातार अवकाश पर ही रही हैं। खंड शिक्षा अधिकारी बृजेश कुमार सिंह ने सिर्फ एक बार 26 अप्रैल 2019 को विद्यालय का निरीक्षण किया था। डीसी एमडीएम ने एक बार भी विद्यालय में मिड डे मील की गुणवत्ता की जांच नहीं की। न्याय पंचायत रिसोर्स सेंटर के अरविंद कुमार त्रिपाठी ने भी विद्यालय का निरीक्षण व एमडीएम की जांच नहीं की। शिक्षामित्र शांतिदेवी के सहारे ही विद्यालय चलता रहा। बीएसए ने भी विद्यालय का निरीक्षण नहीं किया, न ही विद्यालय में नियमित अध्यापक नियुक्त करने का कोई प्रयास किया गया।



hindi news portal lucknow

आई.आई.एल.एम. एकेडमी आॅफ हायर लर्निंग, लखनऊ में 14वाॅं दीक्षांत समारोह 17 अगस्त, 2019 को संस्थान परिसर में आयोजित किया गया

लखनऊ छात्रों के सम्पूर्ण विकास के लिए पाठ्यक्रम के अतिरिक्त भी विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम करता रहता है जिससे छात्र वास्तविक जीवन की कठिनाईयों का सामना करने के लिए तैयार हो जाते है तथा सभी छात्रों का अच्छी कंपनियों में शत प्रतिशत प्लेसमेन्ट भी हो जाता है : डा0 नायला रूश्दी

17 Aug 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

गोमती नगर स्थित आई.आई.एल.एम. एकेडमी आॅफ हायर लर्निंग, लखनऊ में 14वाॅं दीक्षांत समारोह दिनांक 17 अगस्त, 2019 को संस्थान परिसर में आयोजित किया गया। इस अवसर पर संस्थान में व्यापार जगत, मीडिया एवं शैक्षणिक संस्थानों के गणमान्य अतिथि सम्मिलित हुए। कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप प्रज्वलन एवं सरस्वती वंदना से हुआ। समारोह की मुख्य अतिथि इनस्टिट्यूट आॅंफ कैरियर स्टडीज की संस्थापक एवं निदेशक डा0 अमृता दास तथा विशिष्ट अतिथि के0पी0एम0जी0 के निदेशक श्री सुमित अरोड़ा ने उत्तीर्ण छात्रों को उपाधियों एवं पदक प्रदान किये और समारोह में उपस्थित माननीय अतिथियों व छात्रों को सम्बोधित किया।

पी0जी0डी0एम0 एवम एम0बी0ए0 पाठयक्रम में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले मेधावी छात्रों को उपाधि के साथ स्वर्ण, रजत एवम कांस्य पदक भी प्रदान किये गये।

पी.जी.डी.एम बैच से रजनीश शर्मा को श्री कुलवन्त राय स्वर्ण पदक, सौरभ अग्रवाल एवं दीक्षा स्वर्णकार को चेयरपर्सन रजत पदक और यामिनी श्रीवास्तव को निदेशक काॅस्य पदक प्रदान किया गया।

एम0बी0ए0 बैच से मानसी श्रीनेत को श्री कुलवन्त राय स्वर्ण पदक, प्रीति सिंह को चेयरपर्सन रजत पदक एवम अब्दुल मन्नान को निदेशक कँास्य पदक प्रदान किया गया।

ओवर आल एक्सीलेंस में उत्कृष्ट योगदान के लिये रिषभ रोनाल्ड को स्वर्ण पदक, यशराज श्रीवास्तव को रजत पदक और ऐशवर्या सिंह को काॅस्य पदक प्रदान किया गया। आनन्द शर्मा को सर्वश्रेष्ठ स्काॅप मेंबर चुना गया।

संस्थान की निदेशक डा0 नायला रूश्दी ने अपने विचार व्यक्त करते हुये कहा कि आई.आई.एल.एम. एकेडमी आॅफ हायर लर्निंग, लखनऊ छात्रों के सम्पूर्ण विकास के लिए पाठ्यक्रम के अतिरिक्त भी विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम करता रहता है जिससे छात्र वास्तविक जीवन की कठिनाईयों का सामना करने के लिए तैयार हो जाते है तथा सभी छात्रों का अच्छी कंपनियों में शत प्रतिशत प्लेसमेन्ट भी हो जाता है।

दीक्षांत समारोह को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि इनस्टिट्यूट आॅंफ कैरियर स्टडीज की संस्थापक एवं निदेशक डा0 अमृता दास ने अपने संबोधन में सभी उत्तीर्ण छात्रों को बधाई दी। उन्होंने छात्रों की सफलता में अभिभावकों और शिक्षकों के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने उत्तीर्ण छात्रों को यह कहते हुए प्रोत्साहित किया कि अवसरों का ब्रहमांड आपका इंतजार कर रहा है। आपको आने वाले वर्षों में तेजी से बढ़ते भारत का नेतृत्व करना है। अपने विशाल अनुभव को साझा करते हुए उन्होंने उल्लेख किया कि चैथी औधोगिक क्रांति आर्ट्फिशियल इण्टेलिजेन्स के माध्यम से होगी। आप सभी को भविष्य के लिए तैयार होने के लिए सभी आवश्यक कौशल हासिल करने होंगे। उन्होंने सभी स्नातक छात्रों को एक राजा के बारे में कहानी सुनाकर बहुत मूल्यवान सबक दिया और कहा कि हर दिन आपको अपने आप से कुछ सवाल पूछना होगा: मैं कौन हूँ? मैं कहां हूँ? मैं कहँा जाना चाहता हूँ? और मैं वहां कैसे पहुंचूंगा? उन्होने कहा कि यह एनालिटिक्स, डिजिटल मार्केटिंग, डिजाइन थिंकिंग और इमोश्नल इंटेलिजेन्स का युग है। आपको विषय का गहन ज्ञान प्राप्त करने की आवश्यकता है। टेक्नोलाॅजी के इस युग में आप सभी को सेल्फ स्मार्ट और पीपुल स्मार्ट बनने की आवश्यकता है। तकनीक और इंटरनेट का बहुत अधिक उपयोग आपको अपने भविष्य के लिक्ष्य से विचलित नहीं करना चाहिए। उन्होंने यह कहकर अपना सम्बोधन समाप्त किया कि प्रत्येक छात्र को ‘‘मैं कर सकता हूँ़’’ रवैया विकसित करना चाहिए। अगर आप सपना देख सकते है, तो आप उसे पूरा भी कर सकते है।

दीक्षांत समारोह के विशिष्ट अतिथि के0पी0एम0जी0 के निदेशक श्री सुमित अरोड़ा ने अपने सम्बोधन मे सभी उत्तीर्ण छात्रों को उनकी प्रबन्धन की डिग्री पूरी करने के लिए बधाई दी। उन्होंने दीक्षान्त समारोह में माता-पिता की उपस्थिति की भी प्रशंसा की। अपने कारपोरेट अनुभव को साधा करते हुए श्री सुमित ने कहा कि वास्तविक लनिैंग काम करने के साथ शुरू होती है आप फ़ील्ड पर काम करते समय बहुत सारे कौशल सीखेंगे। उन्होंने सुझाव दिया कि प्रत्येक छात्र को फील्ड पर जाना चाहिए और अपना समय मार्केटिंग एवं सेल्स के लोगों के साथ बिताना चाहिए - यदि आप बाजार की जरूरतों को समझने में सक्षम है, तो आप किसी भी डोमेन में एक बेहतर प्रबंधक हो सकते है। उन्होंने उत्तीर्ण छात्रों से कहा कि आप अपने कार्य जीवन में पक्षपात और संगठनात्मक राजनीति की कठिन परिस्थितियों को सामना करेगें और इन सभी नकारात्मक शक्तियों को तोड़ने के लिए काम ही एकमात्र तलवार है। अपने प्रबंधक से अपेक्षा न रखें। आपने काम पर ध्यान दे और अपनी क्षमताओं के अनुसार इसे करते रहे, आपका काम ही आपके लिए इनाम लेकर आयेगा। उन्होंने छात्रों की सफलता में शिक्षकों और अभिभावकों के सहयोग की सराहना की। उन्होंने सभी उत्तीर्ण छात्रों के माता-पिता को सलाह दी कि आप उन्हें जोखिम लेने दें और वे नई ऊँचाईयों पर पहुंचेगे।

संस्थान की डीन डा0 शीतल शर्मा ने अतिथियों का स्वागत किया, अन्त में कार्यक्रम की मुख्य को-आर्डिनेटर डा0 ज्योतिश्री पाण्डे ने धन्यवाद ज्ञापति किया।



hindi news portal lucknow

सोनभद्र कांड पर CM योगी आदित्यनाथ बड़ा एक्शन : DM और SP को हटाया, विभागीय जांच की घोषणा

04 Aug 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

लखनऊ। उत्तर प्रदेश को सुर्खियों में लाने वाले सोनभद्र के नरसंहार पर रिपोर्ट मिलने ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने बड़ी कार्रवाई की है। योगी आदित्यनाथ ने सोनभद्र के जिलाधिकारी के साथ एसपी का तबादला करने के साथ ही वहां पर चार्ज लेने वाले अधिकारियों को हेलिकॉप्टर से सोनभद्र भेजा गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोनभद्र के डीएम और एसपी की विभागीय जाँच की घोषणा की।सोनभद्र जिले के घोरावल थाना इलाके के उभ्भा गांव में 17 जुलाई को 10 लोगों की सामूहिक हत्या के मामले में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डीएम अंकित अग्रवाल को हटा दिया है। अब एस राम लिंगम को सोनभद्र का नया जिलाधिकारी बनाया गया है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इस घटना में जो भी लोग जिम्मेदार हैं, अगर जीवित हैं तो सरकार उन पर भी कार्रवाई करेगी। सोनभद्र में जमीन विवाद में 10 लोगों की हत्या के बाद शासन से गठित उच्च स्तरीय समिति ने अपनी रिपोर्ट शनिवार शाम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंप दी। समिति ने इस मामले में राजस्व, सहकारिता व पुलिस विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों की कदम-दर-कदम मनमानी की पुष्टि की है। साथ ही विशेष जांच दल (एसआईटी) से मामले की विस्तृत जांच या अन्य उच्च स्तरीय जांच कराने की सिफारिश की है। मुख्यमंत्री ने रिपोर्ट को आवश्यक कार्यवाही के लिए अपर मुख्य सचिव गृह को दे दिया है। रिपोर्ट में सोनभद्र में जमीन हड़पने का पूरा खेल सरकारी तंत्र व प्रभावशाली नेताओं की मिलीभगत का नतीजा बताया गया है।सोनभद्र के घोरावल कोतवाली क्षेत्र के उभ्भा गांव में 17 जुलाई को हुए नरसंहार के मामले में जांच रिपोर्ट शासन को सौंपने के दूसरे दिन ही जिलाधिकारी अंकित कुमार अग्रवाल व पुलिस अधीक्षक सलमान ताज पाटिल को हटा दिया गया। उनकी जगह पर डीएम एस रामालिंगम व नए पुलिस अधीक्षक प्रभाकर चौधरी हेलीकाफ्टर से जिले में पहुंचे। यहां की विवादित जमीन को 2017 में बेचा गया। इसी के बाद खूनी संघर्ष नरसंहार में बदल गया। सोनभद्र के उम्भा ज़मीन विवाद में सभी दोषी अफसरों और कर्मचारियों पर एफआइआर दर्ज करने का आदेश।सभी मुकदमों की विवेचना के लिये एसआइटी का गठन। डीआइजी जे रवींद्र गौड़ एसआइटी के मुखिया बनाए गए।सीएम योगी आदित्यनाथ सोनभद्र के नरसंहार को लेकर बेहद नाराज थे। इस मामले की जांच का आदेश देने के साथ ही सीएम ने मॉनिटरिंग भी की। जांच रिपोर्ट मिलने के बाद सोनभद्र के डीएम व एसपी को हटाने के साथ उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई शुरू की गई है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोनभद्र कांड की जांच अपर मुख्य सचिव राजस्व रेणुका कुमार की अगुवाई में गठित तीन सदस्यीय टीम को सौंपी थी। टीम ने एक हजार पन्नों की रिपोर्ट सीएम योगी को सौंप दी है। सीएम योगी ने अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी को जांच कमेटी की सिफारिशों पर जल्द अमल किए जाने का निर्देश दिया है। टीम ने राजस्व, सहकारिता और पुलिस विभाग के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश की थी। सोनभद्र की 13 सहकारी समितियों पर भी कार्रवाई की सिफारिश की गई है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने बताया कि इसके साथ ही 1989 में राबर्ट्सगंज के तहसीलदार, एसडीएम के खिलाफ खिलाफ केस दर्ज किया गया है। मौजूदा एसडीएम, सीओ, सहायक परगना अधिकारी, एसओ, एसआई, सहायक निबंधक संस्पेंड करने के साथ इनके खिलाफ भी मुकदमा दर्ज किया गया है।सीएम ने सोनभद्र मामले पर की सख्त कार्रवाई की है। यहां पर 1952 के बाद से अब तक तैनात रहे बहुत से दोषी अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई होगी। इनके खिलाफ केस भी दर्ज होगा। पूर्व अधिकारी अगर जीवित हैं तो उन पर भी मुकदमा होगा। यहां पर गलत ढंग से जमीन अपने नाम कराने वाले दो पूर्व आईएएस अफसरों की पत्नियों के खिलाफ भी मुकदमा होगा।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि बिहार के कांग्रेसी नेता ने जमीन कब्जा की थी। मीरजापुर और सोनभद्र में फर्जी सोसाइटी बनाकर एक लाख हेक्टेयर जमीन कब्जाई गई है। इनमें अधिकतर कांग्रेसी नेता है। इसकी जांच के लिये प्रमुख सचिव राजस्व रेणुका कुमार की अगुवाई में छह सदस्यीय कमेटी गठित की गई है। इनको तीन महीने में रिपोर्ट देनी होगी। योगी आदित्यनाथ कहा कि सोनभद्र और मिर्जापुर में एक लाख हेक्टेयर से अधिक की भूमि फर्जी सोसाइटी गठित करके हड़पने का काम अधिकांशतया कांग्रेस के समय हुआ है। अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार की अध्यक्षता में एक 6 सदस्यीय कमेटी गठित की जा रही है। यह टीम तीन महीने में अपनी विस्तारपूर्वक रिपोर्ट करेगी। जहां भी फर्जी सोसाइटी बनाकर जमीनों को हड़पने का कार्य हुआ है, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद मीडिया के सामने आए। उन्होंने कहा कि, वहां मैं खुद गया था। राजस्व व पुलिस से संबंधित मामलो की जांच की गई। मामले में दोषी पाए गए डीएम अंकित अग्रवाल व एसपी सलमान ताज पाटिल को हटा दिया गया है। प्रभाकर चौधरी नए एसपी होंगे। जांच में पाया गया है कि इस कांड का मुख्य कनेक्शन बिहार का था। जिसमें कांग्रेस के पूर्व नेताओं की भूमिका संदिग्ध रही। मुख्य आरोपी प्रधान यज्ञदत्त सपा से जुड़ा था।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि, इस विवाद की शुरूआत 10 अक्टूबर 1952 में कांग्रेस के एक नेता ने की थी। 1300 बीघा से अधिक की जमीन को 1989 में सोसाइटी की जमीन को व्यक्तिगत नाम पर पर किए जाने से विवाद शुरू हुआ। 2017 जमीन को बिक्री शुरू हो गई। फिर झगड़ा शुरू हुआ, जिसका अंत 17 जुलाई को देखने को मिला। 1989 में तैनात रहे राबर्ट्सगंज के तहसीलदार, एसडीएम के खिलाफ मुकदमा होगा। मौजूदा एसडीएम, सीओ, सहायक परगना अधिकारी, एसओ, एसआई, सहायक निबंधक को संस्पेंड कर दिया गया है। कोर्ट के आदेश के बिना प्रधान का साथ देने वाले एसपी अरुण प्रकाश पर भी कार्रवाई की जाएगी।सोनभद्र के उभ्भा गांव में 112 बीघा खेत के लिए बीते 17 जुलाई को 10 ग्रामीणों को मौत के घाट उतार दिया गया था। लगभग चार करोड़ रुपए की कीमत की 112 बीघा जमीन के लिए ग्राम प्रधान यज्ञदत्त गुर्जर 32 ट्रैक्टर लेकर पहुंचा था। इन ट्रैक्टरों पर लगभग 60 से 70 लोग सवार थे। यह लोग अपने साथ लाठी-डंडा, भाला-बल्लम और राइफल और बंदूक लेकर आए थे। गांव में पहुंचते ही इन लोगों ने ट्रैक्टरों से खेत जोतना शुरू कर दिया। जब ग्रामीणों ने विरोध किया तो यज्ञदत्त और उनके लोगों ने ग्रामीणों पर लाठी-डंडा, भाला-बल्लम के साथ ही राइफल और बंदूक से भी गोलियां चलानी शुरू कर दी। जिसमें मौके पर ही सात लोग की मौत हो गई। बाकी तीन ने अस्पताल जाते समय दम तोड़ दिया था।

इस मामले में 26 आरोपितों को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच न्यायालय में पहली पेशी के लिए लाया गया। विशेष न्यायाधीश एससी एसटी कोर्ट में पेश किया गया। इस दौरान सभी आरोपितों की कोर्ट में हाजिरी हुई। उसके बाद उन्हें न्यायिक अभिरक्षा में वापस जिला जेल पहुंचा दिया गया। आरोपितों की अगली पेशी 13 अगस्त को होगी।



hindi news portal lucknow

उन्नाव हादसे में CBI जांच को तैयार योगी सरकार

29 Jul 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

जिस न्याय के लिए एक रेप पीड़िता को थक कर योगी सरकार को जगाने के लिए आत्मदाह को मजबूर होना पड़ा था। जिस न्याय के लिए एक पिता को अपनी जान गंवानी पड़ी थी। रायबरेली में हुए सड़क हादसे ने एक बार फिर उसी काले अध्याय को खोल दिया है। दुष्कर्म पीड़िता की गाड़ी में ट्रक ने टक्कर मार दी, जिससे उसकी चाची और मां की मौत हो गई, वहीं रेप पीड़िता भी इस सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल हो गई हैं। पीड़िता को लखनऊ के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया है। दरअसल, रविवार को जेल में बंद अपने चाचा से मिलने जा रही पीड़िता की कार ट्रक से टकरा गई।इस हादसे में कार में मौजूद 2 लोगों की मौत हो गई। यह रेप कांड भारतीय जनता पार्टी के विधायक कुलदीप सेंगर से जुड़ा हुआ है। इस घटना के बाद सावलों में घिरी योगी सरकार सीबीआई जांच को तैयार हो गई है। योगी सरकार ने कहा है कि पीड़िता का परिवार चाहे तो मामले की सीबीआई जांच कराने के लिए सरकार तैयार है। दूसरी तरफ पीड़िता की मां ने रेप के आरोपी भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर एक्सीडेंट और हत्या कराने का आरोप लगाते हुए कहा कि विधायक रोज कचहरी में मारने की बात करता था, आखिर एक्सीडेंट करवा दिया।बता दें कि ट्रक का नंबर प्लेट को काले पेंट से छिपाया जाने की खबर है। ट्रक के नंबर प्लेट को काले पेंट से ढकने की बात पर एडीजी ने कहा, हमें इसकी कोई जानकारी नहीं है लेकिन ट्रक और कार दोनों की फरेंसिक जांच कराई जाएगी और ऐक्शन लिया जाएगा। ट्रक पर फतेहपुर जिला का पंजीकरण प्लेट हैं।’ बताया जा रहा है कि जिस ट्रक से कार की टक्कर हुई है, उस पर सिर्फ यूपी 71 लिखा हुआ है। नंबर प्लेट पर लिखे नंबर को छुपाने के लिए उसे काले रंग से रंग दिया गया है। बता दें कि पीड़िता ने वर्ष 2017 में उन्नाव से भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर बलात्कार का आरोप लगाया था। इस मामले में सेंगर को गिरफ्तार किया गया था। पीड़िता द्वारा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के लखनऊ स्थित सरकारी आवास के बाहर आत्मदाह की कोशिश किए जाने के बाद यह मामला प्रकाश में आया था।



hindi news portal lucknow

सोनभद्र घटना: कांग्रेस और सपा नेताओं पर बरसे योगी, कहा- घड़ियाली आंसू बहाने वालों का करेंगे पर्दाफाश

21 Jul 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

सोनभद्र (उप्र)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोनभद्र हत्याकांड के लिये कांग्रेस और सपा के नेताओं को रविवार को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि उन्हें इसकी सजा के लिये तैयार रहना चाहिये। योगी ने सोनभद्र के उम्भा गांव में बुधवार को जमीन पर कब्जे को लेकर हुई गोलीबारी में मारे गये लोगों के परिजन से मुलाकात के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में प्रियंका पर परोक्ष रूप से हमला करते हुए कहा कि उनकी सरकार इस वारदात की तह में जाएगी और घड़ियाली आंसू बहाने वालों का पर्दाफाश करेगी। उन्होंने सपा को भी घेरे में लेते हुए कहा, यह बात सामने आयी है कि इस मामले की तह में कांग्रेस के नेताओं का पाप है। जिन लोगों ने यह पाप किया, उनकी समाजवादी पार्टी के साथ आर्थिक साझेदारी रही है। उन लोगों के खिलाफ सरकार ने सख्त कार्रवाई भी की है।

योगी ने एक सवाल पर कहा कि कांग्रेस और सपा के नेता इस पाप के लिये जिम्मेदार हैं और इसकी सजा के लिये उन्हें तैयार भी रहना चाहिये। मालूम हो कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने करीब 30 घंटे तक मिर्जापुर के चुनार गेस्ट हाउस में हिरासत में रहने के दौरान शनिवार को सोनभद्र हत्याकांड के पीड़ित परिवारों से मुलाकात की थी। गत बुधवार को सामूहिक हत्याकांड में 10 लोगों के मारे जाने की घटना के बाद पहली बार सोनभद्र पहुंचे योगी ने कहा कि आजादी के बाद वर्ष 1955 में कांग्रेस की सरकार ने सोनभद्र में पार्टी के एक वरिष्ठ नेता के नाम पर जनजाति के लोगों की भूमि को एक पब्लिक ट्रस्ट के नाम कर दिया। वर्ष 1989 में उस ट्रस्ट से जुड़े लोगों के नाम पर वह जमीन कर दी गयी। वर्ष 2017 में वह जमीन कुछ लोगों को बेची गयी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस गड़बड़ी की जांच के लिये राजस्व विभाग के प्रमुख सचिव की अध्यक्षता में एक समिति गठित की गयी है जो 10 दिन में रिपोर्ट देगी। इसके अलावा इस घटना में पुलिस की तरफ से कहां-कहां लापरवाही हुई है, इसकी जांच वाराणसी जोन के अपर पुलिस महानिदेशक को सौंपी गयी है।



12345678910...