उत्तर प्रदेश

hindi news portal lucknow

मोदी को PM बनाने के लिए देशवासी भाजपा को देंगे 400 सीटें: योगी आदित्यनाथ

26 Apr 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

कुशीनगर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोकसभा चुनाव में पूरे देश में भाजपा को 400 सीटें मिलने का दावा किया। योगी ने यहां भाजपा प्रत्याशी विजय कुमार दुबे के समर्थन में आयोजित जनसभा में कहा पूरे देश में एक ही लहर है, हर जागरूक मतदाता की एक ही तमन्ना है कि नरेन्द्र मोदी फिर से प्रधानमंत्री बनें। जब जनता इस संकल्प के साथ जुड़ चुकी है तो कोई भी ताकत मोदी को दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने से रोक नहीं सकती है। उन्होंने दावा किया कि मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिये देश में जो 400 सीटें भाजपा को प्राप्त हो रही हैं, वे विजय के हार के मनके (मोती) होंगी। मैं यहां इसलिये आया हूं कि कुशीनगर सीट भी उस हार का हिस्सा बने।

योगी ने कहा कि यह उत्साह अचानक नहीं आया है। याद करिये आज से पांच साल पहले का वह समय, जब कांग्रेस का कुशासन था। कांग्रेस ने 10 सालों तक राज किया। आजादी के बाद लगभग 55 साल तक कांग्रेस की सरकारें देश में रहीं। ना जाने कौन-कौन से घोटाले सामने आते थे। उस वक्त के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह कहते थे कि देश के संसाधनों पर पहला हक मुसलमानों का है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के जमाने में 270 से ज्यादा जिले नक्सलवाद, आतंकवाद और उग्रवाद से प्रभावित थे। हमारे जवान और नागरिक मारे जाते थे, सरकार खामोश रहती थी। पाकिस्तान हमारे जवानों के सिर काट ले जाता था। चीन भारत की सीमा में अंदर घुस आता था, मगर प्रधानमंत्री के आने के बाद स्थिति में परिवर्तन हुआ है।उन्होंने दावा किया कि मोदी को एक बार फिर प्रधानमंत्री बनने दीजिये, नक्सलवाद, आतंकवाद और उग्रवाद देश की धरती से समाप्त हो जाएगा। भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक करके पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दिया। योगी ने कहा कि मोदी ने पांच वर्षों में डेढ़ करोड़ गरीबों को मकान दिये, सात करोड़ महिलाओं को रसोई गैस कनेक्शन दिये। साढ़े 12 करोड़ किसानों को किसान सम्मान योजना से जोड़ा, 37 करोड़ लोगों के जन-धन खाते खुलवाये। आयुष्मान भारत के तहत सालाना पांच लाख रुपये का इलाज कवच दिया। उन्होंने कहा कि एक तरफ भाजपा राष्ट्रवाद के मुद्दे पर चुनाव लड़ रही है जिसे देखकर देश गौरव महसूस कर रहा है। वहीं, कांग्रेस का घोषणापत्र सीधे-सीधे देश के 130 करोड़ जनता का अपमान है। वह कहती है कि देशद्रोह की व्यवस्था खत्म कर देगीं। वह कांग्रेस देश का कल्याण कैसे करेगी। योगी ने दावा किया कि उत्तर प्रदेश में 74 से ज्यादा सीटें भाजपा जीतेगी।



hindi news portal lucknow

मोदी को आड़े हाथों लेते हुए अखिलेश बोले, प्यासे बुंदेलखण्ड के लिए PM ने कुछ नहीं किया

26 Apr 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

झांसी। सपा प्रमुख एवं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने शुक्रवार को कहा कि गुजरात के कच्छ की खुशहाली की कहानी सुनाकर गये प्रधानमंत्री ने प्यासे बुंदेलखण्ड की दुश्वारी दूर करने के लिये कुछ नहीं किया। अखिलेश ने एक चुनावी जनसभा में कहा कि कुछ ही दिन पहले यहां आये मोदी गुजरात के जलसंकटग्रस्त कच्छ की कहानी सुनाकर गये थे। कह रहे थे कि जहां पर कभी लोगों को पानी नहीं मिलता था, अब वहां के लोगों का जीवन बदल गया है। मगर, सचाई यह है कि उन्होंने प्यासे बुंदेलखण्ड के लिये कुछ भी नहीं किया।उन्होंने कहा कि चौकीदार वाली बात बाद में आयेगी, लेकिन सोचो, क्या आप लोग वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान मोदी के वादों को भूल गये हैं। हम झांसी और आसपास के लोगों से पूछना चाहते हैं कि पिछले पांच साल में आपके जीवन में क्या बदलाव आया। सपा अध्यक्ष ने क्षेत्रीय भाजपा सांसद उमा भारती पर निशाना साधते हुए कहा याद कीजिये वह पानी वाले विभाग की मंत्री थीं। उनके पास गंगा सफाई की जिम्मेदारी थी, कहा था कि अगर गंगा साफ नहीं हुई तो वह पता नहीं क्या कर देंगी, हम कह भी नहीं सकते। खैर अभी तो बुंदेलखण्ड में पानी नहीं है। डूबने के लिये तुम्हें कहीं और जाना होगा। उनकी हिम्मत नहीं पड़ी कि अपनी झांसी की जनता का सामना कर लें। उन्होंने कहा कि एक अपने प्रदेश में बाबा मुख्यमंत्री भी हैं। पहली बार जब बाबा मुख्यमंत्री आपके यहां आये थे, तो बुंदेलखण्ड एक्सप्रेस-वे बनवाने और झांसी में मेट्रो स्टेशन बनवाने की बात कहकर गये थे। कल तक तो हमें बाबाओं पर बहुत भरोसा था लेकिन अब पता नहीं हमें उन पर भरोसा रहेगा या नहीं। आप लोग बताइये कि कहां है मेट्रो स्टेशन?, हम भी मेट्रो पर बैठना चाहते हैं। अखिलेश ने कहा कि हमारे बाबा मुख्यमंत्री सड़क और एक्सप्रेसवे के बारे में कुछ नहीं जानते। उन्होंने कहा कि हम बुंदेलखण्ड एक्सप्रेस-वे बना देंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश की पिछली सपा सरकार ने झांसी में विकास कार्यों के लिए जितना धन देना था, दे दिया लेकिन केन्द्र सरकार ने अभी तक अपनी जिम्मेदारी पूरी नहीं की है।



hindi news portal lucknow

मोदी विरोध में अदावत हुई दूर, सपा-बसपा की दोस्ती भरपूर

19 Apr 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

लखनऊ। मायावती के प्रचार पर लगी रोक हट चुकी है, आज वो कभी अपने राजनीतिक दुश्मन रहे मुलायम सिंह यादव के लिए वोट मांगने मैनपुरी में मौजूद रहीं। मैनपुरी के क्रिश्चियन फील्ड में आयोजित महागठबंधन की उस रैली में मोदी को हटाने के संकल्प के साथ मुलायम सिंह यादव, मायावती और अखिलेश यादव एक साथ मौजूद रहें। मायावती के साथ उनके भतीजे आकाश भी मंच पर उपस्थित थे।

रालोद अध्यक्ष अजीत सिंह इस रैली में शामिल नहीं हुए है। रैली के जरिए महागठबंधन प्रतिद्वंद्वियों को यह संदेश देने की कोशिश कि की सभी दल बीजेपी के खिलाफ एकजुट हैं। शुरू में ऐसी खबरें थीं कि मुलायम रैली में शामिल नहीं होंगे। लेकिन सपा के संरक्षक रैली में शामिल भी हुए और चुनाव में भरपूर बहुमत मिलने की प्रतिबद्धता भी जताई। मुलायम ने मायावती का अभिनंदन करते हुए कहा कि आखरी बार चुनाव लड़ रहा हूं, पहले से ज्यादा वोटों से जिताना। साथ ही सहयोगियों को भी जिताने की मुलायम ने अपील की।

मायावती ने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि गेस्टहाउस कांड को भूलकर भी साथ चुनाव लड़ रहे हैं। पिछड़े लोग मुलायम को ही अपना नेता मानते हैं। मुलायम ने सभी समाज के लोगों को जोड़ा है। मुलायम सिंह मोदी की तरह फर्जी पिछड़े वर्ग के नेता नहीं है। मायावती ने मोदी पर हमला करते हुए कहा कि महागठबंधन को ही कामयाब बनाना है और नरेंद्र मोदी पर गरीबों, पिछड़ों का हक मारने का आरोप लगाया। मायावती कांग्रेस को भी निशाने पर लेते हुए कहा कि कांग्रेस ने भी अपने वादों को पूरा नहीं किया। कांग्रेस की न्याय योजना सिर्फ दिखावा है। कांग्रेस गरीबों का वोट पाने के लिए पूरे देश में घुम रही है। हम गरीबों को स्थायी नौकरी के साधन देंगे।सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी मुलायम सिंह यादव के पक्ष में वोट करने की अपील करते हुए भाजपा पर तीखे हमले किए। अखिलेश ने कहा कि देश अभी नाजुक दौर से गुजर रहा है, देश के किसान दुःखी हैं । ये चुनाव देश के भविष्य से जुड़ा है। हमें नया प्रधानमंत्री बनाना है, लोगों की नौकरी, रोजगार खत्म हो गया। नया पीएम बनेगा तभी नया भारत बनेगा।



hindi news portal lucknow

बैन के बाद विरोधियों पर बरसे योगी, कहा- दो चरण में सपा-बसपा-कांग्रेस हुई जीरो

19 Apr 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

संभल। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को कहा कि लोकसभा चुनाव के लिए मतदान के संपन्न हो चुके दो चरणों में सपा, बसपा और कांग्रेस शून्य रहे हैं। चुनाव आयोग द्वारा लगाए गए 72 घंटे के प्रचार प्रतिबंध की सीमा समाप्त होने के बाद योगी ने यहां एक जनसभा में कहा, मतदान के दो चरण हो चुके हैं। भाजपा को सबसे ज्यादा वोट मिले हैं। उन्होंने कहा, दो चरणों में 16 सीटों पर सपा जीरो, बसपा जीरो और कांग्रेस जीरो रहे हैं । मुख्यमंत्री ने कहा कि संभल का गौरवशाली इतिहास रहा है लेकिन कुछ लोगों ने इसकी पहचान को बदल कर रख दिया। गुंडाराज, अराजकता और भ्रष्टाचार ने इसकी पहचान को बदल कर रख दिया ‘‘लेकिन हम इसकी पहचान को फिर से कायम करने आये हैं।’’ उन्होंने कहा कि सपा सरकार ने कैला देवी मंदिर का सौंदर्यीकरण नहीं किया। सपा सरकार भेदभाव करती रही, लेकिन हमारी सरकार में भेदभाव नहीं हो सकता है। सम्भल के कैला देवी में आयोजित सभा में योगी ने कहा, तीन दिन तक बजरंग बली की साधना करने के बाद आपके पास आया हूं। यहां मैंने मां केला देवी के दर्शन किए हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पांच साल में अभूतपूर्व विकास किया है और बिना किसी भेदभाव के काम किया है। याद करिए, कांग्रेस की सरकार थी, मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे तो उन्होंने कहा था कि देश के संसाधनों पर पहला अधिकार मुस्लिमों का है जबकि मायावती ने अभी सहारनपुर की रैली में कहा कि मुसलमानों, एक हो जाओ ।सपा-बसपा गठबन्धन को वोट करो। हमने कभी जाति मजहब के नाम पर वोट नहीं मांगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सपा सरकार में उत्तर प्रदेश में बिजली नहीं मिलती थी । बहन बेटियों की इज्ज़त खतरे में रहती थी । तेजाब हमले होते थे। आज ऐसा कोई नहीं कर सकता । ऐसा करने वाले को कठोर सजा मिलेगी। योगी ने आजम खां का नाम लिये बगैर कहा कि सपा का एक जीव रामपुर में रहता है जो बाबा भीमराव आंबेडकर के बारे में कैसी भाषा का उपयोग करता था । आज बाबा साहेब का अपमान करने वाले के लिए मायावती वोट मांग रही हैं।



hindi news portal lucknow

दीनदयाल और लोहिया व्यक्ति अलग थे लेकिन विचार एक ही थे: टण्डन

15 Apr 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

लेखक कुमार अशोक पाण्डेय की लोहिया और दीन दयाल पुस्तक जनता को समर्पित

वरिष्ठï पत्रकार प्रभात त्रिपाठी सहित कई पत्रकार सम्मानित

लखनऊ। लोकहित प्रकाशन उप्र द्वारा विमोचन एवं साहित्यका सम्मान समारोह हिन्दी संस्थान के यशपाल सभागार में संपन्न हुआ। समारोह के मुख्य अतिथि बिहार के राज्यपाल लालजी टण्डन थे, जिन्होंने कुमार अशोक पाण्डेय की दीन दयाल और लोहिया नामक पुस्तक का विमोचन करते हुए कहा कि लोहिया और दीन दयाल व्यक्ति अलग थे लेकिन उनके विचार एक ही थे।

मुख्य अतिथि लालजी टण्डन ने इस समारोह का शुभारंभ करते हुए कहा कि बुन्देखण्ड की वीरगाथा-परम्पराएं सदैव प्रेरणा स्रोत रही है। दीन दयाल जी के विचार सर्वे भवन्तु सुखिन: के भाव को समेटे हुए है व राष्टï्र में सांस्कृतिक भावों को प्रसार करते है। व्यक्ति में राष्टï्रवाद की भावना भरने वाले है। उन्होने तीन पुस्तकों को विमोचन और साहित्यकार व पत्रकारों को सम्मानित भी किया।

हिन्दी संस्थान के यशपाल सभागार में आयोजित सांस्कृतिक राष्टï्र के आइने में-लोहिया और दीन दयाल समारोह में विमोचन एवं सम्मान समारोह में भाग लेते हुए बिहार के राज्यपाल महामहिम लालजी टण्डन ने अपने कई पुराने स्मरणों को उपस्थित संघ के कई पुराने दिग्गज साथियों के बीच रखे। उन्होंने बताया कि किस तरह से वह लोहिया जी व दीन दयाल के बीच के सेतु बने। उन्होंने काफी हाउस के स्मारणों को ताजा करते हुए बताया कि लोहिया जी और दीन दयाल को किस तरह से उन्होंने काफी में बुलाकर दोनों की बात कराई। टण्डन जी ने भावुक होकर दीन दयाल और लोहिया जी को याद किया। लालजी टण्डन ने कहा कि देश की आजादी के बाद जिस तरह से गांधी को लोग मानते थे उसी तरह लोहिया जी और दीन दयाल जी का राष्टï्रवाद के प्रति एक बड़ा योगदान था। समारोह का संचालन पुस्तक के लेखक व संपादक कुमार अशोक पाण्डेय ने किया। समारोह में विशिष्टï अतिथि के रूप में अखिल भारतीय साहित्य परिषद के प्रदेश महामंत्री डॉ. पवनपुत्र बादल एवं वरिष्ठï सामाजिक कार्यकर्ता प्रद्युम्न जी रहे। समारोह की अध्यक्षता श्रेष्ठï विचारक विद्वान राष्टï्रधर्म पत्रिका के प्रभारी निदेशक सर्वेश चंद्र द्विवेदी ने की। इस कार्यक्रम में अखिल भारतीय साहित्य परिषद की पत्रिका साहित्य परिक्रमा के बुन्देलखण्ड विशेषांक का लोकार्पण भी हुआ। जिसमें विशेषांक का परिचय साहित्य परिक्रमा के संपादक डा. पवनपुत्र बादल ने कराया जिसमें बुन्देलखंड से जुड़ी कर्ईरोचक जानकारियां उपस्थित साहित्य प्रेमियों को दी। समारोह में राम जी भाई की कृति बड़ी सोच की छोटी कहानियों को भी लोकार्पण भी किया गया एवं इस कृति का परिचय साहित्यकार श्री रामकृष्ण चतुर्वेदी ने दिया।

समारोह में साहित्यकारों के साथ-साथ कई वरिष्ठï पत्रकार विजय त्रिपाठी, श्याम कुमार सिंह, प्रभात कुमार त्रिपाठी, आलोक अवस्थी, सुरेंद्र अग्निहात्री, संजय शर्मा व विजय उपाध्याय को अंग वस्त्र व प्रतीक चिन्ह देकर राज्यपाल महोदय ने सम्मानित किया। इस कार्यक्रम में भाजपा व संघ से जुड़े सैकड़ों कार्यकर्ता व साहित्यकार व पत्रकार मौजूद थे। मौजूदगी में कुमार अशोक की पत्नी चेतना पाण्डेय व पुत्र हर्षित पाण्डेय सहित वरिष्ठï पत्रकार अमिताभ त्रिवेदी भी मौजूद थे।



hindi news portal lucknow

मायावती ने शाह के आंबेडकर वाले बयान को बताया मिथ्या और शरारतपूर्ण

14 Apr 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

लखनऊ। बसपा सुप्रीमो मायावती ने रविवार को भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह के इस बयान को मिथ्या और शरारतपूर्ण करार दिया कि बसपा चुनाव के समय ही आंबेडकर को याद करती है। मायावती ने टवीट कर कहा कि बीजेपी प्रमुख (अमित) शाह का कहना कि बसपा चुनाव के समय में ही डॉ. आंबेडकर को याद करती है, मिथ्या और शरारतपूर्ण बयान है। उन्होंने कहा कि बसपा बाबा साहेब से दिन-रात साल में 365 दिन प्रेरणा लेकर सर्वसमाज के हित में काम करने वाला आंदोलन है और सरकार में रहकर उनके आदर-सम्मान में ऐतिहासिक काम करती है।उल्लेखनीय है कि अमित शाह ने शनिवार को चुनावी जनसभा में कहा था कि जब चुनाव आता है तब बहन जी को आंबेडकर जी याद आते हैं लेकिन चुनाव जीतने पर वह केवल अपनी मूर्तियां ही लगवाती हैं। मायावती ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि भाजपा नेताओं ने विकास, कालाधन, भ्रष्टाचार, गरीबी, बेरोजगारी और किसानों आदि को भुलाकर राष्ट्रवाद और राष्ट्रीय सुरक्षा को इस चुनाव में भुनाना शुरू किया है। उन्होंने कहा कि किन्तु उसमें भी असफल होने पर अब मतदाताओं को उनका काम ना करने की धमकी देना जैसा कि श्रीमती मेनका गांधी द्वारा किया गया, यह अति-निन्दनीय है। उल्लेखनीय है कि सुल्तानपुर से भाजपा उम्मीदवार केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने मुस्लिम मतदाताओं से हाल ही में कहा कि वे आगामी लोकसभा चुनाव में उनके पक्ष में मतदान करें क्योंकि मुसलमानों को चुनाव के बाद उनकी जरुरत पड़ेगी।बीजेपी प्रमुख श्री शाह का कहना कि बीएसपी चुनाव के समय में ही डा अम्बेडकर को याद करती है मिथ्या व शरारतपूर्ण बयान है। बीएसपी बाबा साहेब से दिन-रात साल में 365 दिन प्रेरणा लेकर सर्वसमाज के हित में काम करने वाला मूवमेन्ट है व सरकार में रहकर उनके आदर-सम्मान में ऐतिहासिक काम करती है।



hindi news portal lucknow

सतीश मिश्रा ने EC में दर्ज कराई शिकायत, कहा- पुलिस ने BSP समर्थकों को वोट डालने से रोका

11 Apr 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

लखनऊ। लोकसभा चुनाव के पहले चरण के जारी मतदान के बीच ईवीएम की खराबी की खबरें सामने आ रही है। बता दें कि उत्तर प्रदेश के बिजनौर की महिलाओं ने आरोप लगाया कि उन्होंने किसी और निशान पर बटन दबाया लेकिन सामने दूसरा चिह्न का दिखाई दिया। वहीं बिहार की हम पार्टी प्रमुख जीतन राम मांझी ने सीधे तौर पर प्रशासन और चुनाव आयोग पर आरोप लगाते हुए कहा कि जानबूझकर खराब ईवीएम मशीन लगाई गई है।

इसके अतिरिक्त बसपा नेता एससी मिश्रा ने पुलिस फोर्स पर सीधेतौर पर आरोप लगाते हुए कहा कि हमारे वोटरों को पोलिंग बूथ पर जाने से पुलिस ने रोका है। बसपा ने कहा कि कई पोलिंग बूथों पर बसपा समर्थकों को खासकर दलितों को पुलिस द्वारा वोट डालने से रोका जा रहा है। हालांकि, बसपा ने इसकी शिकायत चुनाव आयोग से कर दी है और आरोप लगाया है कि प्रशासन के इशारे में पुलिस ऐसा कर रही है। गौरतलब है कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश की आठ सीटों पर 3 बजे तक 50.86 प्रतिशत मतदान होने की खबर है। उत्तर प्रदेश के निर्वाचन कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक मतदान पूरी तरह से शांतिपूर्ण रहा है।



hindi news portal lucknow

बसपा ने जारी की पूर्व मंत्री समेत 5 प्रत्याशियों की तीसरी सूची

09 Apr 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने मंगलवार को लोकसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों की तीसरी सूची जारी कर दी है। तीसरी सूची में धौरहरा, कैसरगंज, सीतापुर, मोहनलालगंज सुरक्षित व फतेहपुर जैसी पांच लोकसभा सीटों पर उम्मीदवारों के नामों को तय किया गया है। चौथे चरण के मतदान वाले क्षेत्र के इन पांच प्रत्याशियों में बसपा सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे नकुल दुबे को सीतापुर से, अरसद अहमद सिद्दीकी को धौरहरा से, सीएल वर्मा को मोहनलालगंज से, सुखदेव प्रसाद को फतेहपुर से और चंद्रदेव राम यादव को आज कैसरगंज से प्रत्याशी घोषित किया है।

गौरतलब है कि इन प्रत्याशियों ने नाम घोषित होने से पूर्व ही अपना प्रचार अभियान कर दिया था। बता दें कि समाजवादी पार्टी व राष्ट्रीय लोकदल के साथ गठबंधन में बसपा के खाते में 38 सीट हैं। इन पांच को मिलाकर बसपा ने अब तक 22 प्रत्याशियों के नाम तय कर दिए हैं।



hindi news portal lucknow

भाजपा ने आजमगढ़ से निरहुआ को दिया टिकट, मैनपुरी से प्रेम सिंह मैदान में

03 Apr 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

लखनऊ। लोकसभा चुनाव के मद्देनजन भारतीय जनता पार्टी ने प्रत्याशियों की नई लिस्ट जारी की है। बता दें कि इस लिस्ट में भोजपुरी सुपरस्टार दिनेश लाल यादव उर्फ निरहुआ को आजमगढ़ से टिकट दिया गया है। वहीं, मुंबई नॉर्थ ईस्ट से किरीट सोमैया का टिकट काटाकर मनोज कोटक को टिकट दिया गया है।

जारी की गई नई सूची में भाजपा ने रायबरेली से दिनेश प्रताप सिंह को कांग्रेस प्रत्याशी सोनिया गांधी के खिलाफ उतारा है। वहीं मैनपुरी से मुलायम सिंह यादव के खिलाफ प्रेम सिंह शाक्या को टिकट दिया गया है। इसके अतिरिक्त मछली शहर से वीवी सरोज, फिरोजाबाद से चंद्रसेन जादौं को चुनावी मैदान में उतारा गया है।



hindi news portal lucknow

पहले चरण के चुनाव में उत्तर प्रदेश के कई दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर

01 Apr 2019 [ स.ऊ.संवाददाता ]

लखनऊ। लोकसभा चुनाव के लिए प्रचार करने में राजनीतिक दल कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं और उत्तर प्रदेश के पश्चिमाञ्चल स्थित 8 सीटों पर आगामी 11 अप्रैल को होने वाले पहले चरण के मतदान में कई दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर होगी। प्रथम चरण में सहारनपुर, कैराना, मुजफ्फरनगर, बिजनौर मेरठ, बागपत, गाजियाबाद और गौतम बुद्ध नगर सीटों के लिए मतदान होगा। इसमें राष्ट्रीय लोक दल प्रमुख पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी अजित सिंह, उनके बेटे जयंत चौधरी और मौजूदा केंद्रीय मंत्रियों पूर्व सेना प्रमुख वी.के.सिंह तथा डॉक्टर महेश शर्मा समेत कई दिग्गजों का सियासी भविष्य तय होगा।

पहले चरण में मुजफ्फरनगर सीट पर सपा-बसपा-रालोद महागठबंधन के प्रत्याशी के तौर पर रालोद प्रमुख अजित सिंह की प्रतिष्ठा दांव पर होगी। वहां उनका मुकाबला भाजपा के मौजूदा सांसद संजीव बालियान से होगा। सिंह ने वर्ष 2014 का लोकसभा चुनाव बागपत से लड़ा था लेकिन वह हार गए थे। बागपत सीट पर इस बार अजित सिंह के बेटे जयंत चौधरी महागठबंधन के प्रत्याशी के तौर पर मैदान में हैं। वहां उनका मुकाबला मौजूदा सांसद, भाजपा के सत्यपाल सिंह और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी चौधरी मोहकम से है। गाजियाबाद सीट पर मौजूदा केंद्रीय मंत्री और पूर्व सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह का मुकाबला महागठबंधन के प्रत्याशी सुरेश बंसल और कांग्रेस उम्मीदवार डॉली शर्मा से है। सिंह वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में इसी सीट से भारी मतों से जीते थे।

नोएडा सीट से भाजपा के प्रत्याशी और मौजूदा केंद्रीय मंत्री डॉक्टर महेश शर्मा के सामने लगातार दूसरी बार इस सीट से संसद पहुंचने की चुनौती है। उनके मुकाबले में कांग्रेस ने डॉ अरविंद सिंह को उतारा है जबकि महागठबंधन के प्रत्याशी के तौर पर सत्यवीर नागर मैदान में है। सहारनपुर में मौजूदा भाजपा सांसद और प्रत्याशी राघव लखन पाल का मुख्य मुकाबला कांग्रेस के इमरान मसूद से है। पिछले साल हुए उपचुनाव में भाजपा से कैराना की सीट छीनने वाली मौजूदा सांसद और महा गठबंधन की प्रत्याशी तबस्सुम हसन के सामने एक साल के अंदर इस सीट को दूसरी बार जीतने की कड़ी चुनौती है। उनका मुख्य मुकाबला गंगोह सीट से मौजूदा विधायक भाजपा प्रत्याशी प्रदीप चौधरी तथा कांग्रेस उम्मीदवार पूर्व राज्यसभा सांसद हरेंद्र मलिक से है।

मेरठ सीट पर मौजूदा भाजपा सांसद और प्रत्याशी राजेंद्र अग्रवाल लगातार तीसरी बार जीतने की आस लगाए हुए हैं। बसपा ने यहां से महागठबंधन प्रत्याशी के तौर पर पूर्व मंत्री हाजी याकूब कुरैशी को उतारा है। वहीं, कांग्रेस ने प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबू बनारसी दास के बेटे हरेंद्र अग्रवाल को टिकट दिया है। बिजनौर सीट पर मौजूदा भाजपा सांसद कुंवर भारतेंद्र सिंह एक बार फिर मैदान में हैं। उनका मुकाबला कभी बसपा प्रमुख मायावती के विश्वसनीय रहे नसीमुद्दीन सिद्दीकी से है। महागठबंधन ने मलूक नागर को यहां से मैदान में उतारा है। आगामी 11 अप्रैल को मतदान होने के बाद वोटों की गिनती 23 मई को की जाएगी।



12345678910...