मध्य प्रदेश

hindi news portal lucknow

MP Election 2018: कमलनाथ बोले- सर्वे, ज्योतिषी नहीं, वोटर्स बनाएंगे कांग्रेस की सरकार

10 Dec 2018 [ स.ऊ.संवाददाता ]

भोपाल। पिछले 15 साल से प्रदेश की सत्ता से दूर कांग्रेस ने इस बार वापसी के लिए पूरी ताकत झोंक दी है। इसलिए कांग्रेस इस बार सत्ता में वापसी की उम्मीदें लगाए हुए है। विधानसभा चुनाव के नतीजे आने से एक दिन पहले खुद प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने एक बार फिर पार्टी की जीत का दावा किया है।

कमलनाथ ने फिर से अपनी बात को दोहराते हुए कहा कि इस बार मध्य प्रदेश में कांग्रेस को 140 सीटें मिलेंगी। इतना ही नहीं उन्होंने सर्वे और ज्योतिषियों को भविष्यवाणी को दरकिनार करते हुए कहा कि, प्रदेश के मतदाता कांग्रेस को सत्ता में लाएंगे। वहीं स्ट्रॉन्ग रूम के बाहर कई दिनों से जमे कार्यकर्ताओं की भी उन्होंने जमकर तारीफ की और उन्हें धन्यवाद दिया।

कांग्रेस के सत्ता में आने की सूरत में कमान इसके हाथों में होगी। इस सवाल के जवाब में कमलनाथ ने अपने पत्ते नहीं खोले। उन्होंने कहा कि, "हम 140 सीटें जीत रहे हैं। इंतजार कीजिए मंगलवार को नतीजे आने वाले हैं। सब साफ हो जाएगा।" पीसीसी चीफ कमलनाथ ने कहा कि, "चुनाव हार रही भाजपा मतगणना के दिन तमाम हथकंडे अपनाएगी, बाधाएं पैदा करेगी, कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का मनोबल तोड़ने का प्रयास करेगी, गड़बड़ी करने का प्रयास करेगी। लेकिन मुस्तैद रहकर इनका डटकर मुक़ाबला करना है। इनसे घबराये नहीं। भाजपा के नेता ख़ुद सच्चाई जानते हैं कि प्रदेश की जनता ने उनकी विदाई तय कर दी है। इसलिए बौखलाहट में वे अनर्गल बयान दे रहे हैं।"

वहीं ईवीएम को लेकर भी कमलनाथ ने कार्यकर्ताओं, उम्मीदवारों को सर्तक रहने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि, "ईवीएम में किसी प्रकार की गड़बड़ी दिखने पर और मतगणना को लेकर ज़रा सी भी शंका होने पर तुरंत आपत्ति दर्ज कराएं। जनादेश के साथ किसी भी प्रकार का खिलवाड़ नहीं होने दें। निराकरण नहीं होने की सूरत में उन्होंने लीगल सेल से संपर्क साधने को कहा है।"



hindi news portal lucknow

पहली बार किसी मंत्री पर कार्रवाई, MP के विधायक नरोत्तम मिश्रा अयोग्य घोषित

तीन साल तक नहीं लड़ सकेंगे चुनाव

24 Jun 2017 [ स.ऊ.संवाददाता ]

पेड न्यूज के मामले में चुनाव आयोग ने बड़ी कार्रवाई करते हुए मध्यप्रदेश के जन संपर्क मंत्री नरोत्तम मिश्रा को आयोग्य घोषित कर दिया है। चुनाव आयोग के इस फैसले के बाद अब नरोत्तम मिश्रा अगले तीन सालों तक कोई चुनाव नहीं लड़ सकेंगे।

नरोत्तम मिश्रा पर आरोप है कि मध्यप्रदेश में साल 2008 के विधानसभा चुनावों के दौरान पेड न्यूज पर खर्च की गई राशि को अपने चुनावी खर्च पर नहीं दिखाया था। 2009 में दतिया के पूर्व विधायक ने चुनाव आयोग में इसकी शिकायत की थी। काफी समय से ये मामला लंबित था जिस पर शनिवार को चुनाव आयोग ने फैसला सुनाया है।

गौरतलब है कि नरोत्तम मिश्रा इस मामले के खिलाफ 2015 में हाईकोर्ट भी गए थे लेकिन उनको वहां से कोई राहत नहीं मिली थी। हाईकोर्ट ने नरोत्तम मिश्रा की याचिका खारिज कर दी थी। नरोत्तम मिश्रा मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के काफी करीबी माने जाते हैं। उनके पास जल संसाधन, जनसंपर्क और संसदीय कार्य मंत्रालय का जिम्मा है।

इससे पहले 2011 में बाहुबली डीपी यादव को चुनाव आयोग ने बड़ा सियासी झटका दिया था। आयोग ने चुनाव में निर्धारित से अधिक रकम खर्च करने की शिकायत पर बिसौली से विधायक डीपी की पत्नी उमलेश यादव की सदस्यता रद्द कर दी थी।



hindi news portal lucknow

महाराष्ट्र के किसानों का 34 हजार करोड़ का कर्ज माफ, 89 लाख किसानों को होगा फायदा

24 Jun 2017 [ स.ऊ.संवाददाता ]

महाराष्ट्र सरकार ने किसानों को बड़ा तोहफा दिया है। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शनिवार को एक प्रेस कान्फ्रेंस के दौरान बताया कि उनकी सरकार ने किसानों का 34 हजार करोड़ का कर्ज माफ कर दिया है।

सीएम देवेंद्र फडणवीस ने बताया कि जिन किसानों ने 1.50 लाख तक का कर्ज लिया है उसे पूरी तरह से माफ कर दिया गया है। सरकार के इस फैसले से 90 फीसदी महाराष्ट्र के किसानों का कर्ज माफ हो जाएगा। इससे करीब 89 लाख किसानों को फायदा होगा।

इतना ही नहीं सरकार ने किसानों को 25 हजार रुपये की मदद देने की घोषणा भी की है।



hindi news portal lucknow

हिंसा में मारे गए किसानों के परिजनों से मिले शिवराज, पीड़ित परिवार को दिया 1 करोड़ का चेक

14 Jun 2017 [ स.ऊ.संवाददाता ]

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान किसान आंदोलन के दौरान पुलिस गोलीबारी में मारे गये किसानों के परिजनों से मिलने एवं सांत्वना देने के लिए आज विशेष विमान से मंदसौर पहुंचे। उनके साथ उनकी पत्नी साधना भी थीं।

वहां पहुंचने के बाद चौहान जिले के बडवन गांव में गये और छह जून को किसान आंदोलन के दौरान पुलिस गोलीबारी में मारे गये किसान नश्याम धाकड़ के परिजन से मुलाकात कर उन्हें सांत्वना दी।

इस दौरान मुख्यमंत्री ने धाकड़ के परिजन को एक करोड़ रुपये के मुआवजे का एक चेक दिया।

चौहान ने मंदसौर जिले के पिपलिया मंडी में किसान आंदोलन के दौरान छह जून को मारे गये पांच किसानों के परिजनों को एक एक करोड़ रुपये देने का वादा किया था।

उन्होंने मृतकों के परिजनों को यह भी आश्वासन दिया कि इस गोलीकांड में जिस किसी ने भी उनके प्रियजनों की हत्या की है, उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

चौहान इस गोलीकांड में मारे गये अन्य किसानों के परिजनों से भेंट करने के लिए आज लोध, नयाखेडा, पिपलिया मंडी, बरखेडा पंथ और बूढा गांव भी जाएंगे।

भोपाल में सिंधिया का 72 घंटे का सत्याग्रह

वहीं, कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया आज से भोपाल में सत्याग्रह पर बैठेंगे। कांग्रेस के प्रवक्ता जे पी धनोपिया ने बताया कि पार्टी ने आज दोपहर शुरु होने वाले 72 घंटे के इस सत्याग्रह के लिए दशहरा मैदान पर सभी तैयारियों को अंजाम दे दिया है। आज से सिंधिया का सत्याग्रह शुरु होगा, जिसमें सिंधिया के अलावा विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह और पार्टी की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष अरुण यादव भी शामिल होंगे।

हिंसा में मारे गए किसानों के परिवार को 6 करोड़ की आर्थिक सहायता मंजूर

राज्य सरकार ने एक जून को किसान आंदोलन में मंदसौर जिले के मृतक 6 लोगों के लिये मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान से प्रति व्यक्ति एक करोड़ रुपये यानि कुल 6 करोड़ रूपये की आर्थिक सहायता स्वीकृत कर दी है।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार, यह सहायता राशि मंदसौर जिला के कलेक्टर के माध्यम से ई-पेमेंट द्वारा मृतकों के परिजन को भुगतान की जायेगी। कलेक्टर मंदसौर को राशि की स्वीकृति देने के साथ ही राशि हस्तांतरित कर शीघ्र सहायता राशि देने के निर्देश दिये गये हैं।

मध्यप्रदेश में बनेंगे आदर्श किसान बाजार

किसानों को अपनी उपज सीधे बेचने की सुविधा देने के लिये प्रदेश में आदर्श किसान बाजार बनाये जायेंगे। ये जानकारी मंगलवार को भोपाल में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा गत 11 जून को की गयी किसान हितैषी घोषणाओं की समीक्षा के लिये ली गई बैठक में दी गई।

किसानों तक फसलों के सम्बन्ध में सही और वैज्ञानिक जानकारी पहुंचाने के लिये विलेज नॉलेज सेंटर बनाये जायेंगे। बिना किसान की सहमति के लिये विकास परियोजनाओं की भूमि नहीं ली जा सके, इसके लिये कानून में संशोधन किया जायेगा। इन घोषणाओं पर क्रियान्वयन भी शुरू हो गया है।

मुख्यमंत्री ने बैठक में निर्देश दिये कि किसानों हित के लिये की गयी घोषणाओं का क्रियान्वयन तेजी से किया जाए। संबंधित आदेश तुरंत जारी किया जाए। सभी मंत्री अपने-अपने विभागों में इनकी समीक्षा करें। एक सप्ताह बाद वे पुन: समीक्षा करेंगे। प्याज खरीदी की व्यवस्थाओं की लगातार मॉनीटरिंग किया जाए।

बताया गया कि सभी नगरीय निकायों और विकासखंड मुख्यालयों में किसान बाजार बनाये जायेंगे। इन बाजारों में किसान खुद फल, सब्जी जैसी अपनी उपजें बेच सकेंगे। नगरीय निकायों में नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग तथा ग्रामीण क्षेत्रों में ग्रामीण विकास विभाग किसान बाजार बनायेंगे। जिन मण्डियों में नीलामी नहीं हो रही है वहाँ पर भी किसान फल, सब्जी जैसी अपनी उपज बेच सकेंगे। इन बाजारों का संचालन सहकारी समिति करेगी।

विकासखंड स्तर से ग्राम स्तर तक किसानों को फसलों के संबंध में सही जानकारी और वैज्ञानिक सूचनाएं पहुंचाने के लिये विलेज नॉलेज सेंटर बनाये जायेंगे। इसकी तैयारी कृषि विभाग द्वारा की जा रही है। इन सेंटरों के माध्यम से किसानों को मौसम की जानकारी, फसलों की संभावनाओं और भूमि के उपयोग के बारे में जानकारी दी जायेगी।



hindi news portal lucknow

किसान आंदोलन: मारे गए किसानों के परिजनों से आज मंदसौर में मिलेंगे शिवराज, ज्योतिरादित्य का भोपाल में सत्याग्रह

14 Jun 2017 [ स.ऊ.संवाददाता ]

मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान आज मंदसौर में किसान आंदोलन के हिंसक होने के दौरान मारे गए किसानों के परिजनों से मुलाकात करेंगे, वहीं कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया आज से भोपाल में सत्याग्रह पर बैठेंगे।

कांग्रेस के प्रवक्ता जे पी धनोपिया ने बताया कि पार्टी ने आज दोपहर एक बजे शुरु होने वाले 72 घंटे के इस सत्याग्रह के लिए दशहरा मैदान पर सभी तैयारियों को अंजाम दे दिया है। आज से सिंधिया का सत्याग्रह शुरु होगा, जिसमें सिंधिया के अलावा विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह और पार्टी की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष अरुण यादव भी शामिल होंगे।

हिंसा में मारे गए किसानों के परिवार को 6 करोड़ की आर्थिक सहायता मंजूर

राज्य सरकार ने एक जून को किसान आंदोलन में मंदसौर जिले के मृतक 6 लोगों के लिये मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान से प्रति व्यक्ति एक करोड़ रुपये यानि कुल 6 करोड़ रूपये की आर्थिक सहायता स्वीकृत कर दी है।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार, यह सहायता राशि मंदसौर जिला के कलेक्टर के माध्यम से ई-पेमेंट द्वारा मृतकों के परिजन को भुगतान की जायेगी। कलेक्टर मंदसौर को राशि की स्वीकृति देने के साथ ही राशि हस्तांतरित कर शीघ्र सहायता राशि देने के निर्देश दिये गये हैं।

मध्यप्रदेश में बनेंगे आदर्श किसान बाजार

किसानों को अपनी उपज सीधे बेचने की सुविधा देने के लिये प्रदेश में आदर्श किसान बाजार बनाये जायेंगे। ये जानकारी मंगलवार को भोपाल में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा गत 11 जून को की गयी किसान हितैषी घोषणाओं की समीक्षा के लिये ली गई बैठक में दी गई।

किसानों तक फसलों के सम्बन्ध में सही और वैज्ञानिक जानकारी पहुंचाने के लिये विलेज नॉलेज सेंटर बनाये जायेंगे। बिना किसान की सहमति के लिये विकास परियोजनाओं की भूमि नहीं ली जा सके, इसके लिये कानून में संशोधन किया जायेगा। इन घोषणाओं पर क्रियान्वयन भी शुरू हो गया है।

मुख्यमंत्री ने बैठक में निर्देश दिये कि किसानों हित के लिये की गयी घोषणाओं का क्रियान्वयन तेजी से किया जाए। संबंधित आदेश तुरंत जारी किया जाए। सभी मंत्री अपने-अपने विभागों में इनकी समीक्षा करें। एक सप्ताह बाद वे पुन: समीक्षा करेंगे। प्याज खरीदी की व्यवस्थाओं की लगातार मॉनीटरिंग किया जाए।

बताया गया कि सभी नगरीय निकायों और विकासखंड मुख्यालयों में किसान बाजार बनाये जायेंगे। इन बाजारों में किसान खुद फल, सब्जी जैसी अपनी उपजें बेच सकेंगे। नगरीय निकायों में नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग तथा ग्रामीण क्षेत्रों में ग्रामीण विकास विभाग किसान बाजार बनायेंगे। जिन मण्डियों में नीलामी नहीं हो रही है वहाँ पर भी किसान फल, सब्जी जैसी अपनी उपज बेच सकेंगे। इन बाजारों का संचालन सहकारी समिति करेगी।

विकासखंड स्तर से ग्राम स्तर तक किसानों को फसलों के संबंध में सही जानकारी और वैज्ञानिक सूचनाएं पहुंचाने के लिये विलेज नॉलेज सेंटर बनाये जायेंगे। इसकी तैयारी कृषि विभाग द्वारा की जा रही है। इन सेंटरों के माध्यम से किसानों को मौसम की जानकारी, फसलों की संभावनाओं और भूमि के उपयोग के बारे में जानकारी दी जायेगी।



hindi news portal lucknow

किसान आंदोलनः कैलाश जोशी के हाथों नारियल पानी पीकर CM शिवराज ने तोड़ा उपवास

11 Jun 2017 [ स.ऊ.संवाददाता ]

मध्य प्रदेश में आंदोलन कर रहे मालवा के किसानों को मनाने के लिए भोपाल में उपवास पर बैठे मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज रविवार को अपना उपवास तोड़ दिया। शिवराज ने बीजेपी के वरिष्ठ नेता कैलाश जोशी के हाथों नारियल पानी पीकर अपना उपवास तोड़ा। इससे पहले शिवराज ने दावा किया था कि मंदसौर में मारे गये 4 लोगों के परिजनों ने उनसे मिलकर उपवास खत्म करने की भी अपील की। दूसरी ओर कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मैदान में उतर गए हैं। उन्होंने ऐलान किया गया है कि वे शिवराज सरकार के खिलाफ प्रदेश में 72 घंटों का सत्याग्रह करेंगे।

अनशन खत्म करने का आग्रह

मध्यप्रदेश भाजपा के अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि मंदसौर में हिंसा में मारे गए किसानों के परिजन ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से यहां मुलाकात की और उनसे अपना अनशन समाप्त करने का आग्रह किया। भाजपा नेता ने कहा कि मारे गए पांच किसानों में से चार के परिजनों ने मुख्यमंत्री से यह भी सुनिश्चित करने को कहा कि किसानों की मौत के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई हो।

शिवराज के खिलाफ ज्योतिरादित्य सिंधिया मैदान में उतरे

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के उपवास के जवाब में कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया अब मैदान में उतरेंगे। ये घोषणा की गयी है की कांग्रेस के युवा चेहरा और सांसद ज्योतिदित्य सिंधिया शिवराज सरकार के खिलाफ प्रदेश में 72 घंटों का सत्याग्रह करेंगे।



hindi news portal lucknow

शिवराज आज तोड़ सकते हैं उपवास, ज्योतिरादित्य सिंधिया शुरू करेंगे 72 घंटे का सत्याग्रह

11 Jun 2017 [ स.ऊ.संवाददाता ]

मध्य प्रदेश में आंदोलन कर रहे मालवा के किसानों को मनाने के लिए भोपाल में उपवास पर बैठे मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज रविवार को अपना उपवास तोड़ सकते हैं। मीडिया में चल रही खबरों के मुताबिक इस तरह के संकेत मिले है। वहीं मंदसौर में मारे गये 4 लोगों के परिजनों ने उनसे मिलकर उपवास खत्म करने की भी अपील की है। उधर कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मैदान में उतर गए हैं। ऐलान किया गया है कि वे शिवराज सरकार के खिलाफ प्रदेश में 72 घंटों का सत्याग्रह करेंगे।

हिंसा खत्म होने पर उपवास करेंगे खत्म-शिवराज

मीडिया में चल रही खबरों के मुताबिक शिवराज ने उनसे कहा था कि शांति होते ही वो उपवास खत्म कर देंगे। शिवराज ने कहा था कि यह उपवास उन्‍होंने प्रदेश में शांति के लिए किया है और जब तब हिंसा खत्‍म नहीं हो जाती और पूरे प्रदेश में शांति नहीं हो जाती, वो उपवास नहीं तोड़ेंगे। हालांकि उन्‍होंने इशारा किया कि रविवार को सभी परिस्थितयों को देखते हुए और तमाम लोगों से चर्चा करने के बाद ही वो अंतिम फैसला लेंगे।

अनशन खत्म करने का आग्रह

मध्यप्रदेश भाजपा के अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि मंदसौर में हिंसा में मारे गए किसानों के परिजन ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से यहां मुलाकात की और उनसे अपना अनशन समाप्त करने का आग्रह किया। भाजपा नेता ने कहा कि मारे गए पांच किसानों में से चार के परिजनों ने मुख्यमंत्री से यह भी सुनिश्चित करने को कहा कि किसानों की मौत के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई हो।

शिवराज के खिलाफ ज्योतिरादित्य सिंधिया मैदान में उतरे

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के उपवास के जवाब में कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया अब मैदान में उतरेंगे। ये घोषणा की गयी है की कांग्रेस के युवा चेहरा और सांसद ज्योतिदित्य सिंधिया शिवराज सरकार के खिलाफ प्रदेश में 72 घंटों का सत्याग्रह करेंगे।



hindi news portal lucknow

किसान आंदोलनः मध्य प्रदेश में शांति के लिए शिवराज का उपवास शुरू, कांग्रेस ने कहा-नौटंकी

10 Jun 2017 [ स.ऊ.संवाददाता ]

मध्यप्रदेश में चल रहे किसान आंदोलन के दसवें दिन आज प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान दशहरा मैदान में शांति बहाली के लिये अनिश्चितकालीन उपवास पर बैठ गये। उन्होंने किसानों को यहां समस्या के समाधान के लिये आने का आह्वान भी किया है। विपक्षी दल कांग्रेस ने इसे नौटंकी बताया है। फसल की बेहतर कीमत और कर्ज माफी करने सहित अन्य मांगों को लेकर प्रदेश में एक जून से किए जा रहे किसान आंदोलन का आज दसवां दिन है।

किसानों ने आंदोलन के शुरू में ही इसे दस दिन तक चलाने की घोषणा की थी। यह किसान आंदोलन तब हिंसक हो गया जब मंदसौर जिले में छह जून को पुलिस गोलीबारी में प्रदर्शन कर रहे पांच किसानों की मौत हो गयी और छह किसान घायल हो गये। इस घटना के बाद पूरे पश्चिम मध्यप्रदेश में हिंसा फैल गई थी। भेल क्षेत्र के दशहरा मैदान में इस मौके पर उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए चौहान ने कहा, मुझे पता है कि फसल उत्पादन बहुत अधिक हुआ है। अन्न के भंडार भर गये हैं, लेकिन जब फसल उत्पादन बढ़ता है तो फसल की कीमत गिरती है, और जब कीमत गिरती है, तो तकलीफ किसान और उसके परिवार को होती है। मैं किसानों की तकलीफ समझता हूं।

उन्होंने कहा, प्रदेश की सरकार आपके साथ है। मेहनत से पैदा किया गया फसल उत्पाद किसान से खरीदा जाएगा और उसे फसल का लाभदायक दाम दिया जाएगा। किसान की मेहनत किसी भी स्थिति में बेकार नहीं जायेगी। उन्होने कहा, सरकार ने किसानों से आठ एपये प्रतिकिलो के भाव से प्याज खरीदना शुरू कर दिया है और बड़ी मात्रा में प्याज खरीदा जा चुका है। उन्होंने किसानों को भरोसा दिलाते हुए कहा कि उनका पूरा प्याज सरकार द्वारा खरीदा जायेगा।

और तेज होगा किसान आंदोलन

दूसरी ओर दिल्ली में देश के अलग-अलग हिस्सों में चल रहे किसान आंदोलनों को लेकर अब एक साझा रणनीति बनाये जाने की तैयारी हो रही है। इसी सिलसिले में 50 किसान संगठनों के प्रतिनिधि आज दिल्ली में एक बैठक करेंगे जिसमें किसान आंदोलन को और तेज करने के लिए आगे की योजना पर विचार किया जाएगा। किसान संगठनों ने 9 अगस्त को देश भर के हाईवे को जाम करने की और जनवरी में दिल्ली में एक बड़ा किसान आंदोलन करने की योजना बनाई है।

इस बैठक को राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ के अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा की पहल पर बुलाई गई है। बैठक सुबह 10 बजे से दोपहर 3 बजे तक गांधी पीस फाउंडेशन में होगी। किसान आंदोलन सात राज्यों में चल रहा है जिनमें मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक,तेलंगाना, यूपी, राजस्थान और हरियाणा है। किसानों की जो मुख्य मांगे है उनमें लागत के आधार पर पचास प्रतिशत लाभकारी मूल्य दिए जाने, पूरी फसल खरीदी जाना और कर्ज माफी है।



hindi news portal lucknow

राहुल गांधी को पुलिस ने छोड़ा, राजस्थान सीमा पर किसानों के परिजनों से मिलेंगे

08 Jun 2017 [ स.ऊ.संवाददाता ]

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को नीमच के पास मध्य प्रदेश पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। राहुल मंदसौर में पुलिस फायरिंग में मारे गए किसानों के परिजनों से मुलाकात करने जा रहे थे। लगभग साढ़े तीन घंटे बाद उनको पुलिस ने छोड़ दिया है। वह हिंसा में मारे गए किसानों के परिजनों से राजस्थान सीमा पर मुलाकात करेंगे।

स्थानीय पुलिस ने पहले ही यह स्पष्ट कर दिया था कि उन्हें जिले में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। आपको बता दें कि मंदसौर में इस सप्ताह के शुरूआत में प्रदर्शनों में पांच किसान मारे गए थे।

इससे पहले गिरफ्तारी के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि​ ना किसानों का कर्ज माफ करते हैं, ना बोनस देते हैं, बस गोलियां देते हैं। राहुल गांधी ने जमानत लेने से इनकार कर दिया। कांग्रेस नेता एवं पूर्व सांसद मीनाक्षी नटराजन ने बताया कि गांधी ने मृतकों के परिजन से मिले बिना जमानत लेने से इनकार कर दिया है। उन्होंने बताया कि गांधी ने खाना भी नहीं खाया है और कहा है कि जब तक उन्हें किसानों के परिजन से मिलने नहीं दिया जाएगा तब तक वे खाना नहीं खाएंगे।

लाइव अपडेट्स:

5.33pm: शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्य प्रदेश सरकार किसानों से बातचीत करने को तैयार है।

5.30pm: मंदसौर में गिरफ्तार किए गए राहुल गांधी को बरी कर दिया गया है। वे राजस्थान सीमा पर परिजनों से मिलेंगे।

5pm: कर्फ्य़ू में शाम चार बजे से 6 बजे तक ढील दी गई है। लोग बाजारों में जरूरी चीजों की खरीददारी कर रहे हैं।

4.52pm: राजनाथ ने कहा कि कुछ ताकतें प्रदर्शन को हवा दे रही हैं। उन्होंने कहा कि जांच जारी है। आप रिपोर्ट आने का इंतजार कीजिए।

4.48pm: गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने मुंबई में एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि एनडीए की सरकार किसानों के विश्वास को नहीं टूटने देगी।

4.30pm: पुलिस और कांग्रेस के नेताओं ने मसले का हल निकाला। राहुल को राजस्थान सीमा पर छोड़ा जाएगा। जहां पर वे मृतक किसानों के परिजन से मिलेंगे।

4. 25pm: राहुल गांधी ने कहा कि मैंने पीड़ित पिरवारों से फोन पर बात की और उन्होंने ढ़ांढस बंधाया।

4.18pm: रायसेन जिले में प्रदर्शनकारियों ने नेशनल हाईवे 12 ब्लॉक किया और एमपी चीफ मिनिस्टर शिवराज सिंह चौहान का पुतला फूंका।

4.17pm: झाबुआ जिले में किसानों ने कोडली और करवाड क्षेत्रों में सड़क जाम की।

4.16pm: शाजापुर जिले में प्रदर्शन हुए। हजारों किसानों ने प्याज की खरीद को रोका और नेशनल हाईवे पर जमा लगाया। पत्थर फेंकने की भी घटनाएं हुई हैं।

4.13pm: सचिन पायलट ने कहा कि मृत किसानों के परिजन से हम करीब 1 किमी दूर हैं। वे हमसे मिलना चाहते हैं लेकिन पुलिस उन्हें रोक रही है।

4.10pm: मृत किसानों के परिजन राहुल गांधी से मिलने के लिए इंतजार करते हुए।

3.55pm: किसानों की लड़ाई हमारी लड़ाई है- राहुल गांधी

3.50pm: राहुल गांधी ने मृत किसानों की परिजन से फोन पर बात की। उन्होंने कहा कि वे किसानों से मिले बिना नहीं लौटेंगे।

2.45 PM: मेरी सरकार किसानों की सरकार है। जनता की सरकार है। मेरी जब तक सांस चलेगी, जनता और किसानों के लिए काम करता रहूंगा- सीएम शिवराज सिंह चौहान

2.40 PM: मंदसौर में 4 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक कर्फ्यू में ढील।

2.15 PM: राहुल गांधी, शरद यादव, कमल नाथ, सचिन पायलट, गिरिजा ब्यास और अन्य लोगों को शांति भंग करने के आरोप में नीमच जिला प्रशासन ने गिरफ्तार किया। ​विक्रम सीमेंट फैक्ट्री के गेस्ट हाउस को अस्थाई जेल घोषित करके सभी को वहीं रखा गया है।

2.10 PM: उज्जैन जिले में किसानों का विरोध प्रदर्शन, नेशनल हाइवे जाम

2.08 PM: धारा 144 के उल्लंघन में राहुल गांधी गिरफ्तार।

2.01 PM: राहुल गांधी को हिरासत में लिया गया है, उनको वहां जाने की क्या जरूरत है? व​ह केवल राजनीति करना चाहते हैं— भूपेंद्र सिंह, एमपी गृह मंत्री

1.55 PM: उदयपुर में सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने राहुल गांधी को सेल्फी लेने के लिए घेरा।

1.41 PM: हम किसानों के लिए लड़ते रहे हैं, सरकार किसानों का कर्ज क्यों नहीं माफ कर रही है— दिग्विजय सिंह, कांग्रेस नेता

1.40 PM: नीमच में विक्रम सीमेंट फैक्ट्री के गेस्ट हाउस में राहुल गांधी, शरद यादव, कमल नाथ, सचिन पायलट, गिरिजा ब्यास और अन्य लोगों को शांति भंग करने के आरोप में हिरासत में लिया गया।

1.32 PM: मैं किसानों से मिलना चाहता हूं, मुझे बिना किसी कारण के गिरफ्तार कर लिया गया है— राहुल गांधी

1.29 PM: अगर आपका विचार आरएसएस से मिलता नहीं है तो आपको मध्यप्रदेश में घुसने नहीं दिया जाएगा— राहुल गांधी

1.15 PM: राहुल गांधी को मंदसौर सीमा पर हिरासत में लिया गया। बस में बैठाकर अज्ञात स्थान ले जाया गया।

इससे पहले पुलिस को चकमा देते हुए राजस्थान से बाइक के रास्ते मंदसौर की ओर रवाना हुए। नीमच के पुलिस अधीक्षक ने यह स्पष्ट कर दिया है कि उन्हें हिंसा प्रभावित जिले में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। एसपी ने कहा कि अगर कांग्रेस नेता ने जिले में घुसने का प्रयास किया तो उन्हें हिरासत में ले लिया जाएगा।

कांग्रेस ने मध्यप्रदेश में पुलिस गोलीबारी में पांच किसानों के मारे जाने को निर्मम हत्या करार दिया था और इस मामले पर प्रधानमंत्री की खामोशी पर भी प्रश्न उठाए थे। कांग्रेस ने भाजपा पर आरोप लगाया कि वह भारतीय किसानों के लिए मौत का अभिश्राप है। कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि यह बेहद अपमानजनक और दुभार्ग्यपूर्ण है कि भाजपा की अगुआई वाली राजग गोलीबारी की घटना को नकारने के मोड पर है। राहुल किसान प्रदर्शन में मारे गए लोगों के परिजन से मुलाकात करने वहां जा रहे हैं।

मंदसौर के कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक का तबादला

मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार ने मंदसौर जिले के कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक का आज तबादला कर दिया। मंदसौर के कलेक्टर स्वतंत्र कुमार सिंह का तबादला करके उन्हें उप सचिव मंत्रालय नियुक्त किया गया है। सिंह के स्थान पर ओपी श्रीवास्तव को कलेक्टर नियुक्त किया गया है। सूत्रों ने बताया कि सरकार ने मंदसौर के पुलिस अधीक्षक ओपी त्रिपाठी का भी तबादला कर दिया है और उनके स्थान पर मनोज कुमार सिंह की नियुक्ति की गई है।

रैपिड एक्सन फोर्स तैनात

मध्य प्रदेश के हिंसा प्रभावित मंदसौर जिले में रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) की टुकड़ियों को तैनात किया गया है। अस्थिर स्थिति के मद्देनजर केंद्र ने आरएएफ के 1,100 कर्मियों को हिंसा प्रभावित राज्य में भेजा है। जिले में हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं। पुलिस ने कहा कि मंदसौर के पिपलियामंडी में आरएएफ की दो कंपनियों को भेजा गया है जहां मंगलवार को गोलीबारी में पांच किसानों की मौत हो गई थी। आरएएफ की एक कंपनी में करीब 100 कर्मी शामिल हैं।

जिले के गरोथ क्षेत्र में आरएएफ की दो कंपनियों को तैनात किया गया है जबकि दो अन्य कंपनियों को मोहू-नीमच राजमार्ग पर किसी अप्रिय घटना को रोकने के लिए तैनात किया गया है। पुलिस ने कहा है कि हालात तनावपूर्ण हैं लेकिन नियंत्रण में है। अधिकारियों ने बताया कि मंदसौर जिले के सभी उपमंडलों में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति की निगरानी करने के लिए वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को भी तैनात किया गया है।

चौहान सरकार ने कुछ कदमों का ऐलान करके तनाव को कम करने की कोशिश की है जिसमें ऐसे किसानों के लिए कर्ज समझौता योजना शामिल है जिन्होंने फसल के वास्ते लिए गए कर्ज का भुगतान नहीं किया है। सरकार के मुताबिक, योजना करीब छह लाख किसानों को कवर करेगी जिनका 6,000 करोड़ रुपये बकाया है।

डीएम से मारपीट :

इससे पहले बुधवार को मंदसौर में किसान आंदोलन और भड़क गया। मंगलवार को फायरिंग में छह किसानों की मौत से गुस्साए किसानों ने 100 से ज्यादा वाहनों में तोड़फोड़ और आगजनी की। किसानों को समझाने पहुंचे मंदसौर के डीएम स्वतंत्र कुमार सिंह पर किसानों ने गुस्सा उतारा। प्रदर्शनकारियों ने उनके साथ मारपीट की। किसी तरह डीएम अपनी जान बचाकर वहां से भागे। बेकाबू प्रदर्शनकारियों ने भोपाल-इंदौर हाईवे पर कई गाड़ियों में तोड़फोड़ की। एक थाना भी फूंक दिया। देवास-इंदौर रोड चार घंटे बंद रहा। उग्र प्रदर्शन को देखते हुए मंदसौर के साथ-साथ रतलाम, नीमच जिले में मोबाइल इंटरनेट पर रोक लगा दी। मंदसौर जिले में धारा 144 लगाई गई है। वहीं, इस पूरी घटना में 12 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं।



hindi news portal lucknow

मंदसौर हिंसा: 4 जिलों में मोबाइल बंद, शिवराज बोले- मैं भी किसान, दिग्गी ने मांगा इस्तीफा

07 Jun 2017 [ स.ऊ.संवाददाता ]

कर्जमाफी, खेती के लिए बिना ब्याज कर्ज, किसानों के लिए पेंशन योजना समेत अन्य मांगों को लेकर किसानों का आंदोलन मध्य प्रदेश में जारी है। राज्य के 4 जिलों रतलाम, नीमच, मंदसौर और उज्जैन में मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद किये गए हैं।

इस पूरे घटनाक्रम पर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया, मैं खुद एक किसान हूँ और किसानों की परेशानी समझता हूँ। आप निश्चिंत रहें, आपकी सारी बातों पर सरकार अमल कर रही है।

उन्होंने किसानों से शान्ति बनाये रखने की अपील की। साथ ही कहा कि किसान अफवाहों पर ध्यान न दें।

मंदसौर में पुलिस फायरिंग में 6 किसानों के मारे जाने पर कांग्रेस नेता और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने सीएम शिवराज सिंह और गृह मंत्री से इस्तीफा मांगा है।

दिग्विजय सिंह ने आज ट्वीट किया, मंदसौर के जिला कलेक्टर ने कहा- "मैंने गोली चलाने के आदेश नहीं दिये।" उसके बाद मप्र के गृह मंत्री ने कहा-" पुलिस ने गोली नहीं चलाई।"

फिर कांग्रेस नेता ने सवाल किया, तो क्या किसानों ने एक दूसरे पर गोली चलाई या आत्महत्या की? हद हो गई शासन व प्रशासन क्या मूर्खतापूर्ण बयान दे रहा है।

उन्होंने अगला ट्वीट किया, मुख्यमंत्री और गृह मंत्री तत्काल इस्तीफा दें। पूरे मामले की न्यायिक जांच हो और किसानों की मांगे मंजूर हों।

इस बीच कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघ्वी ने प्रदेश की भाजपा सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा, किसान लगाते हैं कर्जमाफी की गुहार और भाजपा करती है गोलियों की बौछार।

उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि बिचौलियों से किसान हैं बेहाल, भाजपा ने उनको दे दी है बंदूकों की नाल।



12345678910...