अन्तर्राष्ट्रीय

hindi news portal lucknow

अमेरिका के भारतीय-अमेरिकी डॉक्टर 5,000 ऑक्सीजन सांद्रक भेज रहे हैं भारत

08 May 2021 [ स.ऊ.संवाददाता ]

वाशिंगटन। डॉक्टरों का एक भारतीय-अमेरिकी समूह कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की जान बचाने के लिए भारत में 5,000 ऑक्सीजन सांद्रक भेज रहा है। हाल ही में बनी ‘फेडरेशन ऑफ इंडियन फिजिशियंस एसोसिएशन’ (एफआईपीए) ने शुक्रवार को कहा कि 5,000 ऑक्सीजन सांद्रक खरीद लिए गए हैं। इनमें से 450 ऑक्सीजन सांद्रक पहले ही अहमदाबाद पहुंच गए हैं, 325 दिल्ली भेजे जा रहे हैं और 300 ऑक्सीजन सांद्रक मुंबई भेजे जा रहे हैं।एफआईपीए के अध्यक्ष डॉ. राज भयानी ने कहा, ‘‘ये ऑक्सीजन सांद्रक स्थानीय भारतीय साझेदारों, अस्पतालों, अस्थायी पृथकवास केंद्रों, नव निर्मित अस्थायी अस्पतालों और परमार्थ संगठनों को भेजे जाने हैं ताकि भारत में दूर-दराज के क्षेत्रों में स्थानीय साझेदार जरूरत पड़ने पर कोविड-19 मरीजों को ऑक्सीजन उपलब्ध कराने के लिए इनका इस्तेमाल कर सकें।’’ उन्होंने कहा कि करीब 3,500 और ऑक्सीजन सांद्रक भेजे जाने हैं। एफआईपीए ने इन ऑक्सीजन सांद्रकों को फौरन भेजे जाने में मदद के लिए भारतीय दूतावास और भारत के उड्डयन मंत्रालय से बात की है।भारत के ग्रामीण इलाकों में काम करने वाले आयोवा स्थित सहगल फाउंडेशन ने एक अलग बयान में कहा कि वह भारत को 200 ऑक्सीजन सांद्रक भेज रहा है। भारतीय-अमेरिकी वंदना कर्ण ने ग्रामीण बिहार में लोगों की जान बचाने के लिए शनिवार को रकम जुटाने के वास्ते एक अभियान शुरू की। महज कुछ ही घंटों में 8,000 डॉलर से अधिक धनराशि जुटा ली गई।



hindi news portal lucknow

‘कोवैक्स’ कार्यक्रम के तहत श्रीलंका को मिला ऑक्सफोर्ड एस्ट्राजेनेका टीका

07 Mar 2021 [ स.ऊ.संवाददाता ]

कोलंबो। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के ‘कोवैक्स’ कार्यक्रम के तहत ऑक्सफोर्ड एस्ट्राजेनेका टीके की 2,64,000 खुराकों की पहली खेप रविवार को श्रीलंका पहुंची। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। ‘कोवैक्स’ एक वैश्विक पहल है जिसके तहत आय के स्तर को नजरअंदाज कर सभी देशों को त्वरित और समान रूप से कोविड-19 का टीका देने का प्रयाय किया जा रहा है।श्रीलंका की मंत्री डॉ सुदर्शिनी फर्नांडोपुले ने बताया कि कोरोना वायरस टीके की पहली खेप रविवार को श्रीलंका पहुंची। उन्होंने कहा, “कोवैक्स कार्यक्रम के तहत स्वास्थ्य मंत्रालय को आज कोविड-19 टीके की 2,64,000 खुराकें मिलीं।” यूनिसेफ ने एस्ट्राजेनेका टीके की पहली खेप श्रीलंका तक पहुंचाई।



hindi news portal lucknow

जो बाइडेन प्रशासन ने बदली ट्रंप की अमेरिकी शरणार्थी नीति, अब लोगों को शरण मिलने की उम्मीद

20 Feb 2021 [ स.ऊ.संवाददाता ]

सैन डिएगो (अमेरिका)। अमेरिका में शरण चाहने वाले लोगों के लिए पूरानी नीति बहाल कर जो बाइडेन प्रशासन के शनिवार को शरणार्थियों के एक जत्थे को देश में आने की इजाजत दे दी जिसके बाद मैक्सिको में लोगों के इंतजार की घड़ियां खत्म होने वाली हैं। पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दशकों तक प्रभावी रही अमेरिकी शरणार्थी नीति पलट दी थी। बाइडन प्रशासन ने उसे अब बहाल कर दी है। उल्लेखनीय है कि ‘रिमेन इन मैक्सिको’ के तहत सक्रिय मामलों वाले अनुमानत: 25,000 लोग अमेरिका में शरण के लिए मंजूरी की प्रतीक्षा कर रहे हैं। उनमें से 25 लोगों के जत्थे को अमेरिका में दाखिल होने की अनुमति दी गयी है। ये अब सीमा के दक्षिण में रहने की जगह अमेरिका में रह कर अदालती सुनवाई का इंतजार करेंगे।अमेरिकी अधिकारियों ने लोगों को आगाह किया है कि वे सीमा पर नहीं आएं बल्कि उस वेबसाइट पर अपना पंजीकरण कराएं जिसे अगले हफ्ते संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी उच्चायोग शुरू कर रहा है। कोरोना वायरस महामारी के कारण मैक्सिको से आए लोगों को पृथक-वास में रखने के लिए सैन डिएगो के होटलों में ले जाया गया है। पृथक-वास की अवधि पूरी होने के बाद वे अमेरिका में अपने रिश्तेदारों, दोस्तों के पास या अन्य स्थानों पर जा पाएंगे। मैक्सिको से लगी सीमा पर भी भ्रम की स्थिति बनी है। तिजुआना सीमा पर करीब 100 लोग शुक्रवार को जमा हो गए और उन्होंने अमेरिका में दाखिल होने देने का अनुरोध किया। हालांकि अधिकारियों ने उन्हें प्रवेश देने से मना कर दिया।



hindi news portal lucknow

G7 की ऑनलाइन बैठक को संबोधित करेंगे अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन

15 Feb 2021 [ स.ऊ.संवाददाता ]

वाशिंगटन। व्हाइट हाउस ने बताया कि अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन जी7 की ऑनलाइन बैठक को शुक्रवार को संबोधित करेंगे। बाइडन के इस दौरान कोरोना वायरस से निपटने के लिए वैश्विक सहयोग की आवश्यकता और बहुपक्षीय संबंधों को लेकर अमेरिका की प्रतिबद्धता का दोहराने की उम्मीद है। व्हाइट हाउस ने रविवार को जारी किए एक बयान में कहा कि शुक्रवार को जी7 की बैठक के दौरान बाइडन टीके के निर्माण, वितरण और आपूर्ति को लेकर वैश्विक सहयोग की आवश्यकता और भविष्य में किसी भी वैश्विक महामारी से निपटने के लिए तैयारी को लेकर वैश्विक प्रयासों पर जोर देंगे।वह औद्योगिक राष्ट्रों की आवश्यकता पर बात करेंगे ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उनकी अर्थव्यवस्था के बेहतर होने से ‘‘महिलाओं और वंचित समूहों के सदस्यों सहित सभी श्रमिकों को लाभ मिले।’’ व्हाइट हाउस ने कहा कि बाइडन इस मौके का इस्तेमाल वैश्विक नियमों को अद्यतन करने की आवश्यकता पर चर्चा करने के लिए भी करेंगे ताकि ‘‘चीन द्वारा पेश की गई आर्थिक चुनौतियों से निपटा जा सके।’’ अमेरिका के राष्ट्रपति के तौर पर बाइडन पहली बार जी7 बैठक को संबोधिक करेंगे। जी7 समूह में ब्रिटेन, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान और अमेरिका हैं।



hindi news portal lucknow

कोरोना के खिलाफ जंग में भारत और PM मोदी के सहयोग का मुरीद हुआ WHO

23 Jan 2021 [ स.ऊ.संवाददाता ]

जिनेवा। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) प्रमुख टेड्रोस अधानोम गेब्रेयसस ने कोविड-19 के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में लगातार सहयोग करने को लेकर शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शुक्रिया अदा किया। साथ ही, उन्होंने कहा कि जानकारी साझा करने सहित साथ मिल कर काम करने से इस महामारी से निपटने में मदद मिलेगी। भारत ने इस हफ्ते घोषणा की है कि वह श्रीलंका और आठ अन्य देशों -- भूटान, मालदीव, बांग्लादेश, नेपाल, म्यामां, सेशल्स, अफगानिस्तान और मॉरीशस को सहायता के तहत कोविड-19 के टीके भेजेगा। भारत की नीति ‘‘पड़ोसी पहले ’’ के अनुरूप नेपाल, बांग्लादेश, भूटान और मालदीव को सहायता के तहत कोविड-19 के टीके भेजे जा चुके हैं।डब्ल्यूएचओ महानिदेशक ने ट्वीट किया, ‘‘कोविड-19 के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में आपके लगातार सहयोग के लिए भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद। ’’ प्रधानमंत्री ने कहा है कि भारत का टीके का उत्पादन और आपूर्ति क्षमता का उपयोग कोविड-19 महामारी से लड़ाई में समस्त मानवजाति की भलाई के लिए किया जाएगा। उन्होंने पिछले हफ्ते कहा था कि भारत एक स्वस्थ धरती के लिए हर संभव कदम उठाने के लिए तैयार है।



hindi news portal lucknow

बाइडेन ने ‘अमेरिकियों के लिए बचाव योजना’ की घोषणा की, आर्थिक राहत के आदेश पर किए हस्ताक्षर

23 Jan 2021 [ स.ऊ.संवाददाता ]

वाशिंगटन।अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने कई सरकारी या कार्यकारी आदेशों पर हस्ताक्षर किए हैं। इनमें से एक आदेश कोरोना वायरस की मार से प्रभावित अमेरिकी अर्थव्यवस्था की हालत में सुधार लाने से संबंधित है। इस महामारी की वजह से 1.8 करोड़ अमेरिकी बेरोजगार हो गए हैं। राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के तीसरे दिन बाइडन ने ‘अमेरिकियों के लिए बचाव योजना’ की घोषणा की। इसके तहत उन अमेरिकियों को आर्थिक राहत प्रदान की जाएगी, जो कोरोना वायरस महामारी की वजह से संकट में हैं।

बाइडन ने कहा, ‘‘हम लोगों को 2,000 डॉलर के सीधे भुगतान का काम पूरा करेंगे। पहले उन्हें जो 600 डॉलर मंजूर किए गए हैं, वह पर्याप्त नहीं हैं। इतनी राशि में यदि आपको किराया देने या भोजन के विकल्प में से चुनना हो, तो यह आसान नहीं होगा।’’ बाइडन ने व्हाइट हाउस में अपने संबोधन में कहा, ‘‘हम अपने लोगों को भूखा नहीं छोड़ सकते। हम लोगों को उस वजह से घर खाली करने की ‘अनुमति’ नहीं दे सकते, जिसके पीछे वे खुद नहीं हैं।’’ बाइडन ने कहा कि उनकी इस राहत योजना से अर्थव्यवस्था अधिक तेजी से पूर्ण रोजगार की ओर लौटैगी। बाइडन ने 15 जनवरी को अमेरिकी अर्थव्यवस्था के लिए 1,900 अरब डॉलर के कोरोना वायरस राहत पैकेज की घोषणा की थी।



hindi news portal lucknow

मुंबई हमले के मास्टर माइंड लखवी को सुनाई गई 15 साल की सज़ा

08 Jan 2021 [ स.ऊ.संवाददाता ]

मुंबई हमले के मास्टर माइंड आंतकी जकी-उर-रहमान लखवी को 15 साल की सजा सुनाई गई है। बता दें कि यह फैसला FATF की बैठक से पहले सुनाई गई है। उल्लेखनीय है कि देश में खुलेआम घूम रहे आतंकवादियों को न्याय के कठघरे में लाने के बढ़ते अंतरराष्ट्रीय दबाव के बीच पाकिस्तान ने गत शनिवार को लखवी को गिरफ्तार किया। संयुक्त राष्ट्र से आतंकवादी घोषित लखवी वर्ष 2015 से ही मुंबई हमले मामले में जमानत पर था और पंजाब सूबे के आतंकवाद निरोधक विभाग ने उसे आतंकवाद का वित्तपोषण करने के आरोप में गिरफ्तार किया था।



hindi news portal lucknow

रिपब्लिकन पार्टी की बढ़ी मुश्किलें, टेक्सास के जज ने चुनाव परिणाम को पलटने संबंधी वाद किया खारिज

02 Jan 2021 [ स.ऊ.संवाददाता ]

वाशिंगटन। एक संघीय न्यायाधीश ने रिपब्लिकन पार्टी के एक सदस्य की ओर से दायर उसवाद को शुक्रवार को खारिज कर दिया जिसका मकसद उप राष्ट्रपति माइक पेंस को देश में हाल ही में हुए राष्ट्रपति चुनाव के नतीजों को उस वक्त पलटने की शक्ति देना है, जब अगले सप्ताह कांग्रेस औपचारिक रूप से इलेक्टोरल कॉलेज के वोट की गिनती करेगा। राष्ट्रपति चुनाव में जो बाइडन ने जीत दर्ज की है। सीनेट के अध्यक्ष के रूप में पेंस की देखरेख में बुधवार को सत्र आयोजित होगा और वह व्हाइट हाउस की दौड़ में विजेता के नाम की घोषणा करेंगे।इलेक्टोरल कॉलेज ने इस माह बाइडन की जीत पर मोहर लगा दी और वर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा चुनाव के नतीजों को पलटने के कई कानूनी प्रयास विफल साबित हुए हैं। वाद में अदालत से 1887 के उस कानून को रद्द करने का अनुरोध किया गया था, जो यह बताता है कि कांग्रेस किस प्रकार से मतगणना करेगी। वाद में इस बात पर जोर दिया गया था कि उप राष्ट्रपति ‘‘अपने विशेष अधिकार का इस्तेमाल करके और स्वविवेक से इस बात का निर्णय ले सकते हैं कि किस प्रांत के लिए किस इलेक्टोरल वोट की गिनती करनी है। टेक्सास अमेरिकी जिला न्यायाधीश जेरेमी केरनोडल ने रिपब्लिकन पार्टी के सदस्य लुई गोमर्ट द्वारा दायर वाद को खारिज कर दिया।



hindi news portal lucknow

गरीबी हटाने के चीन के मॉडल से सीखना चाहती है पाकिस्तान सरकार: इमरान खान

01 Jan 2021 [ स.ऊ.संवाददाता ]

इस्लामाबाद। चीन के विकास मॉडल की प्रशंसा करते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने शुक्रवार को कहा कि उनकी सरकार आर्थिक वृद्धि को गति देने और गरीबी मिटाने के लिए चीन के औद्योगिक विकास से सीखना चाहती है। खान ने यहां एक कार्यक्रम में कहा, ‘‘यदि हम इस दुनिया में किसी देश से सीख सकते हैं तो यह चीन है। उसका विकास मॉडल पाकिस्तान के लिए सबसे अधिक उपयुक्त है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘जिस रफ्तार से चीन ने पिछले 30 साल में विकास किया है, वह ऐसी बात है जिससे हम सीख सकते हैं।’’खान ने कहा कि चीन साबित कर पाया है कि गरीबी उन्मूलन ही असली विकास है। उन्होंने कहा, ‘‘जिस तरह उसने औद्योगिकीकरण किया, विशेष निर्यात क्षेत्र बनाए, विदेशों से निवेश हासिल किया और उनका उपयोग अपना निर्यात बढ़ाने के लिए किया..उसके परिणामस्वरूप चीन ने अपनी संपदा में वृद्धि की।’’ उन्होंने कहा,‘‘ उसने उस धन का इस्तेमाल अपने लोगों को गरीबी से उबारने में इस्तेमाल किया... इतिहास में ऐसा कोई उदाहरण नहीं है।’’ चीन ने पिछले महीने कहा था कि विश्व की सबसे अधिक आबादी वाले देश की सभी काउंटी में गरीबी उन्मूलन कर दिया गया है।खान ने कहा कि (उनकी) सरकार ने चीनी उद्योगों को आकर्षित करने और उनका स्थान परिवर्तित करने के लिए विशेष आर्थिक क्षेत्र बनाये हैं ताकि वे अपने उत्पादों का पाकिस्तान से निर्यात कर सके। उन्होंने कहा कि नया साल आर्थिक वृद्धि का साल रहेगा क्योंकि देश सही दिशा में बढ़ रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘ हमारे प्रतिस्पर्धियों की तुलना में हमारा निर्यात बढ़ रहा है, इसलिए पाकिस्तान सही दिशा में चल रहा है



hindi news portal lucknow

उम्मीद की राह पर अमेरिका के राष्ट्रपति, कहा- "अगला प्रशासन भी होगा ट्रंप प्रशासन"

09 Dec 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

वाशिंगटन। अमेरिका में तीन नवंबर को हुए राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडन को आधिकारिक तौर पर विजेता घोषित किये जाने से पहले उनके प्रतिद्वंद्वी डोनाल्ड ट्रंप ने दावा किया कि वह चुनाव जीत चुके हैं और पद पर भी बने रहेंगे। ट्रंप चुनाव में मतदान के फर्जीवाड़े समेत धोखाधड़ी के आरोप लगाते आ रहे हैं। हालांकि राज्यों के चुनाव अधिकारियों और मीडिया ने इन आरोपों से साफ इनकार किया है। बाइडन 538 में से 306 इलेक्टोरल वोट जीत चुके हैं। बाइडन के पास राष्ट्रपति बनने के लिए आवश्यक 270 से ज्यादा इलेक्टोरल वोट हैं। अत: चुनाव अधिकारी उन्हें नव निर्वाचित राष्ट्रपति घोषित कर चुके हैं। चुनाव परिणामों को अगले हफ्ते आधिकारिक रूप से प्रमाणित किया जाएगा।

दूसरी ओर ट्रंप, बाइडन की जीत को पलटने के अपने कानूनी प्रयासों को भी जारी रखे हुए हैं। कोविड -19 टीके संबंधी एक कार्यक्रम में मंगलवार को ट्रंप ने व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा, ‘‘उम्मीद है कि अगला प्रशासन ट्रंप प्रशासन ही होगा, जिसने स्टॉक मार्केट को अब तक के सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंचाया, अब तक के सर्वाधिक रोजगार दिए और सेना का पुनर्गठन किया।’’ ट्रंप से पूछा गया था कि उन्होंने बाइडन के हस्तांतरण दल को इस कार्यक्रम में आमंत्रित क्यों नहीं किया है। तब उन्होंने कहा, ‘‘देखना होगा कि अगला प्रशासन किसका होता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘उम्मीद है कि अगला प्रशासन ट्रंप प्रशासन ही होगा क्योंकि आप हजारों मतों को चुरा नहीं सकते। आप इस तरह चुनाव नहीं जीत सकते।’’ ट्रंप ने कहा कि उनके शानदार कार्यों की वजह से उन्हें जीत मिली है। राष्ट्रपति ने कहा कि उन्हें करीब 7.5 करोड़ मत मिले हैं जो किसी भी राष्ट्रपति के लिए देश के इतिहास में सर्वाधिक हैं।



12345678910...