खेल

hindi news portal lucknow

ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के क्रिकेटरों की BCCI से पृथकवास अवधि कम करने की अपील

15 Sep 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

नयी दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में भाग लेने वाले ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के क्रिकेटरों ने बीसीसीआई (भारतीय क्रिकेट बोर्ड) से अनुरोध किया है कि संयुक्त अरब अमीरात पहुंचने के बाद छह दिनों की पृथकवास अवधि को कम कर तीन दिनों का किया जाए ताकि वे टूर्नामेंट की शुरुआत से चयन के लिए उपलब्ध रहे। ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच सीमित ओवरों की जारी मौजूदा श्रृंखला में दोनों देशों के ऐसे 21 खिलाड़ी है जो चार्टर्ड विमान से मैनचेस्टर से 17 सितंबर को यूएई पहुचेंगे। मौजूदा पृथकवास नियमों के तहत वे चयन के लिए 23 सितंबर से उपलब्ध रहेंगे जबकि टूर्नामेंट 19 सितंबर से शुरु होगा। बड़े शॉट लगाने के लिए मशहूर एक बल्लेबाज ने इन खिलाड़ियों की तरफ से बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली से अनुरोध किया है कि पृथकवास अवधि को तीन दिनों का किया जाए। टूर्नामेंट की तैयारियों की देखरेख के लिए गांगुली बोर्ड के अन्य पदाधिकारियों के साथ यूएई में है। उनसे इस मामले में प्रतिक्रिया नहीं मिल पायी लेकिन बोर्ड के एक सूत्र ने बताया कि ऐसी मांग की गयी है।सूत्र ने गोपनीयता की शर्त पर कहा, ‘‘हां, बीसीसीआई अध्यक्ष को एक अनुरोध प्राप्त हुआ है। यह एक खिलाड़ी द्वारा लिखा हो सकता है, लेकिन इससे इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के सभी खिलाड़ी इत्तेफाक रखते हैं। इन खिलाड़ियों को लगता है कि वे पहले से ही ऑस्ट्रेलिया और फिर ब्रिटेन में बायो-बबल (जैव-सुरक्षित माहौल) में हैं। ऐसे में यह तर्कसंगत होगा कि उन्हें एक बायो-बबल से दूसरे में प्रवेश करने की अनुमति दी जाए। वे सभी बायो-बबल के बाहर किसी के संपर्क में नहीं आये हैं। सूत्र ने कहा, ‘‘ ये खिलाड़ी साउथम्पटन और मैनचेस्टर, दोनों जगह हिल्टन होटल में रुके थे, जो स्टेडियम का एक हिस्सा है। उनका हर पांचवें दिन परीक्षण जा रहा हैं और यहां तक ​​कि ब्रिटेन से उनके प्रस्थान के दिन भी परीक्षण किया जाएगा। यहां पहुंचने के पहले और तीसरे दिन भी जांच होगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ अगर आप इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) की सुरक्षा इंतजाम को देखेंगे, तो खिलाड़ियों के कमरों में सफाईकर्मियों को भी जाने अनुमति नहीं है।इसके अलावा वे वाणिज्यिक नहीं बल्कि एक चार्टर्ड विमान से आयेंगे। ’’ उन्होंने यह नहीं बताया कि इस अनुरोध को स्वीकार किया जाएगा या नहीं लेकिन कहा, ‘‘ उनका यह तथ्य मजबूत है कि वे एक बायो-बबल से दूसरे में प्रवेश करना चाहते हैं।’’ कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) को छोड़कर सभी टीमों पर छह दिनों के इस पृथकवास नियम का असर पड़ेगा। केकेआर का पहला मैच 23 सितंबर को मुंबई इंडियन्स के खिलाफ है। इसका सबसे ज्यादा नुकसान राजस्थान रॉयल्स को होगा जिसे पहले से ही बेन स्टोक्स की कमी महसूस हो रही है। नियमों में अगर बदलाव नहीं हुआ तो जोफ्रा आर्चर, जोस बटलर और स्टीव स्मिथ शुरुआती मुकाबले के लिए टीम का हिस्सा नहीं होंगे। सनराइजर्स हैदराबाद को कप्तान डेविड वार्नर के अलावा सलामी बल्लेबाजी में उनके जोड़ीदार जॉनी बेयरस्टो के बिना पहला मैच खेलना होगा। चेन्नई सुपरकिंग्स को पहले दो मैचों में जोश हेजलवुड और सैम कुरेन की सेवाएं नहीं मिलेंगी।



hindi news portal lucknow

खेलमंत्री किरेन रीजीजू ने फिट इंडिया फ्रीडम रन लांच की, भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल लेंगे भाग

15 Aug 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

नयी दिल्ली। खेलमंत्री किरेन रीजीजू ने फिटनेस को बढावा देने के लिये शुक्रवार को देशव्यापी ‘फिट इंडिया फ्रीडम रन’ शुरू की। कोरोना वायरस महामारी के बीच प्रतिभागी अपने अपने स्थानों पर अपनी गति से 15 अगस्त से दो अक्टूबर के बीच किसी भी समय दौड़ेंगे। इसमें सीमा सुरक्षा बल, भारत तिब्बत सीमा पुलिस और केंद्रीय आरक्षित पुलिस बल भी भाग लेंगे।इनके अलावा भारतीय रेलवे, सीबीएसई और आईसीएसई स्कूल भी इसमें हिस्सा लेंगे। इनके साथ नेहरू युवा केंद्र संगठनऔर राष्ट्रीय सेवा योजना के करीब 75 लाख वालिंटियर इसमें हिस्सा लेंगे। रीजीजू ने कहा ,‘‘ फिट इंडिया फ्रीडम रन में भाग लेने को लेकर उत्साह से मैं काफी खुश हूं। फिट इंडिया आंदोलन को जनता का आंदोलन बनाने का प्रधानमंत्री का सपना अब सच हो गया है।



hindi news portal lucknow

दुबई में रहने वाली 11 साल की भारतीय लड़की ने योगासन में विश्व रिकॉर्ड तोड़ा

19 Jul 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

दुबई। दुबई में रहने वाली एक भारतीय लड़की ने सीमित स्थान में कुछ ही मिनट के भीतर योग के 100 आसन कर विश्व रिकॉर्ड तोड़ दिया। खलीज टाइम्स की खबर के मुताबिक, 11 वर्षीय समृद्धि कालिया ने तीसरी बार विश्व रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज कराया है। कालिया ने पिछले एक महीने के अंदर ही दूसरी बार विश्व कीर्तिमान स्थापित किया है।गोल्डन बुक वर्ल्ड रिकॉर्ड के सीमित स्थान में सबसे तेजी से योग के 100 आसन करने को लेकर कालिया ने कहा कि उनकी सफलता की वजह कठिन परिश्रम और दृढ़ता है। सातवीं कक्षा की छात्रा ने बृहस्पतिवार को मशहूर इमारत बुर्ज खलीफा में यह योगासन प्रस्तुति दी थी। इससे पहले, 21 जून को विश्व योग दिवस के मौके पर समृद्धि ने एक मिनट में 40 उन्नत योग आसन करने का अपना दूसरा विश्व रिकॉर्ड बनाया था।



hindi news portal lucknow

BCCI सचिव ने शशांक मनोहर पर साधा निशाना, कहा-खुद आकलन करें कि उन्होंने भारतीय क्रिकेट को कितना नुकसान पहुंचाया

02 Jul 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

राजकोट। भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के पूर्व सचिव निरंजन शाह ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के पूर्व चेयरमैन शशांक मनोहर पर निशाना साधते हुए उनसे अपील की है कि वह समय निकालकर आकलन करें कि उन्होंने भारतीय क्रिकेट को ‘किस तरह का नुकसान’ पहुंचाया है। मनोहर ने दो साल के दो कार्यकाल के बाद बुधवार को अपना पद छोड़ दिया था क्योंकि उन्हें अहसास हो गया था कि बहुमत में लोग उनके तीसरे कार्यकाल के खिलाफ होंगे। बीसीसीआई का इतने वर्षों तक मानना रहा है कि मनोहर ने ‘बिग थ्री’ मॉडल को रद्द करवाने में अहम भूमिका निभाई थी जिसमें राजस्व का अधिकांश हिस्सा इंग्लैंड, आस्ट्रेलिया और भारत की झोली में जाता था

बीसीसीआई के सचिव रहे शाह ने बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष के संदर्भ में बयान जारी करके कहा, ‘‘शशांक जी को मिश्रित अहसास होगा कि वह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए वह क्या कर सकते थे और उनके कार्यकाल के दौरान भारत में क्रिकेट के साथ क्या हुआ।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अब वह आईसीसी चेयरमैन के रूप में अपने कार्यकाल का आकलन कर सकते हैं और बीसीसीआई के अध्यक्ष के रूप में भी जो उनके लिए मंच था। वह आकलन कर सकते हैं कि उनके कार्यकाल के दौरान भारतीय क्रिकेट और बीसीसीआई को क्या नुकसान पहुंचा।’’ शाह का मानना है कि बीसीसीआई के मौजूदा नेतृत्व से बोर्ड को आईसीसी में मजबूत, फायदेमंद और रचनात्मक प्रतिनिधित्व मिलेगा। उन्होंने कहा, ‘‘बीसीसीआई को पिछले कुछ वर्षों में मुश्किलों का सामना करना पड़ा। और इन वर्षों में आईसीसी ने स्थिति का फायदा उठाकर भारत में क्रिकेट और बीसीसीआई को हर संभावित तरीके से नुकसान पहुंचाया। ’’ शाह ने कहा, ‘‘हालांकि मुझे पूरा यकीन है कि बीसीसीआई का मौजूदा नेतृत्व का आईसीसी में मजबूत, फायदेमंद और रचनात्मक प्रतिनिधित्व होगा।



hindi news portal lucknow

गौतम गंभीर बोले- तीसरे नंबर पर अधिकांश रिकार्ड तोड़ सकते थे धोनी

15 Jun 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

मुंबई। भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर का मानना है कि महेंद्र सिंह धोनी अगर 50 ओवरों के क्रिकेट में तीसरे नंबर पर उतरते तो बल्लेबाजी के सारे रिकार्ड उनके नाम होते। गंभीर को भारत के मौजूदा कप्तान विराट कोहली और धोनी में से एक को चुनने को कहा गया था। उन्होंने स्टार स्पोटर्स के शो ‘क्रिकेट कनेक्टेड’ से कहा ,‘‘ दोनों की तुलना करना काफी कठिन है क्योंकि एक तीसरे नंबर पर तो दूसरा छठे या सातवें नंबर पर उतरता है।’’ गंभीर ने कहा कि धोनी तीसरे नंबर पर उतरते तो बल्लेबाजी के अधिकांश रिकार्ड तोड़ चुके होते। उन्होंने कहा ,‘‘ शायद मैं एम एस धोनी को चुनता।सपाट विकेटों पर मौजूदा गेंदबाजी आक्रमण के बीच तीसरे नंबर पर वह बेहतरीन होते।’’ उन्होंने कहा ,‘‘ श्रीलंका, बांग्लादेश, वेस्टइंडीज को देखो। अंतरराष्ट्रीय गेंदबाजी के स्तर को देखते हुए एम एस धोनी अधिकांश रिकार्ड अपने नाम कर लेते।’’ विश्व कप 2007 और 2011 की विजेता टीम के सदस्य रहे गंभीर ने कहा कि धोनी अगर भारत के कप्तान नहीं होते और तीसरे नंबर पर उतरते तो दुनिया के सबसे मनोरंजक बल्लेबाज होते। वहीं भारत के पूर्व तेज गेंदबाज इरफान पठान ने कहा कि धोनी और कोहली में से तीसरे नंबर के लिये वह कोहली को चुनते। उन्होंने कहा ,‘‘ एम एस को तीसरे नंबर पर मौके मिले लेकिन उन्होंने नहीं किया। मेरा मानना है कि विराट और धोनी में से तीसरे नंबर के लिये विराट के पास बेहतर तकनीक है।



hindi news portal lucknow

क्रिकेट फैंस के लिए खुशखबरी! इस साल IPL कराने की तैयारी में जुटी BCCI

11 Jun 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

नयी दिल्ली। भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने संकेत दिये हैं इस साल के इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का आयोजन खाली स्टेडियमों में किया जा सकता है और कहा है कि कोविड-19 महामारी के बावजूद इस निलंबित प्रतियोगिता को आयोजित करने के लिये सभी विकल्पों पर विचार किया जा रहा है। गांगुली ने बुधवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के बोर्ड की बैठक के बाद राज्य संघों को यह पत्र भेजा है जिससे लगता है कि बीसीसीआई अध्यक्ष आईपीएल के आयोजन के प्रति आशान्वित हैं। भारत में कोविड-19 महामारी के कारण अभी तक 8000 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और इसी वजह से आईपीएल को अनिश्चितकाल के लिये स्थगित कर दिया गया था।गांगुली ने लिखा है, ‘‘बीसीसीआई इस साल आईपीएल के आयोजन के लिये सभी संभावित विकल्पों पर काम कर रहा है जिसमें खाली स्टेडियमों में खेलना भी शामिल है। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘प्रशंसक, फ्रेंचाइजी, खिलाड़ी, प्रसारक, प्रायोजक और सभी हितधारक इस साल आईपीएल के आयोजन की संभावना को लेकर उत्सुक हैं। ’’ पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा, ‘‘हाल में भारत और आईपीएल में भाग लेने वाले अन्य देशों के खिलाड़ियों ने इस साल के आईपीएल का हिस्सा बनने के प्रति अपनी उत्सुकता दिखायी। हम आईपीएल के आयोजन को लेकर आशावादी हैं और बीसीसीआई जल्द ही इस बारे में कोई फैसला करेगा। ’’ कयास लगाये जा रहे हैं कि अगर टी20 विश्व कप आस्ट्रेलिया में पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार नहीं हो पाता है तो आईपीएल उस समय आयोजित किया जा सकता है। आईसीसी ने विश्व कप के भविष्य पर फैसला अगले महीने तक टाल दिया है। गांगुली ने इसके साथ ही कहा कि बीसीसीआई घरेलू क्रिकेट के कार्यक्रम पर भी काम रहा है जिससे रणजी टूाफी, दलीप ट्राफी और विजय हजारे ट्राफी जैसे टूर्नामेंट प्रतिस्पर्धी और व्यावहारिक बने रहें।उन्होंने कहा, ‘‘बीसीसीआई अगले क्रिकेट सत्र के लिये घरेलू प्रतियोगिताओं के लिये योजना तैयार करने की प्रक्रिया में है। हम अपनी तरफ से विभिन्न विकल्पों और प्रारूपों पर काम कर रहे हैं ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि विभिन्न घरेलू टूर्नामेंट प्रतिस्पर्धी बने रहें और उनमें भागीदारी आसान रहे। ’’ गांगुली ने कहा, ‘‘बीसीसीआई अगले दो सप्ताह में इस पर और जानकारी उपलब्ध कराएगा। ’’बोर्ड अध्यक्ष ने इसके साथ ही सूचित किया कि बीसीसीआई सभी राज्य इकाईयों में क्रिकेट की बहाली के लिये मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) तैयार कर रहा है ताकि इनमें शामिल लोगों की चिकित्सा सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके। गांगुली ने राज्य संघों को बताया कि बीसीसीआई ने अपने विभिन्न सदस्यों की सभी तरह की धनराशि-अनुदान जारी करने के लिये अपनी तरफ से हर संभव प्रयास किये है। उन्होंने कहा, ‘‘जिन संघों ने अपने खातों और धनराशि के उपयोग से संबंधित प्रमाणपत्रों को उचित तरीके से पेश किया है उन्हें पहले ही अनुदान मिल चुका है। ’’ बोर्ड अध्यक्ष ने आश्वासन दिया कि अन्य इकाईयां जब भी संबंधित दस्तावेज जमा करेंगी उन्हें उनका अनुदान मिल जाएगा।



hindi news portal lucknow

क्लार्क के दावे को एरॉन फिंच ने किया खारिज, कहा- 'हमने भारत से सीरीज 'सही भावना' से खेली

05 Jun 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

नयी दिल्ली। ऑस्ट्रेलिया के सीमित ओवरों के कप्तान आरोन फिंच ने पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क के दावे को खारिज करते हुए कहा कि उनके देश के खिलाड़ियों ने भारत के खिलाफ 2018-19 की घरेलू टेस्ट श्रृंखला को ‘सही भावना’ के साथ खेला था। क्लार्क ने अप्रैल में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों पर आरोप लगाया है कि आईपीएल अनुबंध को बचाने के लिए वे 2018-19 की श्रृंखला में भारतीय कप्तान विराट कोहली के खिलाफ छींटाकशी करने से डरते थे। उस टेस्ट टीम का हिस्सा रहे फिंच ने स्पोर्ट्स तक से कहा, ‘‘ ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि वे आईपीएल अनुबंध के कारण वे किसी को प्रभावित करने के लिए ऐसा कर रहे थे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अगर आप किसी भी खिलाड़ी से पूछेंगे तो वह यही कहेगा कि श्रृंखला बहुत-बहुत चुनौतीपूर्ण थी। मुझे नहीं पता ऐसा विचार कहां से आया।’’ गेंद से छेड़छाड़ विवाद के कारण स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर के निलंबन के बाद ऑस्ट्रेलियाई टीम की यह सिर्फ दूसरी टेस्ट श्रृंखला थी।फिंच ने कहा, ‘‘ टीम एक बदलाव के दौर से गुजर रही थी और बहुत सारे खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पहचान बनाने की कोशिश कर रहे थे। यह भारत के खिलाफ काफी मुश्किल है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘किसी भी बल्लेबाज के लिए जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी, इशांत शर्मा, उमेश यादव, रवींद्र जडेजा और रविचंद्रन अश्विन जैसे गेंदबाजों का सामना करना आसान नहीं है।’’ फिंच ने कहा, ‘‘ क्लार्क ने कहा कि हम अच्छा बनने की कोशिश कर रहे थे लेकिन सच्चाई यह है टीम के खिलाड़ी अपने खेल को बेहतर करना चाहतेथे। वे अपने सर्वश्रेष्ठ तरीके से टेस्ट मैच खेलना चाहते थे।’’ इस सलामी बल्लेबाज ने कहा, ‘‘ हर किसी को अपना विचार रखने का हक है। उन्होंने शायद (मैदान के) बाहर से कुछ देखा होगा जो हमने अंदर से नहीं देखा था।’’ भारत ने इस श्रृंखला को 2-1 से जीता था। ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट श्रृंखला जीतने वाली उपमहाद्वीप की पहली टीम बनी थी। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया के टेस्ट कप्तान टिम पेन, तेज गेंदबाज पैट कमिंस और भारत के पूर्व बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण ने क्लार्क की इन टिप्पणियों को खारिज कर दिया था।



hindi news portal lucknow

कोविड-19 का टीका आने के बाद चीजें सामान्य होगी: गांगुली

30 May 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

कोलकाता। भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा कि कोरोना वायरस के इलाज का टीका बनने के बाद जीवन सामान्य होने लगेगा। पूरी दुनिया पिछले कुछ महीने से कोविड-19 महामारी की चपेट में है। इसकी वजह से क्रिकेट सहित दुनियाभर में दूसरे खेलों का आयोजन भी प्रभावित हुआ है। गांगुली ने ‘अनअकेडमी’ ऐप पर कक्षा के एक सत्र में कहा, ‘‘ यह एक ऐसी चीज है जिसने दुनिया को पूरी तरह से झकझोर दिया है। मुझे लगता है कि चीजें समय के साथ पटरी पर लौट आएंगी। हमारे पास इससे नपटने के लिए दवा नहीं है। लेकिन छह-सात महीने में जब इसका टीका निकल जाएगा तब स्थिति समान्य हो जाएगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि क्रिकेट फिर से सामान्य हो जाएगा। हां, कार्यक्रम में कुछ बदलाव होंगे लेकिन बीसीसीआई और आईसीसी क्रिकेट को वापिस सामान्य स्थिति में लाने के लिए कुछ भी करेंगे।’’ गांगुली का मानना ​​है कि टीका के आने के बाद यह वायरस भी फ्लू या पीलिया जैसे किसी अन्य दूसरे बीमारी की तरह होगा। जिसका इलाज मौजूद होगा।पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा,‘‘ क्रिकेट मजबूती से वापसी करेगा। खिलाड़ियों के लिए अलग-अलग चुनौतियां होगी। उन्हें चिकित्सा जांच भी करवाना होगा। मैं हालांकि इसे खेल में रूकावट की तरह नहीं देखता हूं। जैसे ही टीका निकलता है, मुझे लगता है कि जीवन सामान्य जीवन हो जाएगा’’ देश के सबसे सफल कप्तानों में शुमार गांगुली ने इस मौके पर अपने पुराने दिनों को याद करते हुए कहा कि वह ‘संयोग’ से क्रिकेटर बन गये। उन्होंने कहा कि वह फुटबॉल को गंभीरता से ले रहे थे लेकिन उन्हें उनके पिता ने शरारत से दूर रखने के लिए क्रिकेट कोचिंग से जुड़ने के लिए कहा और उन्होंने तब से पीछे मुड़कर नहीं देखा।गांगुली ने कहा, ‘‘ फुटबॉल मेरी जिंदगी थी। मैं कक्षा नौ तक इसमें बहुत अच्छा था। एक बार गर्मी की छुट्टी के दौरान, मेरे पिता (दिवंगत चंडी गांगुली, जो बंगाल क्रिकेट संघ में थे) ने मुझसे कहा कि तुम घर जाकर कुछ भी नहीं करोगे। उन्होंने मुझे एक क्रिकेट अकादमी में डाल दिया।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ मेरे अपने माता-पिता और परिवार काफी अनुशासनप्रिय थे ऐसे में मेरे लिए यह उनसे से दूर रहने का अच्छा मौका था। मुझे नहीं पता कि मेरे कोच ने मुझमें क्या देखा, उन्होंने मेरे पिता से कहा कि वह मुझे फुटबॉल से दूर करे। इसलिए मैं क्रिकेट में उतर गया।’’ अपने पदार्पण मैच की शतकीय पारी को उन्होंने करियर का सर्वश्रेष्ठ लमहा करार देते हुए कहा, ‘‘ मैंने दलीप ट्रॉफी के पदार्पण मैच में शतक लगाया, बंगाल के लिए रणजी फाइनल में पदार्पण किया लेकिन अंतरराष्ट्रीय पदार्पण में लॉर्ड्स में शतकीय पारी खेलना किसी सपने की तरह था।



hindi news portal lucknow

महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा- रेड जोन में एयरपोर्ट खोलना अत्यंत नासमझी है

24 May 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

मुंबई। महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा है कि कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के बीच रेड जोन में हवाईअड्डे फिर से खोलने का कदम अत्यंत नासमझी वाला है। केंद्रीय नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने घोषणा की थी कि भारत में 25 मई से घरेलू यात्री उड़ान सेवा बहाल हो जाएगी। देशमुख ने इस संदर्भ में रविवार को ट्वीट किया, ‘‘रेड जोन में हवाईअड्डे खोलने की सलाह अत्यंत नासमझी वाली है।केवल यात्रियों की थर्मल जांच करना और लार के नमूने नहीं लेना अपर्याप्त होगा। मौजूदा परिस्थितियों में ऑटो/कैब/बसें चलाना असंभव है। संक्रमित रोगी के आने से रेड जोन पर दबाव और बढ़ जाएगा।’’

रेड ज़ोन के हवाई अड्डों को इन हालात में खोलना ख़तरनाक साबित होगा। स्वॅब्स बगैर यात्रियों का केवल थर्मल स्कॅनिंग पूरी तरह अपर्याप्त है।

अभी रिक्षा/टॅक्सी/बस को इतनी तादाद में चलाना भी असंभव है। साथ ही किसी पॉजिटिव यात्री को रेड ज़ोन में लाकर वहाँ के खतरे में बढ़ोतरी करना ग़लत है।उन्होंने कहा, ‘‘ग्रीन जोन से यात्रियों को रेड जोन में आने देने से संक्रमण का जोखिम बढ़ाने की बात समझ में नहीं आती।

किसी व्यस्त हवाईअड्डे को सभी कोविड-19 सुरक्षा उपायों के साथ संचालित करने के लिए बड़ी संख्या में कर्मियों की जरूरत होगी और इससे रेड जोन में खतरा बढ़ेगा।’’ महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के अब तक कुल 47,190 मामले सामने आए हैं जिनमें 28,817 मामले मुंबई से हैं। महानगर में संक्रमण से अब तक 949 लोगों की मौत हो चुकी है।



hindi news portal lucknow

गंभीर चाहते हैं कि BCCI अगुआ की भूमिका निभाए , भारतीय टीम करे ऑस्ट्रेलिया का दौरा

11 May 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

मुंबई। पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर का मानना है कि मौजूदा संकट के दौर में भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) को अगुआ की भूमिका निभानी चाहिए और अगर इस साल के आखिरी में राष्ट्रीय टीम ऑस्ट्रेलिया का दौरा करती है तो इससे उनके मन में बोर्ड को लेकर सम्मान और बढ़ जाएगा। गंभीर बीसीसीआई के कोषाध्यक्ष अरूण धूमल के उस बयान पर प्रतिक्रिया दे रहे थे जिसमें उन्होंने कहा था कि भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया पहुंचने के बाद पृथकवास पर जा सकती है। दो सप्ताह के पृथकवास की जरूरत हालांकि तभी होगी जब द्विपक्षीय श्रृंखला से पहले वहां खेले जाने वाले टी20 विश्व कप का आयोजन नहीं होगा।गंभीर ने स्टार स्पोर्ट्स के कार्यक्रम ‘क्रिकेट कनेक्टेड’ में कहा, ‘‘ बीसीसीआई की तरफ से यह एक बहुत ही सकारात्मक संकेत है, क्योंकि मुझे लगता है कि वे एक बड़ी तस्वीर देख रहे हैं। इससे पूरे देश का मूड बदल सकता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ ऑस्ट्रेलिया में श्रृंखला जीतना जरूरी है लेकिन यह सिर्फ श्रृंखला जीतने के बारे में नहीं है। इससे भारत ही नहीं ऑस्ट्रेलिया में भी सकारात्मक माहौल बनेगा।’’ भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया दौरे पर चार टेस्ट मैच खेलना है। अगर यह दौरा नहीं हुआ तो क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया को 300 मिलियन ऑस्ट्रेलियाई डॉलर (लगभग 14.74 अरब रूपये) का नुकसान होगा।गंभीर ने कहा, ‘‘ अगर भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया का दौरा किया तो मेरे मन में बीसीसीआई के लिए सम्मान और बढ़ जाएगा।’’ भारत के लिए 58 टेस्ट और 147 एकदिवसीय खेलने वाले 38 साल के गौतम गंभीर ने इस मौके पर आईसीसी (अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद) की हाल ही जारी टेस्ट रैंकिंग पर सवाल उठाया। इस रैंकिंग में भारत को हटाकर ऑस्ट्रेलिया पहले स्थान पर आ गया। उन्होंने कहा, ‘‘ नहीं, मैं आश्चर्यचकित नहीं हूं, क्योंकि मुझे इन सभी रैंकिंग और अंक प्रणाली में विश्वास नहीं है। विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में शायद सबसे खराब अंक प्रणाली है। आप घरेलू मैदान पर मैच जीते या विदेशी सरजमीं पर आपको बराबर अंक मिलता है। यह बकवास है।



12345678910...