खेल

hindi news portal lucknow

IND v ENG: बिना दर्शकों के खेले जाएंगे भारत और इंग्लैंड के बीच टेस्ट मैच

23 Jan 2021 [ स.ऊ.संवाददाता ]

चेन्नई। भारत और इंग्लैंड के बीच आगामी श्रृंखला के दो टेस्ट एम ए चिदम्बरम स्टेडियम में दर्शकों के बिना खेले जायेंगे। मेजबान संघ टीएनसीए के एक शीर्ष अधिकारी ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी। तमिलनाडु क्रिकेट संघ (टीएनसीए) के सचिव आर एस रामास्वामी के अनुसार दो टेस्ट मैच कोविड-19 हालातों को देखते हुए भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के निर्देश के मुताबिक दर्शकों के बिना खेले जायेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘हां, वायरस से उत्पन्न हालात को देखते हुए बचाव के उपाय के तहत दर्शकों को दो टेस्ट मैचों में स्टेडियम में जाने की अनुमति नहीं दी जायेगी। ’’ साथ ही 20 जनवरी की तारीख को एक सर्कुलर टीएनसीए सदस्यों को भेजा गया है जिसमें कहा गया है कि मैचों को दर्शकों के बिना खेलने का फैसला बीसीसीआई के साथ लिया गया है।सर्कुलर के अनुसार, ‘‘कोविड-19 महामारी की मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए बीसीसीआई ने भारत-इंग्लैंड टेस्ट श्रृंखला के दौरान खिलाड़ियों की सुरक्षा के साथ किसी भी तरह का जोखिम नहीं उठाने का फैसला किया है। ’’ इसके मुताबिक, ‘‘बीसीसीआई निर्देश के अनुसार एहतियाती कदम के तौर पर पहले दो टेस्ट मैच पांच से 17 फरवरी के बीच एम ए चिदम्बरम स्टेडियम में दर्शकों के बिना खेले जायेंगे। ’’ टीमों के 27 जनवरी तक चेन्नई पहुंचने की उम्मीद है जिसके बाद बायो-बबल में प्रवेश करने से पहले कोविड-19 परीक्षण कराना होगा। केंद्र सरकार ने हाल में घोषणा की थी कि आउटडोर खेल गतिविधियां मानक परिचालन प्रक्रिया का पालन करते हुए 50 प्रतिशत दर्शकों के साथ करायी जा सकती हैं। पहला टेस्ट मैच पांच फरवरी से शुरू होगा।



hindi news portal lucknow

सौरव गांगुली को पड़ा दिल का दौरा! अस्पताल में कराया गया भर्ती, एंजियोप्लास्टी की तैयारी

02 Jan 2021 [ स.ऊ.संवाददाता ]

कोलकाता। भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के अध्यक्ष और पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली को सीने में दर्द की शिकायत के बाद शनिवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया। अस्पताल के सूत्रों से मिली जानकारी के ये पता चला है कि सौरव गांगुली को हल्का दिल का दौरा पड़ा है। फिलहाल पूर्व क्रिकेटर की स्थिति स्थिर है। डॉक्टर्स गांगुली का इलाज कर रहे हैं। अस्पताल के सूत्रों ने पुष्टि की कि 48 वर्षीय सौरव गांगुली को एंजियोप्लास्टी की आवश्यकता है। उन्हें कार्डियक अरेस्ट हुआ है जिसके जिसके इलाज के लिए गांगुली को एंजियोप्लास्टी से गुजरना होगा।अस्पताल के अधिकारी ने यह जानकारी दी। गांगुली की हालत अब ‘स्थिर’ है और उन्हें निजी अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया है। वह 48 बरस के हैं। शुक्रवार शाम वर्कआउट सत्र के बाद उन्होंने सीने में दर्द की शिकायत दी और आज दोपहर दोबारा ऐसी समस्या के बाद परिवार के सदस्य उन्हें अस्पताल ले गए। अधिकारी ने कहा, ‘‘अब उनकी हालत स्थिर है। हम देख रहे हैं कि यह दर्द दिल से जुड़ी किसी समस्या के कारण है या नहीं। उनके कई परीक्षण होंगे।



hindi news portal lucknow

शोएब अख्तर ने भारत के इस गेंदबाज को बताया क्रिकेट का ‘ चतुर तेज गेंदबाज’

01 Jan 2021 [ स.ऊ.संवाददाता ]

नयी दिल्ली। पाकिस्तान के तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने जसप्रीत बुमराह को मौजूदा क्रिकेट का ‘ चतुर तेज गेंदबाज’ करार देते हुए कहा कि उन्होंने विरोधी बल्लेबाजों को उसी तरह छकाने की कला सीख ली है जिस तरह से कभी उनके देश के गेंदबाज किया करते थे। इस खेल को खेलने वाले सबसे तेज गेंदबाजों में से एक अख्तर बुमराह के कौशल से प्रभावित है। अख्तर ने यू-ट्यूब चैनल ‘स्पोर्ट्स टुडे’ से कहा, ‘‘ वह शायद भारत के पहले गेंदबाज है जो पिच पर घास देखने से पहले यह पता करते हैं कि हवा किस और किस गति से बह रही है। यह कला पहले पाकिस्तान के गेंदबाजों के पास थी। हम जानते थे कि हम हवा का कैसे इस्तेमाल कर सकते है।’’ उन्होंने अपना, वसीम अकरम और वकार युनुस का उदाहरण देते हुए समझाया कि कैसे वे गेंदबाजी के समय हवा का इस्तेमाल करते थे।उन्होंने कहा, ‘‘ मैं, वसीम भाई और वकार भाई हवा की गति और दिशा देखकर तय करते थे कि किस छोर से गेंदबाजी करने पर हमें रिवर्स स्विंग मिलेगी।’’ अख्तर ने कहा, ‘‘हम तेज गेंदबाजी के ‘मैकेनिक और एयरो डायनामिक्स’ को जानते थे, हमें पता होता था कि दिन के किस समय कितनी स्विंग मिलेगी। मैं मानता हूं कि बुमराह इस तरह की चीजों को जानते हैं।’’ अख्तर ने कहा कि मोहम्मद आसिफ और मोहम्मद आमिर के बाद चतुराई के मामले में बुमराह ‘ सबसे काबिल गेंदबाज’ है। बुमराह महज पांच सेकेंड के अंदर बल्लेबाजों को डरा देते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘विकेट लेने की क्षमता के कारण बुमराह सिर्फ पांच सेकेंड (रनअप) में बल्लेबाजों को डरा देते हैं।



hindi news portal lucknow

क्रिकेटर पार्थिव पटेल ने क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा की

09 Dec 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

नयी दिल्ली। भारत के लिये 17 वर्ष की उम्र में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण करने वाले पार्थिव पटेल ने बुधवार को खेल के तमाम प्रारूपों को अलविदा कह दिया। तीन महीने बाद अपना 36वां जन्मदिन मनाने जा रहे पार्थिव ने ट्विटर और इंस्टाग्राम पर लिखा ,‘‘ मैं आज क्रिकेट के सभी प्रारूपों से विदा ले रहा हूं। भारी मन से अपने 18 साल के क्रिकेट के सफर का समापन कर रहा हूं। ’’ सौरव गांगुली की कप्तानी में 17 वर्ष 153 दिन की उम्र में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण करने वाले पार्थिव ने 65 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले जिनमें 25 टेस्ट, 38 वनडे और दो टी20 मैच शामिल है। उन्होंने 1696 रन बनाये जिसमें टेस्ट क्रिकेट में 934 रन शामिल हैं। वनडे क्रिकेट में उन्होंने चार अर्धशतक समेत 736 रन बनाये। इसके अलावा बतौर विकेटकीपर टेस्ट में 62 कैच लपके और 10 स्टम्पिंग की। उन्होंने 2002 में इंग्लैंड दौरे पर भेजा गया जब उन्होंने रणजी ट्राफी क्रिकेट में भी पदार्पण नहीं किया था।पार्थिव ने कहा ,‘‘ बीसीसीआई ने काफी भरोसा जताया कि 17 साल का एक लड़का भारत के लिये खेल सकता है। अपने कैरियर के शुरूआती वर्षों में मेरी इस तरह हौसलाअफजाई करने के लिये मैं बोर्ड का शुक्रगुजार हूं।’’ उन्होंने 2004 में भारतीय टीम से बाहर किये जाने के बाद पहला रणजी मैच खेला। पार्थिव ने ‘दादा’ यानी बीसीसीआई अध्यक्ष गांगुली समेत सारे कप्तानों को धन्यवाद दिया। महेंद्र सिंह धोनी के आने के बाद पार्थिव विकेटकीपर के तौर पर दूसरी पसंद हो गए और यदा कदा बतौर बल्लेबाज ही खेले। बाद में सीमित ओवरों में सलामी बल्लेबाज के रूप में कुछ मैच खेले। पार्थिव ने लेकिन हमेशा स्वीकार किया कि वह धोनी को दोष नहीं दे सकते क्योंकि उन्हें और दिनेश कार्तिक को धोनी से पहले टीम में अपनी जगह पक्की करने के मौके मिले थे। वह घरेलू क्रिकेट में काफी कामयाब रहे और 194 प्रथम श्रेणी मैचों में 27 शतक समेत 11240 रन बनाये। उन्होंने आईपीएल में मुंबई इंडियंस, चेन्नई सुपर किंग्स, रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के लिये खेला।इस बार आरसीबी के लिये वह एक भी मैच नहीं खेल सके। उन्होंने कहा ,‘‘ मैं आईपीएल टीमों और उनके मालिकों को भी धन्यवाद देना चाहता हूं जिन्होंने मुझे टीम में शामिल किया और मेरा ध्यान रखा।’’ पार्थिव की कप्तानी में गुजरात ने 2016 . 17 में रणजी खिताब जीता। वह भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह के पहले कप्तान रहे जिनके साथ2 2013 में सैयद मुश्ताक अली ट्राफी खेला। पार्थिव ने कहा ,‘‘ मुझे सुकून है कि मैने गरिमा, खेल भावना और आपसी सामंजस्य के साथ खेला। मैने जितने सपने देखे थे, उससे ज्यादा पूरे हुए। मुझे उम्मीद है कि मुझे याद रखा जायेगा।



hindi news portal lucknow

आल राउंडर विकल्पों की कमी टीम के संतुलन को प्रभावित कर रही: कोहली

28 Nov 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

सिडनी। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ शुरूआती वनडे में मिली हार के बाद अपनी टीम के हाव भाव पर सवाल उठाये और कहा कि हार्दिक पंड्या का गेंदबाजी के लिये फिट नहीं होने से टीम का संतुलन प्रभावित हो रहा है क्योंकि उनके पास ज्यादा आल राउंडर मौजूद नहीं हैं। भारत की आस्ट्रेलिया दौरे की शुरूआत निराशाजनक हुई, उसे यहां पहले वनडे में 66 रन से हार का सामना करना पड़ा। कोहली ने मैच के बाद कहा, ‘‘हर किसी को पूरे 50 ओवरों में अपना जज्बा दिखाने की जरूरत होती है। शायद, हम लंबे समय बाद 50 ओवर के क्रिकेट में खेले जिसका असर मैदान में खड़े खिलाड़ियों पर पड़ सकता है लेकिन हमने इतना वनडे क्रिकेट खेला है कि हम इससे निपटना जानते हैं। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि मैदान पर 25 ओवर के बाद खिलाड़ियों के हाव भाव अच्छे नहीं थे। यह निराशाजनक चीज है। अगर आप शीर्ष स्तर की प्रतिद्वंद्वी टीम के खिलाफ मौकों का फायदा नहीं उठाओगे तो वे आपको नुकसान पहुंचा देंगे और आज ऐसा ही हुआ। ’’ हार्दिक पंड्या गेंदबाजी के लिये अभी फिट नहीं हैं तो कोहली ने कहा कि इससे टीम के संतुलन पर असर पड़ रहा है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमें कामचलाऊ गेंदबाजों से कुछ ओवर करवाने के लिये एक तरीका ढूंढना होगा। दुर्भाग्य से हार्दिक जैसा खिलाड़ी अभी गेंदबाजी के लिये तैयार नहीं है, हमें यह स्वीकार करना होगा, हमारे पास इस समय कोई अन्य आल राउंड विकल्प मौजूद नहीं है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘इस चीज पर ध्यान देने की जरूरत है, यह किसी भी टीम के संतुलन का अहम हिस्सा है। मार्कस स्टोइनिस, ग्लेन मैक्सवेल आस्ट्रेलिया के लिये कुछ ओवर डाल रहे हैं, जिससे उन्हें मदद मिली।’’ कोहली ने कहा कि उनके गेंदबाज नियमित अंतराल पर विकेट नहीं चटका सके जिससे आस्ट्रेलिया को बड़ा स्कोर बनाने में मदद मिली। उन्होंने कहा, ‘‘मैच जीतने में विकेट चटकाना सबसे अहम है, और हम यही नहीं कर सके, साथ ही मैदान पर कुछ गलतियों से भी हमने शुरू में जो दबाव बनाया था, उसका फायदा नहीं उठा सके। ’’ यह पूछने पर कि क्या संयुक्त अरब अमीरात से आस्ट्रेलिया पहुंचकर पृथकवास में रहने से टीम का प्रदर्शन प्रभावित हुआ तो उन्होंने कहा कि यह कोई बहाना नहीं है। उन्होंने कहा, ‘‘तैयारी के लिये काफी समय मिला। इसके लिये कोई बहाना नहीं बनाया जा सकता।’’ भारत के लिये शिखर धवन (74) और हार्दिक (90) शीर्ष स्कोरर रहे। बल्लेबाजी इकाई के बारे में बात करते हुए कोहली ने कहा, ‘‘बल्लेबाजी के लिये हमने अभी थोड़ी बात की। सभी बल्लेबाज खेलने के लिये प्रतिबद्ध थे, मुझे लगता है कि हमने खुद को अच्छा मौका दिया। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘हार्दिक की पारी इसका सबसे अच्छा उदाहरण है। बल्लेबाजी इकाई के तौर पर हम सकारात्मक क्रिकेट खेलने के प्रति प्रतिबद्ध थे और हम भविष्य में भी ऐसा ही करेंगे। ’’ वहीं आस्ट्रेलियाई टीम के कप्तान आरोन फिंच ने कहा कि उन्होंने पारी के शुरू में थोड़ा समय लिया। उन्होंने कहा, ‘‘टाइमिंग के साथ बल्लेबाजी करने में मुश्किल हो रही थी। कुछ मौकों पर भाग्यशाली रहा। ’’ फिंच ने अपने खिलाड़ियों के इस प्रदर्शन के लिये प्रशंसा की जबकि वे बतौर टीम ज्यादा ट्रेनिंग भी नहीं कर पाये थे। उन्होंने कहा, ‘‘हमें बतौर टीम ज्यादा समय ट्रेनिंग के लिये नहीं मिला। हर खिलाड़ी कीमजबूती और कमजोरी अलग होत है। आप इसे स्वीकार करते हो। डेवी, वह शानदार लय में था। स्मज भी बेहतरीन था। ’’ स्टीव स्मिथ को ‘प्लेयर आफ द मैच’ चुना गया, जिन्होंने कहा कि सलामी बल्लेबाज फिंच (114) और डेविड वार्नर (69) ने उन्हें 66 गेंद में 105 रन बनाने में मदद की जिससे आस्ट्रेलिया ने छह विकेट पर 375 रन बनाये।



hindi news portal lucknow

ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के क्रिकेटरों की BCCI से पृथकवास अवधि कम करने की अपील

15 Sep 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

नयी दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में भाग लेने वाले ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के क्रिकेटरों ने बीसीसीआई (भारतीय क्रिकेट बोर्ड) से अनुरोध किया है कि संयुक्त अरब अमीरात पहुंचने के बाद छह दिनों की पृथकवास अवधि को कम कर तीन दिनों का किया जाए ताकि वे टूर्नामेंट की शुरुआत से चयन के लिए उपलब्ध रहे। ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच सीमित ओवरों की जारी मौजूदा श्रृंखला में दोनों देशों के ऐसे 21 खिलाड़ी है जो चार्टर्ड विमान से मैनचेस्टर से 17 सितंबर को यूएई पहुचेंगे। मौजूदा पृथकवास नियमों के तहत वे चयन के लिए 23 सितंबर से उपलब्ध रहेंगे जबकि टूर्नामेंट 19 सितंबर से शुरु होगा। बड़े शॉट लगाने के लिए मशहूर एक बल्लेबाज ने इन खिलाड़ियों की तरफ से बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली से अनुरोध किया है कि पृथकवास अवधि को तीन दिनों का किया जाए। टूर्नामेंट की तैयारियों की देखरेख के लिए गांगुली बोर्ड के अन्य पदाधिकारियों के साथ यूएई में है। उनसे इस मामले में प्रतिक्रिया नहीं मिल पायी लेकिन बोर्ड के एक सूत्र ने बताया कि ऐसी मांग की गयी है।सूत्र ने गोपनीयता की शर्त पर कहा, ‘‘हां, बीसीसीआई अध्यक्ष को एक अनुरोध प्राप्त हुआ है। यह एक खिलाड़ी द्वारा लिखा हो सकता है, लेकिन इससे इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के सभी खिलाड़ी इत्तेफाक रखते हैं। इन खिलाड़ियों को लगता है कि वे पहले से ही ऑस्ट्रेलिया और फिर ब्रिटेन में बायो-बबल (जैव-सुरक्षित माहौल) में हैं। ऐसे में यह तर्कसंगत होगा कि उन्हें एक बायो-बबल से दूसरे में प्रवेश करने की अनुमति दी जाए। वे सभी बायो-बबल के बाहर किसी के संपर्क में नहीं आये हैं। सूत्र ने कहा, ‘‘ ये खिलाड़ी साउथम्पटन और मैनचेस्टर, दोनों जगह हिल्टन होटल में रुके थे, जो स्टेडियम का एक हिस्सा है। उनका हर पांचवें दिन परीक्षण जा रहा हैं और यहां तक ​​कि ब्रिटेन से उनके प्रस्थान के दिन भी परीक्षण किया जाएगा। यहां पहुंचने के पहले और तीसरे दिन भी जांच होगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ अगर आप इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) की सुरक्षा इंतजाम को देखेंगे, तो खिलाड़ियों के कमरों में सफाईकर्मियों को भी जाने अनुमति नहीं है।इसके अलावा वे वाणिज्यिक नहीं बल्कि एक चार्टर्ड विमान से आयेंगे। ’’ उन्होंने यह नहीं बताया कि इस अनुरोध को स्वीकार किया जाएगा या नहीं लेकिन कहा, ‘‘ उनका यह तथ्य मजबूत है कि वे एक बायो-बबल से दूसरे में प्रवेश करना चाहते हैं।’’ कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) को छोड़कर सभी टीमों पर छह दिनों के इस पृथकवास नियम का असर पड़ेगा। केकेआर का पहला मैच 23 सितंबर को मुंबई इंडियन्स के खिलाफ है। इसका सबसे ज्यादा नुकसान राजस्थान रॉयल्स को होगा जिसे पहले से ही बेन स्टोक्स की कमी महसूस हो रही है। नियमों में अगर बदलाव नहीं हुआ तो जोफ्रा आर्चर, जोस बटलर और स्टीव स्मिथ शुरुआती मुकाबले के लिए टीम का हिस्सा नहीं होंगे। सनराइजर्स हैदराबाद को कप्तान डेविड वार्नर के अलावा सलामी बल्लेबाजी में उनके जोड़ीदार जॉनी बेयरस्टो के बिना पहला मैच खेलना होगा। चेन्नई सुपरकिंग्स को पहले दो मैचों में जोश हेजलवुड और सैम कुरेन की सेवाएं नहीं मिलेंगी।



hindi news portal lucknow

खेलमंत्री किरेन रीजीजू ने फिट इंडिया फ्रीडम रन लांच की, भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल लेंगे भाग

15 Aug 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

नयी दिल्ली। खेलमंत्री किरेन रीजीजू ने फिटनेस को बढावा देने के लिये शुक्रवार को देशव्यापी ‘फिट इंडिया फ्रीडम रन’ शुरू की। कोरोना वायरस महामारी के बीच प्रतिभागी अपने अपने स्थानों पर अपनी गति से 15 अगस्त से दो अक्टूबर के बीच किसी भी समय दौड़ेंगे। इसमें सीमा सुरक्षा बल, भारत तिब्बत सीमा पुलिस और केंद्रीय आरक्षित पुलिस बल भी भाग लेंगे।इनके अलावा भारतीय रेलवे, सीबीएसई और आईसीएसई स्कूल भी इसमें हिस्सा लेंगे। इनके साथ नेहरू युवा केंद्र संगठनऔर राष्ट्रीय सेवा योजना के करीब 75 लाख वालिंटियर इसमें हिस्सा लेंगे। रीजीजू ने कहा ,‘‘ फिट इंडिया फ्रीडम रन में भाग लेने को लेकर उत्साह से मैं काफी खुश हूं। फिट इंडिया आंदोलन को जनता का आंदोलन बनाने का प्रधानमंत्री का सपना अब सच हो गया है।



hindi news portal lucknow

दुबई में रहने वाली 11 साल की भारतीय लड़की ने योगासन में विश्व रिकॉर्ड तोड़ा

19 Jul 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

दुबई। दुबई में रहने वाली एक भारतीय लड़की ने सीमित स्थान में कुछ ही मिनट के भीतर योग के 100 आसन कर विश्व रिकॉर्ड तोड़ दिया। खलीज टाइम्स की खबर के मुताबिक, 11 वर्षीय समृद्धि कालिया ने तीसरी बार विश्व रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज कराया है। कालिया ने पिछले एक महीने के अंदर ही दूसरी बार विश्व कीर्तिमान स्थापित किया है।गोल्डन बुक वर्ल्ड रिकॉर्ड के सीमित स्थान में सबसे तेजी से योग के 100 आसन करने को लेकर कालिया ने कहा कि उनकी सफलता की वजह कठिन परिश्रम और दृढ़ता है। सातवीं कक्षा की छात्रा ने बृहस्पतिवार को मशहूर इमारत बुर्ज खलीफा में यह योगासन प्रस्तुति दी थी। इससे पहले, 21 जून को विश्व योग दिवस के मौके पर समृद्धि ने एक मिनट में 40 उन्नत योग आसन करने का अपना दूसरा विश्व रिकॉर्ड बनाया था।



hindi news portal lucknow

BCCI सचिव ने शशांक मनोहर पर साधा निशाना, कहा-खुद आकलन करें कि उन्होंने भारतीय क्रिकेट को कितना नुकसान पहुंचाया

02 Jul 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

राजकोट। भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के पूर्व सचिव निरंजन शाह ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के पूर्व चेयरमैन शशांक मनोहर पर निशाना साधते हुए उनसे अपील की है कि वह समय निकालकर आकलन करें कि उन्होंने भारतीय क्रिकेट को ‘किस तरह का नुकसान’ पहुंचाया है। मनोहर ने दो साल के दो कार्यकाल के बाद बुधवार को अपना पद छोड़ दिया था क्योंकि उन्हें अहसास हो गया था कि बहुमत में लोग उनके तीसरे कार्यकाल के खिलाफ होंगे। बीसीसीआई का इतने वर्षों तक मानना रहा है कि मनोहर ने ‘बिग थ्री’ मॉडल को रद्द करवाने में अहम भूमिका निभाई थी जिसमें राजस्व का अधिकांश हिस्सा इंग्लैंड, आस्ट्रेलिया और भारत की झोली में जाता था

बीसीसीआई के सचिव रहे शाह ने बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष के संदर्भ में बयान जारी करके कहा, ‘‘शशांक जी को मिश्रित अहसास होगा कि वह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए वह क्या कर सकते थे और उनके कार्यकाल के दौरान भारत में क्रिकेट के साथ क्या हुआ।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अब वह आईसीसी चेयरमैन के रूप में अपने कार्यकाल का आकलन कर सकते हैं और बीसीसीआई के अध्यक्ष के रूप में भी जो उनके लिए मंच था। वह आकलन कर सकते हैं कि उनके कार्यकाल के दौरान भारतीय क्रिकेट और बीसीसीआई को क्या नुकसान पहुंचा।’’ शाह का मानना है कि बीसीसीआई के मौजूदा नेतृत्व से बोर्ड को आईसीसी में मजबूत, फायदेमंद और रचनात्मक प्रतिनिधित्व मिलेगा। उन्होंने कहा, ‘‘बीसीसीआई को पिछले कुछ वर्षों में मुश्किलों का सामना करना पड़ा। और इन वर्षों में आईसीसी ने स्थिति का फायदा उठाकर भारत में क्रिकेट और बीसीसीआई को हर संभावित तरीके से नुकसान पहुंचाया। ’’ शाह ने कहा, ‘‘हालांकि मुझे पूरा यकीन है कि बीसीसीआई का मौजूदा नेतृत्व का आईसीसी में मजबूत, फायदेमंद और रचनात्मक प्रतिनिधित्व होगा।



hindi news portal lucknow

गौतम गंभीर बोले- तीसरे नंबर पर अधिकांश रिकार्ड तोड़ सकते थे धोनी

15 Jun 2020 [ स.ऊ.संवाददाता ]

मुंबई। भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर का मानना है कि महेंद्र सिंह धोनी अगर 50 ओवरों के क्रिकेट में तीसरे नंबर पर उतरते तो बल्लेबाजी के सारे रिकार्ड उनके नाम होते। गंभीर को भारत के मौजूदा कप्तान विराट कोहली और धोनी में से एक को चुनने को कहा गया था। उन्होंने स्टार स्पोटर्स के शो ‘क्रिकेट कनेक्टेड’ से कहा ,‘‘ दोनों की तुलना करना काफी कठिन है क्योंकि एक तीसरे नंबर पर तो दूसरा छठे या सातवें नंबर पर उतरता है।’’ गंभीर ने कहा कि धोनी तीसरे नंबर पर उतरते तो बल्लेबाजी के अधिकांश रिकार्ड तोड़ चुके होते। उन्होंने कहा ,‘‘ शायद मैं एम एस धोनी को चुनता।सपाट विकेटों पर मौजूदा गेंदबाजी आक्रमण के बीच तीसरे नंबर पर वह बेहतरीन होते।’’ उन्होंने कहा ,‘‘ श्रीलंका, बांग्लादेश, वेस्टइंडीज को देखो। अंतरराष्ट्रीय गेंदबाजी के स्तर को देखते हुए एम एस धोनी अधिकांश रिकार्ड अपने नाम कर लेते।’’ विश्व कप 2007 और 2011 की विजेता टीम के सदस्य रहे गंभीर ने कहा कि धोनी अगर भारत के कप्तान नहीं होते और तीसरे नंबर पर उतरते तो दुनिया के सबसे मनोरंजक बल्लेबाज होते। वहीं भारत के पूर्व तेज गेंदबाज इरफान पठान ने कहा कि धोनी और कोहली में से तीसरे नंबर के लिये वह कोहली को चुनते। उन्होंने कहा ,‘‘ एम एस को तीसरे नंबर पर मौके मिले लेकिन उन्होंने नहीं किया। मेरा मानना है कि विराट और धोनी में से तीसरे नंबर के लिये विराट के पास बेहतर तकनीक है।



12345678910...