दिल्ली

hindi news portal lucknow

Lionel Messi के फैंस के लिए दोहरी खुशी, FIFA की ट्रॉफी जीतने के बाद रिटायरमेंट का फैसला लिया वापस

19 Dec 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

फीफा विश्व कप 2022 में अर्जेंटीना की टीम ने पेनल्सीट शूटआउट के जरिए फाइनल मुकाबले में जीत हासिल की है। इस मुकाबले को जीताकर अर्जेंटीना की टीम के कप्तान लियोनेल मेसी ने फैंस को खुश होने का खास मौका दिया है। इसी बीच मेसी से जुड़ी एक और खबर ने फैंस को खुश कर दिया है।

फीफा विश्व कप 2022 में अर्जेंटीना की टीम विजेता बनकर उभरी है। इस विश्व कप के फाइनल मुकाबले से पहले ही अर्जेंटीना की टीम के कप्तान और स्टार प्लेयर लियोनेल मेसी ने बड़ा ऐलान किया था जिससे हर फुटबॉल प्रशंसक का दिल टूट गया था। दरअसल फाइनल मुकाबले से पहले मेसी ने ऐलान किया था कि वो विश्व कप के बाद फुटबॉल से सन्यास लेंगे। हालांकि अब विश्व कप ट्रॉफी पर कब्जा करने के बाद रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि लियोनेल मेसी ने फुटबॉल को अलविदा करने का इरादा त्याग दिया है।रिपोर्ट्स के अनुसार लियोनेल मेसी ने कहा है कि वो अभी रिटायरमेंट नहीं लेंगे। मेसी कुछ समय के लिए और भी मैच खेलना चाहेंगे। बता दें कि फीफा विश्व कप फाइनल मुकाबले से पहले मेसी ने आगे फुटबॉल खेलने का विचार त्याग दिया था। वहीं फ्रांस के खिलाफ जीत हासिल कर अर्जेंटीना को विश्व चैंपियन बनाने वाले खिलाड़ी लियोनेल मेसी अब अर्जेंटीना के खेल को आगे तक ले जाना चाहते है। उन्होंने कहा कि विजेता के तौर पर फुटबॉल खेलने की इच्छा अलग ही है।बता दें कि लियोनेल मेसी के नेतृत्व में अर्जेंटीना की टीम ने 36 वर्षों के बाद फीफा विश्व कप की ट्रॉफी पर कब्जा किया है। इससे पहले 1986 में डिएगो मैराडोना के नेतृत्व में अर्जेंटीना की टीम ने फीफा विश्व कप ट्रॉफी जीती थी। मैराडोना के बाद मेसी अर्जेंटीना की टीम को विश्वकप ट्रॉफी जीताने में सफल हुए है। बता दें कि फीफा विश्व कप में बतौर खिलाड़ी लियोनेल मेसी पांचवी बार खेल रहे थे मगर ट्रॉफी जीतने का सपना इस बार पूरा हुआ है।फीफा विश्व कप का फाइनल मुकाबला 18 दिसंबर को खेला गया जिसमें अर्जेंटीना के मेस्सी के दो गोल और शूटआउट में तीसरे गोल की मदद से अर्जेंटीना ने काइलियान एमबाप्पे की हैट्रिक के बावजूद फ्रांस को हरा दिया। अर्जेंटीना ने 80वें मिनट तक मेस्सी (23वां मिनट) और एंजेल डि मारियो (36वां मिनट) के गोलों के दम पर 2 . 0 की बढत बना ली थी लेकिन एमबाप्पे ने 80वें और 81वें मिनट में दो गोल करके मैच को अतिरिक्त समय तक खिंच दिया।अतिरिक्त समय में मेस्सी ने 108वें मिनट में गोल दागा तो एमबाप्पे ने दस मिनट बाद फिर बराबरी करके मैच को पेनल्टी शूटआउट में खींच दिया। शूटआउट में सब्स्टीट्यूट गोंजालो मोंटियेल ने निर्णायक पेनल्टी पर गोल दागा जबकि फ्रांस के किंग्स्ले कोमैन और ओरेलियेन चोउआमेनी गोल करने से चूक गए।



hindi news portal lucknow

India China Clash: तवांग मुद्दे पर सदन में गतिरोध जारी, विपक्षी दलों ने राज्यसभा से किया वॉकआउट

19 Dec 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

नई दिल्ली, एएनआई। Winter session of Parliament: भारत और चीन की सेना के बीच अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) के तवांग सेक्टर (Twang Sector) में हुई झड़प के मुद्दे पर सोमवार को भी राज्यसभा में जमकर हंगामा हुआ। कांग्रेस (Congress) समेत विपक्षी पार्टियां सदन में भारत-चीन बॉर्डर पर बने हालात पर चर्चा की मांग कर रही हैं।सोमवार को राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि, ''वे (चीन) हमारी जमीन पर कब्जा कर रहे हैं। इस मुद्दे पर हम चर्चा नहीं करेंगे तो और क्या चर्चा करेंगे? हम सदन में इस मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार हैं।'' इस बीच भारत-चीन सीमा संघर्ष पर चर्चा करने के उनके नोटिस को अस्वीकार किए जाने के कारण संयुक्त विपक्ष ने राज्यसभा से वॉकआउट किया।

गौरतलब है कि, चीन के साथ सीमा पर हुई झड़प और भारत-चीन सीमा के हालात पर लोकसभा में चर्चा कराने की मांग को लेकर कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी और मणिकम टैगोर ने लोकसभा में कार्यस्थगन प्रस्ताव का नोटिस दिया है।

आपको ये बता दें कि सरकार, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की तरफ से संसद के दोनों सदनों में दिए गए बयान का हवाला देते हुए इस पर चर्चा कराने की विपक्षी दलों की मांग को पहले ही नकार चुकी है।



hindi news portal lucknow

दिल्ली NCR में निर्माण कार्य-खनन पर लगी रोक, ये वाहन भी हुए बैन; GRAP का तीसरा चरण लागू

19 Dec 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

नई दिल्ली। दिल्ली में सर्दी बढ़ते ही वायु प्रदूषण फिर से बढ़ गया है। वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग (CAQM) ने प्रदूषण को कम करने के लिए एक बार फिर से दिल्ली एनसीआर में ग्रेप (ग्रेडेड रिस्पॉस एक्शन प्लान) का तीसरा चरण लागू कर कर दिया है। यानी कि अब खनन, निर्माण कार्य पर रोक के साथ और भी पाबंदियां लागू हो गई हैं।सीएक्यूएम की हुई बैठक में बताया गया कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) के अनुसार, सोमवार शाम 4 बजे दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 410 दर्ज किया गया। जो गंभीर श्रेणी को दर्शाता है। नोएडा में एक्यूआई 399 जबकि गुरुग्राम में एक्यूआई 302 दर्ज किया गया। दिल्ली में प्रदूषण तापमान में गिरावट, शांत हवाओं, खराब मिश्रण के कारण हो रहा है।

CAQM द्वारा लगाए गए GRAP-3 के प्रतिबंधों के अंतर्गत अब दिल्ली के सभी निर्माण कार्यों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इसके अलावा किसी भी तरह के तोड़-फोड़ पर भी रोक लग गई है। साथ ही खनन पर भी बैन लगाया गया है। साथ ही बीएस-3 पेट्रोल (BS-3 Petrol Vehicle) और बीएस-4 डीजल (BS-4 Diesel Vehicle) वाहनों पर भी बैन लगा दिया गया है।बता दें कि सुबह के समय पूरे दिल्ली-NCR में कोहरे और धुंध की चादर छाई रहती है। इस कारण लोगों को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। लोगों को गले में खराश से लेकर आखों में जलन जैसी परेशानिया झेलनी पड़ रही है।

वायु गुणवत्ता सूचकांक (Air Quality Index) एक नंबर होता है जिसके जरिए हवा की गुणवत्ता को आंका जाता है। इससे वायु में मौजूद प्रदूषण के स्तर का भी पता लगाया जाता है। एक्यूआई की रीडिंग के आधार पर हवा की गुणवत्ता को छह कैटेगरी में बांटा गया है। शून्य से 50 के बीच AQI अच्छा, 51 और 100 संतोषजनक, 101 और 200 मध्यम, 201 और 300 खराब, 301 और 400 बहुत खराब, और 401 और 500 के बीच AQI को गंभीर माना जाता है।



hindi news portal lucknow

संंसदीय कार्यवाही के लिए कांग्रेस का रवैया विनाशकारी और बाधक: पीयूष गोयल

19 Dec 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

नई दिल्ली, एएनआई। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने सोमवार को कहा कि विपक्ष एक "अवरोधक" की तरह व्यवहार कर रहा है जो संसद के कामकाज में नियमों और विनियमों में विश्वास नहीं करता है। राष्ट्रीय राजधानी में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, पीयूष गोयल ने कहा, "आज राज्यसभा में, हमने विपक्षी दलों से हताशा और मर्यादा की पूर्ण अनुपस्थिति देखी। उनकी हताशा एक ऐसे स्तर पर पहुंच गई, जहां वे संसद के कामकाज में कोई नियम और कानून पर विश्वास भी नहीं करते।" "गोयल ने कहा, "वे अध्यक्ष के फैसलों और टिप्पणियों को भी नकार रहे हैं। दुर्भाग्य से, विपक्ष एक बाधावादी और विनाशकारी व्यवहार कर रहा है।"

केंद्रीय मंत्री ने यह भी कहा कि राज्यसभा से विपक्ष का हालिया बयान सेना में उनके "विश्वास की कमी" को दर्शाता है। उन्होंने कहा, "यह सेना में उनके विश्वास की पूर्ण कमी को दर्शाता है जो सशस्त्र बल का मनोबल गिरा रहा है। यह देश के सर्वोत्तम हित में है कि विपक्ष सुरक्षा के संवेदनशील मामलों और लोकतांत्रिक मूल्यों को बनाए रखने के लिए संसद के सुचारू कामकाज की अनुमति दें।उन्होंने आगे विपक्ष, विशेष रूप से कांग्रेस से सीमा पर सेना और जवानों का सम्मान करने की अपेक्षा व्यक्त की। उन्होंने कहा कि रक्षा मंत्री पहले ही राज्यसभा में एक विस्तृत बयान दे चुके हैं, जिसके बाद, हम विपक्ष, विशेष रूप से कांग्रेस से हमारी सेना, सीमा पर जवानों और राष्ट्र के प्रति उनकी प्रतिबद्धता का सम्मान करने की उम्मीद करते हैं।



hindi news portal lucknow

गूगल के CEO सुंदर पिचाई ने PM नरेंद्र मोदी से की मुलाकात, भारत की जी20 अध्यक्षता पर जताई खुशी

19 Dec 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

नई दिल्ली, एजेंसी। गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई (Google CEO Sundar Pichai) ने सोमवार को पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। सुंदर पिचाई ने ट्विटर के जरिए मुलाकात की जानकारी दी है। पिचाई ने ट्विट किया, 'आज की शानदार मुलाकात के लिए धन्यवाद पीएम नरेंद्र मोदी। आपके नेतृत्व में तकनीकी परिवर्तन की तीव्र गति को देखकर प्रेरणा मिलती है। हमारी मजबूत साझेदारी को जारी रखने और सभी के लिए काम करने वाले एक खुले, कनेक्टेड इंटरनेट को आगे बढ़ाने के लिए भारत की G20 अध्यक्षता का समर्थन करने के लिए हम तत्पर हैं।'बता दें कि टेक जाइंट कंपनी गूगल ने अपने Google For India 2022 इवेंट की शुरुआत की। इस इवेंट को सोमवार दोपहर 12 बजे शुरू किया गया था। सोमवार को गूगल फॉर इंडिया इवेंट में सुंदर पिचाई और सूचना एवं तकनीक मंत्री अश्विनी वैष्णव के बीच भारत में एआई और एआई आधारित सॉल्यूशन को लेकर बातचीत भी की। पिचाई ने आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव के साथ बातचीत के दौरान कहा कि कुछ ऐसा बनाना आसान है जो पूरे देश में फैला हो और यही वह अवसर है जो भारत के पास है।सूचना एवं तकनीक मंत्री अश्विनी वैष्णव के साथ हुई बातचीत को लेकर सुंदर पिचाई ने ट्वीट किया, 'आज हुए जीवंत बातचीत के लिए और करने के लिए अश्विनी वैष्णव का धन्यवाद। वहीं, बातचीत को मॉडरेट करने के लिए शर्मा श्रद्धा का भी शुक्रिया। एआई, स्टार्टअप्स और प्रौद्योगिकीविदों की अगली पीढ़ी के साथ अभी भारत में हो रही सभी रोमांचक चीजों से उत्साहित हूं।'



hindi news portal lucknow

Sidhu Moose Wala Murder: एक दिन पहले ही सिद्धू मूसेवाला की सुरक्षा कम की गई थी वापस, विपक्ष ने भगवंत मान सरकार पर साधा निशाना

29 May 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

चंडीगढ़। कांग्रेस नेता और मशहूर गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्‍या के बाद पंजाब की भगवंत मान सरकार सवालों के घेरे में गई है। पंजाब सरकार ने कल ही सिद्धू मूसेवाला सुरक्षा में कमी कर दी थी। कांंग्रेस , भाजपा और शिरोमणि अकाली दल के नेताओं ने सिद्धू मूसेवाला की सुरक्षा कमी किए जाने और इसके बाद उनकी हत्‍या को लेकर भगवंत मान सरकार पर हमला किया है। विपक्षी नेताओं ने कहा है कि सिद्धू मूसेवाला को पहले से काफी खतरा था। ऐसे में उनकी सुरक्षा क्‍यों हटाई गई। भाजपा नेता मनजिंदर सिंह सिरसा व अन्‍य नेताओंं ने कहा कि पंंजाब की भगवंत मान सरकार ने राजनीतिक वाह-वाही लेने के लिए सुरक्षा हटाकर इसकी जानकारी सार्वजनिक कर दी। उन्‍होंंने हत्‍या के लिए पंजाब सरकार को जिम्‍मेदार ठहराया। बता दें कि पंजाब सरकार ने वीआइपी सुरक्षा में कटौती करते हुए शनिवार को कई धर्मगुरुओं, विधायकों व पुलिस अधिकारियों समेत 424 लोगों की सुरक्षा में कमी कर दी। इनमें श्री अकाल तख्त साहिब के कार्यवाहक जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह, डेरा राधा स्वामी सत्संग ब्यास के प्रमुख गुरिंदर सिंह ढिल्लों व पंजाब के शाही इमाम मौलाना मोहम्मद उस्मान रहमानी व गायक सिद्धू मुसेवाला भी शामिल थे।वहीं, कुछ सिख संगठनों की आलोचना के बाद सरकार ने ज्ञानी हरप्रीत सिंह की सुरक्षा बहाल कर दी। शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) ने दावा किया कि जत्थेदार ने इसे वापस लेने से इन्कार कर दिया। इसके बाद एसजीपीसी के अध्यक्ष के आदेश पर एसजीपीसी की टास्क फोर्स के कर्मचारियों का एक हथियारबंद दस्ता जत्थेदार की सुरक्षा में तैनात कर दिया गया।उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले ही ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने बयान दिया था कि सिखों को सुरक्षा के लिए लाइसेंसी हथियार रखने चाहिए। इस बयान की मुख्यमंत्री भगवंत मान ने आलोचना की थी।

जिन अन्य धर्मगुरुओं की सुरक्षा वापस ली गई है, उनमें डेरा रुमीवाला भुच्चो मंडी (बठिंडा) के प्रमुख बाबा सुखदेव सिंह, डेरा सचखंड बल्लां के प्रमुख संत निरंजन दास, लुधियाना स्थित भैणी साहिब के प्रमुख सतगुरु उदय सिंह, श्री दरबार साहिब के हेड ग्रंथी ज्ञानी जगतार सिंह भी शामिल हैं।



hindi news portal lucknow

अमित शाह बोले- कांग्रेस ने गुजरात में दंगे कराए, मोदी के सीएम बनने से पहले आए दिन लगा रहता था कर्फ्यू

29 May 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

नांदियाड़, पीटीआइ। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कांग्रेस पर कड़ा प्रहार करते हुए कहा कि यह पार्टी जब गुजरात में सत्तारूढ़ थी तब उसने हमेशा राज्य में दंगा फैलाने का काम किया है। इस पार्टी ने लोगों को आपस में लड़वाया और कानून व्यवस्था की स्थिति को बिगाड़ा है। उन्होंने कहा कि गुजरात में भाजपा के सत्ता में आने और नरेन्द्र मोदी के मुख्यमंत्री बनने से पहले गुजरात में आए दिन सांप्रदायिक दंगे होते थे और कर्फ्यू लगा रहता था। साथ ही अंतरराष्ट्रीय सीमा से नशीली दवाओं, हथियारों और आरडीएक्स की तस्करी होती थी।शाह ने खेड़ा जिले के नांदियाड़ में पुलिस आवास परियोजनाओं का उद्घाटन करते हुए कहा कि बहुत सालों तक कांग्रेस कई समुदायों को आपस में लड़ाने का काम करती रही। सांप्रदायिक दंगे फैलाकर कानून व्यवस्था की धज्जियां उड़ाईं।केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि कांग्रेस शासन के दौरान साल भर राज्य के अधिकांश हिस्सों में कर्फ्यू लगा रहता था। सुबह आदमी काम के लिए घर से बाहर निकले तो इस बात की कोई गारंटी नहीं थी कि वह शाम को घर लौटेगा या नहीं। बैंकों, बाजारों और फैक्टि्रयों के बंद होने से प्रदेश की अर्थव्यवस्था पर भी असर पड़ा था।उन्होंने बताया कि जगन्नाथ रथ यात्रा के दौरान सांप्रदायिक झगड़े आम बात थी। लेकिन जब भाजपा सत्ता में आई तो क्या किसी की रथयात्रा पर हमला करने की हिम्मत हुई? जिन्होंने ऐसे कोशिश करनी चाही वह सभी अब जेल की सलाखों के पीछे हैं। बतौर सीएम नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा ने गुजरात को सुरक्षित करना सुनिश्चित किया।उन्होंने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में पोरबंदर तस्करों और माफियों के लिए खेल का मैदान बन चुका था। कच्छ की सीमा से नशीले पदार्थो, हथियारों, नकली करेंसी और आरडीएक्स की तस्करी की जाती थी। आज किसी की हिम्मत नहीं है कि कच्छ की सीमा में एक इंच भी अंदर घुसे। सीमावर्ती राज्य होने के बावजूद अब गुजरात में शांति बहाली है। मुझे खुशी है कि अब गुजरात की चौकस पुलिस अपराधियों से भी दो कदम आगे रहकर उनकी धरपकड़ कर लेती है।शाह ने गोधरा में गुजरात के सहकारी आंदोलन को गौरव बताया। उन्होंने कहा कि कई देशों के मंत्री इस बात से चकित हैं कि अमूल डेयरी कोआपरेटिव ब्रांड का इतना टर्नओवर कैसे आ रहा है। आस्ट्रेलिया और नीदरलैंड्स के मंत्रियों ने उससे संपर्क करके पूछा था कि अमूल की ओर से मिले आंकड़ों की उन्होंने पड़ताल की है। उन्होंने एक वेबसाइट के जरिये इसका पता लगाया है। यह सहकारिता आंदोलन बहुत ही बड़ा था तब इसके जरिये 60 हजार करोड़ रुपये के टर्नओवर की किसी ने कल्पना भी नहीं की थी। उल्लेखनीय है कि इसी साल के अंत में गुजरात में विधानसभा चुनाव होने हैं।



hindi news portal lucknow

Uttarakhand Congress: करन माहरा को उत्‍तराखंड कांग्रेस की कमान, यशपाल आर्य बने नेता प्रतिपक्ष

10 Apr 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

राज्‍य ब्‍यूरो, प्रतिपक्ष यशपाल आर्य होंगे। उपनेता प्रतिपक्ष की जिम्‍मेदारी भुवन चंद्र कापड़ी को सौंपी गई है। रविवार देर शाम को कांग्रेस ने प्रदेश अध्यक्ष, नेता विधायक दल औऱ उप नेता विधायक दल की नियुक्ति की। वहीं नवनियुक्‍त प्रदेश अध्‍यक्ष करन माहरा ने केंद्रीय नेतृत्व का आभार जताया। कहा कि पार्टी ने उनपर भरोसा जताया है। अब लोगों में विश्‍वास जगाना है और पार्टी को आगे बढ़ाना है।विश्व होम्योपैथी दिवस पर रविवार को विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए गए।2022 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पूरे दमखम से उतरी थी। लेकिन मोदी मैजिक और भाजपा के मुकाबले कमजोर संगठन का खामियाजा उठाना पड़ा। यही वजह है कि बीजेपी ने सत्ता में रहते हुए वापसी का मिथक तोड़ दिया। 47 सीट जीत पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को दोबारा मौका भी मिला।कांग्रेस के सामने 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव में प्रदर्शन को सुधारने की चुनौती है। पांचवीं विधानसभा के चुनाव में पार्टी प्रदेश की सत्ता में आने के बजाय दोबारा विपक्ष में पहुंच गई है। इससे पहले कांग्रेस हाईकमान इस हार के लिए प्रदेश अध्यक्ष पद से गणेश गोदियाल का इस्तीफा ले चुका है।ता



hindi news portal lucknow

पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन के बीच कल होगी वर्चुअल बैठक, जानिए किन मुद्दों पर होगी बात

10 Apr 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सोमवार को अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन के साथ वर्चुअल बैठक में हिस्सा लेंगे। दोनों शीर्ष नेता भारत और अमेरिका के बीच चल रहे द्विपक्षीय सहयोग की समीक्षा करेंगे और दक्षिण एशिया, हिंद-प्रशांत क्षेत्र और आपसी हित के वैश्विक मुद्दों पर हाल के घटनाक्रमों पर विचारों का आदान-प्रदान करेंगे। यह जानकारी विदेश मंत्रालय ने दी है।मंत्रालय ने कहा कि वर्चुअल बैठक दोनों पक्षों को द्विपक्षीय व्यापक वैश्विक रणनीतिक साझेदारी को और मजबूत करने के उद्देश्य से अपने नियमित और उच्च-स्तरीय जुड़ाव को जारी रखने में सक्षम बनाएगी।

दोनों देशों के शीर्ष नेताओं की यह वर्चुअल बातचीत भारत-अमेरिका के बीच होने वाली चौथी 2+2 मंत्रिस्तरीय वार्ता से पहले होगी। टू प्लस टू वार्ता में हिस्सा लेने के लिए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री एस जयशंकर अमेरिका पहुंचे हुए हैं। टू प्लस टू वार्ता का नेतृत्व भारतीय पक्ष में राजनाथ सिंह और एस जयशंकर और उनके अमेरिकी समकक्ष रक्षा सचिव लायड आस्टिन और विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन करेंगे। भारतीय विदेश मंत्रालय के अनुसार टू प्लस टू वार्ता में दोनों देशों को विदेश नीति, रक्षा और सुरक्षा क्षेत्र में सहयोग से जुड़े तमाम मुद्दों पर विमर्श करने का मौका देगा। भारत और अमेरिका रणनीतिक साझेदार हैं और इस बैठक में क्षेत्रीय व अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर भी विमर्श होगा। अमेरिका ने इस साल की बैठक को इस लिहाज से महत्वपूर्ण बताया कि इस वर्ष दोनों देश कूटनीतिक रिश्तों के स्थापित होने की 75वीं वर्षगांठ मना रहे हैं।



hindi news portal lucknow

Russia Ukraine Crisis: उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता कर रहे पीएम मोदी, कई शीर्ष अधिकारी हैं मौजूद

01 Mar 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी यूक्रेन-रूस संकट पर एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता कर रहे हैं। यूक्रेन पर जारी हमलों के बीच करीब 18 हजार भारतीय छात्र वहां फंसे हुए हैं। इन्हीं भारतीय छात्रों को स्वदेश वापसी को लेकर मोदी सरकार हर एक प्रयास कर रही है। इसी को लेकर पीएम मोदी आज एक बार फिर उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता कर रहे हैं। विदेश मंत्री एस जयशंरकर समेत कई शीर्ष अधिकारी इस बैठक में हिस्सा ले रहे हैं।

यूक्रेन संकट को लेकर पीएम मोदी की यह चौथी बैठक है। युद्धग्रस्त देश में खार्किव में गोलाबारी के दौरान एक भारतीय छात्र की मौत हो गई है।

यूक्रेन में भारतीय छात्र की मौत को लेकर विदेश मंत्रालय ने ट्वीट करते हुए लिखा कि गंभीर दुख के साथ हम पुष्टि करते हैं कि आज सुबह खार्किव में गोलाबारी में एक भारतीय छात्र की जान चली गई। मंत्रालय उनके परिवार के संपर्क में है। हम परिवार के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करते हैं।'आपरेशन गंगा' के तहत चल रहे निकासी प्रयासों को बढ़ाने के लिए पीएम मोदी ने मंगलवार को भारतीय वायु सेना को निकासी प्रयासों में शामिल होने के लिए कहा है।सूत्रों ने कहा कि वायु सेना की क्षमताओं का लाभ उठाने से यह सुनिश्चित होगा कि कम समय में अधिक लोगों को निकाला जा सके। साथ ही कहा कि यह मानवीय सहायता को अधिक कुशलता से वितरित करने में भी मदद करेगा। भारतीय वायु सेना आज से 'आपरेशन गंगा' के तहत कई सी-17 विमान तैनात कर सकती है।बता दें कि केंद्र सरकार ने युद्धग्रस्त यूक्रेन से फंसे छात्रों और भारतीय नागरिकों को वापस लाने के लिए आपरेशन गंगा शुरू किया है। ऑपरेशन गंगा मिशन के तहत एयर इंडिया द्वारा विशेष उड़ानें संचालित की जा रही हैं।



12345678910...