उत्तर प्रदेश

hindi news portal lucknow

UP Election 2022: अमित शाह ने लखनऊ में दी लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि, लोक कल्याण संकल्प पत्र घोषित करने का कार्यक्रम स्थगित

06 Feb 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

लखनऊ। भारत रत्न लता मंगेशकर के रविवार को निधन पर दो दिन के राष्ट्रीय शोक घोषित होने के कारण भारतीय जनता पार्टी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए रविवार को लोक कल्याण संकल्प पत्र घोषित करने का कार्यक्रम स्थगित कर दिया है। गृह तथा सहकारिता मंत्री अमित शाह रविवार को लखनऊ पहुंचे और भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश मुख्यालय में लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि दी। अमित शाह का आज का पश्चिमी उत्तर प्रदेश के दौरे का कार्यक्रम जारी रहेगा।स्वर कोकिला लता मंगेशकर के रविवार को निधन के कारण भारतीय जनता पार्टी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर लोक कल्याण संकल्प पत्र की घोषणा स्थगित कर दी है। लोक कल्याण संकल्प पत्र जारी करने गृह मंत्री अमित शाह रविवार को लखनऊ पहुंचे थे। कार्यक्रम स्थगित होने के बाद केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ सीएम आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम केपी मौर्य और उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने भारत रत्न लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि देने के लिए दो मिनट का मौन रखा। लता मंगेशकर के निधन के कारण उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा ने उत्तर प्रदेश चुनाव के लिए घोषणापत्र का कार्यक्रम स्थगित कर दिया है। स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि भारत रत्न लता मंगेशकर का आज निधन हो गया है। उनके जैसा व्यक्तित्व सदियों में एक बार आता है। इस दुखद समाचार के कारण आज घोषणा पत्र 2022 का कार्यक्रम स्थगित किया गया है, अगली तिथि की घोषणा जल्द की जाएगी। पार्टी के अन्य राजनीतिक कार्यक्रम यथावत रहेंगे।

उत्तर प्रदेश में अपनी सरकार बरकरार रखने के प्रयास में लगी भारतीय जनता पार्टी ने रविवार को उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 के लिए अपना लोक कल्याण संकल्प पत्र जारी करने का कार्यक्रम तय किया था। इसके लिए गृह मंत्री अमित शाह भी करीब 11 बजे लखनऊ पहुंचे। लखनऊ के चौधरी चरण सिंह इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर सीएम योगी आदित्यनाथ, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह तथा लखनऊ की मेयर के साथ अन्य मंत्रियों ने उनकी अगवानी की।भाजपा उत्तर प्रदेश ने लोक कल्याण संकल्प पत्र प्रदेशभर से सुझाव एकत्र कर बनाया है। लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित कार्यक्रम में बीते दिनों पार्टी की ओर से आकांक्षा पेटी लांच की गई थी। मुख्यमंत्री ने 'यूपी नंबर एक, सुझाव आपका, संकल्प हमारा' अभियान शुरू किया था। लोक कल्याण संकल्प पत्र के लिए सुझाव जुटाने का अभियान 15 दिसंबर, 2022 को शुरू हुआ। प्रदेश की 30 हजार ग्राम पंचायत, सभी विधानसभा क्षेत्रों और महानगरों में विभिन्न सामाजिक और आर्थिक वर्ग के लोगों से संवाद किया गया। उनसे सुझाव मांगे गए। आकांक्षा पेटियां लगाई गईं। इसके साथ ही मिस्ड काल और ई-मेल के माध्यम से भी सुझाव लिए गए।



hindi news portal lucknow

टिकट कटने से नाराज सपा के पूर्व मंत्री शारदा शुक्ला के तीखे बोल, कहा-अखिलेश को कर देंगे बर्बाद

06 Feb 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

लखनऊ। भाजपा ने प्रवर्तन निदेशालय से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेने वाले राजेश्वर सिंह को सरोजनीनगर विधान सभा क्षेत्र से मैदान में उतारा तो इस क्षेत्र के कद्दावर नेता रहे सपा के पूर्व मंत्री शारदा प्रताप शुक्ला भी उनके समर्थन में आ गए। भाजपा में शामिल हुए शुक्ला ने राजेश्वर सिंह को अपना दामाद बताते हुए स्वाती सिंह की तरह जिताकर विधानसभा पहुंचाने का वादा किया। साथ ही सपा मुखिया अखिलेश यादव को बर्बाद कर देने की धमकी भी दी।सपा सरकार में मंत्री शारदा प्रताप शुक्ला को प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव का बेहद करीबी माना जाता है। वह सरोजनीनगर विधानसभा क्षेत्र से विधायक रहे हैं और इसी सीट से इस बार भी टिकट चाह रहे थे, लेकिन अखिलेश ने उन्हें टिकट नहीं दिया। इससे नाराज शुक्ला ने शनिवार को पार्टी मुख्यालय पहुंचकर भाजपा का दामन थाम लिया। प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह और केंद्रीय मंत्री कौशल किशोर ने उन्हें सदस्यता ग्रहण कराई। सरोजनीनगर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी राजेश्वर सिंह भी साथ थे। शारदा प्रताप शुक्ला ने कहा- राजेश्वर सिंह मेरे दामाद हैं। जिस तरह से स्वाती सिंह को जिताकर विधानसभा भेजा था, वैसे ही राजेश्वर सिंह को भी जिताऊंगा।

सपा पर निशाना साधते हुए बोले कि राजनीति हमें विरासत में नहीं मिली, बल्कि अपनी मेहनत से छीनी है। अब सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को बर्बाद कर देंगे। उन्होंने कहा कि डा. राम मनोहर लोहिया से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विचार मिलते हैं, इसलिए भाजपा में शामिल हुए हैं। उनके साथ प्रसपा के उन्नाव जिलाध्यक्ष व पूर्व लोकसभा प्रत्याशी सतीश कुमार शुक्ला सहित बड़ी संख्या में समर्थक भाजपा में शामिल हुए। कार्यक्रम का संचालन ज्वाइनिंग कमेटी के सदस्य दयाशंकर सिंह ने किया।



hindi news portal lucknow

सचिन पायलट को भरोसा- यूपी में चौंकाने वाले परिणाम देगी कांग्रेस, बोले- भाजपा की तो आदत, फूट डालो राज करो

06 Feb 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

UP Vidhan Sabha Election 2022 सचिन पायलट ने कहा कांग्रेस ने इस बार युवाओं को आगे किया है। बड़ी संख्या में महिलाओं को चुनाव में उतारा है लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि वरिष्ठों की अनदेखी हो रही है। उनके साथ मिलकर युवा पार्टी को नई ऊंचाइयां और गति देंगे।UP Vidhan Sabha Election 2022: ठंड से ठिठुरते उत्तर प्रदेश का चुनावी तापमान उबाल पर है। रण जीतने के लिए सभी दलों के सूरमा मैदान में उतर चुके हैं। कांग्रेस महासचिव एवं प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा अभी तक अकेले मोर्चा संभाले हुई थीं। पार्टी ने अब राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री एवं युवा चेहरे सचिन पायलट को भी रण क्षेत्र में उतार कर चुनावी गर्मी को और बढ़ाने की कोशिश की है। सचिन पायलट ने चुनावी प्रचार की शुरुआत गौतमबुद्ध नगर की जेवर विधानसभा सीट से की है। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की रणनीति को लेकर दैनिक जागरण के धर्मेंद्र चंदेल ने सचिन पायलट से बात की...

सवाल : उत्तर प्रदेश में कांग्रेस हाशिये पर है, आप चुनाव परिणाम को लेकर कितने आश्वस्त हैं?

जवाब : ऐसा बिल्कुल नहीं है। कांग्रेस जमीनी स्तर पर काम कर रही है। इसके अच्छे परिणाम सामने आएंगे। आप तय मानिए 10 मार्च को उत्तर प्रदेश में कांग्रेस चौंकाने वाले परिणाम देगी। भाजपा शासन से लोग तंग आ गए हैं। भाजपा जाति-धर्म के नाम पर लोगों को बांटने का काम कर रही है। कांग्रेस की तरफ अब लोगों का झुकाव है।

सवाल : उत्तर प्रदेश चुनाव को निर्णायक माना जा रहा है, आप इस बारे में क्या कहेंगे?

जवाब : निर्णायक इसलिए है कि लखनऊ, दिल्ली में कथित तौर पर डबल इंजन की सरकार चल रही है। पांच साल में तमाम आश्वासन देने के बाद कृषि कानून लेकर आए। एक साल तक किसानों को तंग किया। सात सौ किसान शहीद हो गए। पांच करोड़ देशवासी गरीबी रेखा के नीचे पहुंच गए हैं। केंद्र सरकार विफल रही है, राज्य सरकार ने जो शासन दिया है, उससे किसान, नौजवान, महिला, दलित कोई खुश नहीं है। उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि मणिपुर, पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में भी कांग्रेस सरकार बनाने जा रही है।

सवाल : कांग्रेस भितरघात से जूझ रही है, कैसे निपटेंगे?

जवाब : कांग्रेसी एक विचारधारा के तहत काम करते हैं। कोई भितरघात नहीं है। किसी की नाराजगी है तो उसे दूर किया जाएगा। सभी एकजुट होकर पार्टी के लिए काम कर रहे हैं।

सवाल : अनदेखी की वजह से वरिष्ठ नेता पार्टी छोड़ रहे हैं, क्या कहेंगे?

जवाब : देखिए कांग्रेस ने इस बार युवाओं को आगे किया है। बड़ी संख्या में महिलाओं को चुनाव मैदान में उतारा है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वरिष्ठों की अनदेखी हो रही है। उनके साथ मिलकर युवा पार्टी को नई ऊंचाइयां और गति देंगे।

सवाल : कांग्रेस ने युवा और महिलाओं को अधिक टिकट दिए हैं। क्या युवा कांग्रेस की नैया पार लगा पाएंगे?

जवाब : प्रियंका जी ने उत्तर प्रदेश में जो शुरुआत की है, महिलाओं को 40 फीसद टिकट देने का जो वादा किया था, वो पूरा किया है। देश में अभी तक किसी भी राज्य में ऐसा नहीं हआ है। हमने 20 लाख नौकरी देने का जो वादा किया है, वह भी जरूर पूरा करेंगे। इसका पूरा आकलन किया गया है।

सवाल : आपकी उत्तर प्रदेश में एंट्री की तैयारी तो नहीं है?

जवाब : मणिपुर है, पंजाब है, पूरे देश में पार्टी का प्रचार कर रहा हूं। आज से नहीं पिछले 20 साल से कर रहा हूं, लेकिन मेरी पहली प्राथमिकता राजस्थान ही है, जहां पिछले बीस साल से एक परंपरा चल रही है, एक बार भाजपा सरकार, एक बार कांग्रेस। मैं चाहता हूं कि 20 महीने बाद 2023 में जब वहां चुनाव हो तो फिर से कांग्रेस की सरकार बने।

भाजपा पदाधिकारियों का कहना है कि विधायक के खिलाफ नारेबाजी करने वाले लोग सपा समर्थक हैं।

सवाल : पिछले दिनों सम्राट मिहिर भोज प्रकरण चर्चा में रहा। कल अमित शाह भी इस पर बोले। कांग्रेस का इस पर क्या कहना है?

जवाब : भाजपा की तो आदत ही है फूट डालो राज करो। विवाद किसने पैदा किया, किसके माध्यम से पैदा हुआ? बेवजह लोगों में खाई पैदा करने के लिए विवाद पैदा किया गया। लोगों में जो खाई पाटनी चाहिए, भाजपा उसे अपने फायदे के लिए और गहरी कर रही है।

सवाल : किसान आंदोलन का चुनाव पर कितना असर पड़ेगा?

जवाब : भाजपा ने किसानों से पूरी दुश्मनी निकाली है। उपचुनाव हार गए तो कानून वापस ले लिए। किसके कहने पर कानून लेकर आए और किसके कहने पर वापस ले लिए। किसान का हित सरकार के लिए सर्वोपरि नहीं है। यह बात जगजाहिर हो गई है। चुनाव पर असर पडऩा तय है। कांग्रेस ने किसानों की आवाज उठाई, इसलिए किसान कांग्रेस के साथ हैं।



hindi news portal lucknow

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ व भाजपा सांसद रविकिशन को बम से उड़ाने की धमकी, हापुड़ में केस दर्ज

06 Feb 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

हापुड़। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और भाजपा नेताओं की गाड़ियों को बम से उड़ाने के ट्वीट पर पुलिस अफसरों में अफरा-तफरी मच गई। ट्विटर पर लेडी डान के नाम एकाउंट बनाकर आरोपित ने हापुड़ पुलिस को टैग कर ट्वीट किया है। ट्विटर एकाउंट से मेरठ और लखनऊ में बम धमाके करने की भी धमकी भी दी है। मामले पर संज्ञान लेकर पुलिस अधीक्षक ने सर्विलांस टीम को छानबीन में लगा दिया है। इस मामले में रिपोर्ट दर्ज कराई जा रही है।ट्विटर पर लेडी डान के नाम बने एकाउंट से किए गए ट्वीट में आरोपित ने लिखा है कि ओवैसी तो मोहरा है, असली निशाना तो योगी आदित्यनाथ है। भाजपा नेताओं की गाड़ियों पर आरडीएक्स से हमला होगा। अपनी टीम लगाओ। दिल्ली मत देखो। योगी मारा जाएगा। इसके बाद हापुड़ पुलिस ने ट्वीट कर वैधानिक कार्रवाई करने की बात कही। जिसके बाद दोबारा द्वीट किया गया। जिसमें आरोपित ने भीम सेना की अध्यक्ष सीमा सिंह, योगी आदित्यनाथ को मानव बम बनकर मारने की बात लिखी। इतना ही नहीं पाकिस्तान से आए मुजाहिद के शमशान बनाने की धमकी भी ट्वीट के जरिए दी है।एसपी दीपक भूकर ने बताया कि मामले की जानकारी मिली है। प्रथम दृष्टया कि अराजक तत्व की शरारत लग रही है, लेकिन मामले को गंभीरता से लिया जा रहा है। सर्विलांस की टीम ट्वीटर एकाउंट से जुड़ी जानकारी जुटा रही हैं। मामले में अज्ञात आरोपित के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। इस एकाउंट के जरिए लखनऊ रेलवे स्टेशन और बस अड्डा पर बम लगाने और मेरठ में दस जगह बम धमाके करने की धमकी भी दी गई है। जल्द ही पुलिस ठोस नतीजे पर पहुंचकर आरोपित के बारे में जानकारी कर लेगी।

बता दें कि यूपी में विधानसभा चुनाव दस फरवरी से शुरू हो रहा है। पहले चरण में पश्चिमी यूपी में वोट डाले जाएंगे। ऐसे में सभी दलों के नेता चुनाव प्रचार में जुटे हैं। सीएम योगी समेत अन्य भाजपा नेता भी चुनाव प्रचार कर रहे हैं। ऐसे में ट्विटर पर धमकी मिलने को पुलिस ने गंभीरता से लिया है। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है।



hindi news portal lucknow

सीएम योगी बोले, सपा को बुलडोजर से है परेशानी, राजा महेंद्र प्रताप व एएमयू का भी किया जिक्र

06 Feb 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

अलीगढ़। UP VIdhan Sabha Chunav पिछले विधानसभा की सभी सीट जीत चुकी भाजपा के लिए इस बार का चुनाव प्रतिष्‍ठा का सवाल बना हुआ है। मतदाताओं को लुभाने के लिए गृहमंत्री अमित शाह, सीएम योगी आदित्‍यनाथ, डिप्‍टी सीएम दिनेश शर्मा समेत अलीगढ़ आ चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्‍वयं वर्चुअल रैली संबोधित कर चुके हैं। कई बार अलीगढ़ आ चुके सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने रविवार को अकराबाद के नानऊ पैंठ मैदान में जनसभा को संबोधित किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सपा को बुलडोजर से ज्यादा परेशानी हो गई है। समाजवादी नेता बताएं कि हमारे काम दिखाई दे रहे हैं। लेकिन आपने कोई विकास कराया, बोले, हमने कब्रिस्तान की बाउंड्रीबाल बनाई है। भाजपा की सरकार में सात सौ धाम, मंदिरों पर काम हुए हैं। अयोध्या विकसित हो रही है। काशी को अत्याधुनिक बनाया जा रहा है। मथुरा कैसे बच जाएगा। येे काम होने चाहिए न? बुलडोजर चलना चाहिए न ?राजा महेंद्र प्रताप सिंह के नाम पर हमारी सरकार ने विश्वविद्यालय का निर्माण शुरू कराया। अलीगढ़ व उसके आसपास से आने वाले छात्रों को जब डिग्री मिलेगी तो उस डिग्री पर नाम होगा राजा महेंद्र प्रताप सिंह। तब उनके नाम के बारे में जानने को इच्छुक होंगे तब पता लगेगा कि महेंद्र प्रताप ने 1915 में भारत की अंतरिम सरकार का गठन अफगानिस्तान में रहकर कर दिया था। क्या राजा महेंद्र प्रताप के नाम पर विवि की स्थापना पहले क्यों नहीं हो पाई। जिस अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के लिए उन्होंने अपनी भूमि दान दी थी, उस यूनिवर्सिटी के अंदर राजा महेंद्र प्रताप के नाम से कोई शिलापट क्यों नहीं लग पाया था। कारण साफ है, देश के महापुरुषों के प्रति सम्मान का भाव नहीं था। कभी राजा महेंद्र प्रताप सिंह भुला तो कभी लोह पुरुष सरदार बल्लभवाई पटेल को भुला दिए जाते हैं।सीएम योगी ने कहा हमारी सरकार ने राजा महेंद्र प्रताप के नाम को आगे बढ़ाया। यही नहीं हमारी सरकार ने कल्याण सिंह के नाम पर लखनऊ में एक हजार करोड़ के कैंसर रिसर्च सेंटर का नाम कल्याण सिंह के नाम पर रखा है। भाजपा की डबल इंजन की सरकार में दंगे नहीं होते। अराजकता नहीं होती। गुंडागिर्दी नहीं हो सकती। बहन बेटियों की सुरक्षा के साथ कोई खिलवाड़ नहीं कर सकता। क्योंकि सबको मालूम है कि अगर दंगा करेंगे, बेटियों की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करेंगे तो दुर्योधन और दुशासन जैसे कांड हो जाएंगे। दंगा, फसाद सपा की सरकार से विरासत में मिला था। बरेली, कोसी कभी आगरा अलीगढ़ के दंगा। प्रदेश में सुरक्षा का वातावरण का कार्य हो।दंगा, फसाद सपा की सरकार से विरासत में मिला था। बरेली, कोसी कभी आगरा अलीगढ़ के दंगा। प्रदेश में सुरक्षा का वातावरण का कार्य हो। विकास के काम निरंतर आगे बढ़ रहे हैं। ये काम पहले भी हो सकते थे। सपा की सरकार की समय उनकी संवेदना गरीब, किसान, बेटियों की सुरक्षा के लिए नहीं थीं। उनकी संवेदना दंगाइयों के लिए थी। पेशेवर माफिया के प्रति थी। ये लोग माफिया को संरक्षण देकर किस तरह की अराजकता पैदा करते थे ये किसी से छिपा हुआ नहीं है। शाम में कार से आगरा रोड स्थित कैलाश फार्म हाउस में जनसभा को संबोधित किया।आदित्यनाथ ने कहा कि पहले यूपी से पलायन होता था अब प्रगति हो रही है क्योंकि दंगाइयों को पता है कि अगर वह धंधा करेंगे तो उनके गले में तख्ती टांग दी जाएगी। सीएम ने कहा की डिफेंस कारिडोर में जो तोप तैयार होगी उसपर बैठकर अलीगढ़ का युवा सीमा पर जाएगा और दुश्मन के छक्के छुड़ाने का काम करेगा। उन्‍होंने कहा विकास कार्य में लूट कैसे मचती थी, इसके उदाहण आपके सामने हैं। विकास का पैसा विवि. एयरपोर्ट, सड़क पर खर्च नहीं होता था। ये पैसा खानदान पर खर्च होता था या फिर इत्र वाले मित्र को विकास करने पर खर्च होता था। इत्र वाले मित्र के यहां बुलडोजल चलता है तो नोट के पहाड़ निकल पड़ते हैं। इससे यह साबित करता है कि सपा की सरकार में विकास के कार्य में डकैती डाली जाती थी। प्रधानमंत्री के नेतृत्व में फ्री में उपचार, वैक्सीन, अन्न मिला। वैक्सीन सुरक्षा कवच है। पहली डोज सौ फीसदी ने ले ली है। दूसरी डोज सत्तर फीसदी ने ली है। चुनाव आते आते यह नव्वे फीसद हो जाएगी। डबल डोज वाले लोग वैक्सीन का विरोध करने वालों को जवाब देंगे। डबल इंजन की सरकार में अनाज का भी डबल डोज मिला है। पहले सब इनके इत्र वाले मित्र के यहां चला जाता था। बहन जी की सरकार होती तो हाथी का पेट तो कभी भरता ही नहीं है। समाजवादी नेता मिले, बोले आपके यहां विकास तो दिखाई देता है ये बुलडोजर का मतलब क्या है। मैंने कहा समझ जाओगे। भगवान कृष्ण ने क्या कहा था। एक में सस्त्र और दूसरा में शास्त्र। शास्त्र लोक कल्याण का मार्ग प्रशस्त करने के लिए, विकास का लिए और और ससत्र दुस्टों को उनके अंजाम तक पहुंचाने के लिए। विकास होगा कल्याण के लिए और बुलडोजर होगा माफिया की छाती पर चढ़ाने के लिए। उनकी अवैध कबाई ढहाने के लिए। सपा परेशान है। सपा को बुलडोजर से ज्यादा परेशानी हो गई है। समाजवादी नेता बताएं कि हमारे काम दिखाई दे रहे हैं। लेकिन आपने कोई विकास कराया, बोले, हमने कब्रिस्तान की बाउंड्रीबाल बनाई है। भाजपा की सरकार में सात सौ धाम, मंदिरों पर काम हुए हैं। अयोध्या को अत्याधुनिक नगरी के रूप में विकसित हो रही है। काशी को अत्याधुनिक बनाया जा रहा है। वृन्दावन, मथुरा, बरसाना, नंदगांव, गोर्वधन कैसे बच जाना है। येे विकास का काम चलना चाहिए न, बुलडोजर चलना चाहिए न ?



hindi news portal lucknow

UP में कोरोना संक्रमण के 14,765 मामले आए सामने, पिछले 24 घंटे में 1070 मरीज हुए ठीक

13 Jan 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार में अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने आज बताया कि प्रदेश में कल एक दिन में कुल 2,55,391 सैम्पल की जांच की गयी। कोरोना संक्रमण के 14,765 नये मामले आये हैं। प्रदेश में अब तक कुल 9,55,52,240 सैम्पल की जांच की गयी हैं। उन्होंने बताया कि विगत 24 घण्टों में 1070 लोग तथा अब तक 16,91,288 कोविड-19 से ठीक हो चुके हैं। प्रदेश में कोरोना के कुल 71,022 एक्टिव मामले है।

प्रसाद ने बताया कि कोविड वैक्सीनेशन का कार्य निरन्तर किया जा रहा है। प्रदेश में कल 12 जनवरी, 2022 को एक दिन में कुल 22,15,802 डोज दी गयी है। प्रदेश में कल 18 वर्ष से अधिक लोंगों को पहली डोज 13,45,51,661 दी गयी है जो 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों का 91.27 प्रतिशत है। दूसरी डोज 8,19,75,780 लगायी गयी है, जो 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों का 55.61 प्रतिशत है। अब तक 18 वर्ष से अधिक लोगों को कुल 21,65,27,441 डोज दी जा चुकी है।

उन्होने बताया कि 15 से 18 वर्ष के बच्चों को अब तक 38,68,052 वैक्सीन की प्रथम डोज दी गयी है, जो उनकी अनुमानित संख्या का 27.60 प्रतिशत है। उन्होंने बताया कि अब तक 1,96,584 प्रीकॉशन डोज दी गयी है। प्रसाद ने बताया कि सभी लोग अपना कोविड टीकाकरण अवश्य करवाये। कोविड संक्रमण अभी पूरी तरह समाप्त नही हुआ है। इसलिए सभी लोग कोविड अनुरूप आचरण करे। टीकाकरण के बाद भी कोविड प्रोटोकॉल का पालन अवश्य करें। किसी भी प्रकार की समस्या होने पर कोविड हेल्पलाइन 18001805145 पर सम्पर्क करे।



hindi news portal lucknow

उत्तर प्रदेश में भाजपा की मुश्किलें नहीं हो रही कम, अब रीता बहुगुणा जोशी ने लखनऊ से बेटे के लिए मांगा टिकट

13 Jan 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

रीता बहुगुणा अपने बेटे के लिए लखनऊ कैंट से टिकट मांगा है। हालांकि ऐसा नहीं है कि रीता बहुगुणा जोशी ही सिर्फ ऐसी नेता हैं जिन्होंने अपने बेटे के लिए टिकट मांगा है। बीजेपी में ऐसे कई नेताओं की कतार है जो अपने बेटे को सेट करने में लगे हुए हैं। बताया जा रहा है कि स्वामी प्रसाद मौर्य ने भी अपने बेटे के लिए टिकट मांगा था।उत्तर प्रदेश चुनाव से पहले सत्तारूढ़ भाजपा के लिए मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। तीन वरिष्ठ मंत्री पहले ही इस्तीफा देखकर जा चुके हैं। जबकि कई विधायक लगातार पार्टी छोड़ रहे हैं। इन सबके बीच वरिष्ठ नेता रीता बहुगुणा जोशी ने भी पार्टी के सामने अपनी मांग रख दी है। सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक रीता बहुगुणा जोशी ने अपने बेटे के लिए टिकट मांगा है। रीता बहुगुणा अपने बेटे के लिए लखनऊ कैंट से टिकट मांगा है। हालांकि ऐसा नहीं है कि रीता बहुगुणा जोशी ही सिर्फ ऐसी नेता हैं जिन्होंने अपने बेटे के लिए टिकट मांगा है। बीजेपी में ऐसे कई नेताओं की कतार है जो अपने बेटे को सेट करने में लगे हुए हैं। बताया जा रहा है कि स्वामी प्रसाद मौर्य ने भी अपने बेटे के लिए टिकट मांगा था।



hindi news portal lucknow

उत्तर प्रदेश में भाजपा के सभी बड़े चेहरे होंगे मैदान में

13 Jan 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ही नहीं उनके दोनों उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा भी विधानसभा चुनाव मैदान में उतरेंगे। प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव भी मैदान में उतर सकते हैं। योगी जहां अयोध्या से ताल ठोककर आसपास की लगभग तीन चार दर्जन सीटों को प्रभावित करने की कोशिश करेंगे, वहीं केशव संभवत: फाफामऊ और दिनेश शर्मा लखनऊ से दावेदारी ठोकेंगे। माना जा रहा है कि कुछ सांसदों को भी मैदान में उतारा जा सकता है।उत्तर प्रदेश की लगभग साढ़े तीन दशक की परंपरा को तोड़ते हुए लगातार दूसरी बार सत्ता में आने की कोशिश में जुटी भाजपा मुद्दों और चेहरों का ऐसा सामंजस्य बिठाना चाहती है, जो बड़े क्षेत्र को विश्वसनीय ढंग से प्रभावित कर सके। वैसे इस पूरी रणनीति का दूसरा पहलू यह भी है कि इससे सपा प्रमुख अखिलेश यादव पर भी चुनाव लड़ने का दबाव बनेगा। वह कौन-सी सीट चुनते हैं, यह भी रोचक होगा। ध्यान रहे कि वर्तमान में वह आजमगढ़ से सांसद हैं।पिछले तीन दिनों से दिल्ली में केंद्रीय नेतृत्व के साथ इन सभी पर चर्चा हुई और माना जा रहा है कि एक-दो दिनों में पहले दो चरणों के लगभग 94 उम्मीदवारों की सूची घोषित हो सकती है। कुछ नाम रोके गए हैं और उसपर निर्णय लेने का अधिकार राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को दे दिया गया है।केशव प्रसाद मौर्य ने बताया कि भाजपा मुख्यालय में 172 नामों पर चर्चा हो गई है लेकिन सूत्रों का कहना है कि सभी नाम अभी घोषित नही किए जाएंगे। दरअसल साथी दलों के साथ भी चर्चा पूरी होने तक ऐसे नाम रोके जा सकते हैं जिन क्षेत्रों में सहयोगी दलों की भी रुचि हो।गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी की मौजूदगी में केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक हुई। इसमें गृहमंत्री अमित शाह, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केशव प्रसाद, दिनेश शर्मा, प्रदेश प्रभारी राधामोहन सिंह, चुनाव प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान, अनुराग ठाकुर, प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव समेत कुछ अन्य नेता मौजूद थे। प्रधानमंत्री मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने आनलाइन मीटिग में हिस्सा लिया।सूत्रों के अनुसार यह तय हो गया है कि सभी बड़ी चेहरे मैदान में उतरेंगे। दरअसल इससे जनता और कार्यकर्ताओं दोनों में विश्वास पैदा होता है। पिछले तीन दिनों में अमित शाह की अध्यक्षता में भाजपा कोर ग्रुप की लंबी बैठक हो चुकी है। बताते हैं कि बुधवार को संजय निषाद की भी अमित शाह के साथ बैठक हो चुकी है। अपना दल की अनुप्रिया पटेल की भी भाजपा के साथ चर्चा हो चुकी है।बताया जाता है कि मौटे तौर पर सहयोगी दलों को दी जाने वाली सीटो की संख्या पर तय है लेकिन इसे अंतिम रूप दिया जाना बाकी है। सच्चाई यह है कि पिछले कुछ दिनों में भाजपा से नेताओं के जाने के बाद सहयोगी दलों का बल थोड़ा बढ़ा हुआ है और वह ज्यादा सीटों की मांग कर रहे हैं। मसलन अपना दल को पिछले बार गठबंधन के तहत 11 सीटें मिली थीं, जिसमें से 9 सीटों पर उसके प्रत्याशी जीते थे, लेकिन इस बार 20 से ज्यादा सीटों की मांग हो रही है। बताया जा रहा है कि मकर संक्राति के साथ ही उम्मीदवारों के नामों की घोषणा शुरू हो जाएगी।



hindi news portal lucknow

यूपी चुनाव 2022: सीएम योगी आद‍ित्‍यनाथ गोरखपुर को आज देंगे 67 करोड़ की परियोजनाओं की सौगात

07 Jan 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

गोरखपुर। UP Assembly Elections 2022: दो दिवसीय गोरखपुर दौरे पर आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शुक्रवार को भरोहिया में आयोजित कार्यक्रम में गोरखपुर को 67.79 करोड़ रुपये लागत की 20 परियोजनाओं की सौगात देंगे। इनमें 50.48 करोड़ रुपये लागत की 15 परियोजनाओं का लोकार्पण तथा 17.31 करोड़ रुपये लागत की पांच परियोजनाओं का शिलान्यास शामिल है। मुख्यमंत्री ब्लाक परिसर में ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की प्रतिमा का अनावरण एवं नवनिर्मित मंच का लोकार्पण भी करेंगे। प्रतिमा एवं मंच के निर्माण पर करीब 36 लाख रुपये खर्च किए गए हैं।

मुख्यमंत्री शुक्रवार की सुबह गोरखनाथ मंदिर में आयोजित जनता दर्शन कार्यक्रम में आए लोगों की समस्याएं सुनेंगे। उसके बाद कुछ लोगों से मुलाकात कर सकते हैं। सुबह करीब 9.30 बजे भरोहिया पहुंचेंगे और परियोजनाओं की सौगात देंगे। मुख्यमंत्री यहां स्थापित की गई ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की प्रतिमा का अनावरण करेंगे। प्रतिमा के पास निर्मित मंच का लोकार्पण भी किया जाएगा।

मुख्यमंत्री जिला सूचना कार्यालय भवन, कबीरधुनी एवं गोरख तलैया के सुंदरीकरण एवं कई आयुर्वेदिक चिकित्सालय शामिल हैं। इस अवसर पर मुख्यमंत्री लोगों को संबोधित भी करेंगे। भरोहिया में कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री लखनऊ के लिए रवाना हो जाएंगे।

मुख्यमंत्री जिन पांच परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे, उनमें स्टेट इंस्टीट्यूट आफ होटल मैनेजमेंट भी शामिल है। इसपर करीब 16.29 करोड़ रुपये की लागत आएगी।



hindi news portal lucknow

बसपा सुप्रीमो मायावती के ट्वीट पर लोगों ने टिप्पणी की, पीएम नरेन्‍द्र मोदी के सुरक्षा में चूक का मामला

07 Jan 2022 [ स.ऊ.संवाददाता ]

प्रयागराज। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के काफिले को रोकने को लेकर भाजपाई मुखर हैं। घटना के विरोध में पुतला दहन व मोमबत्ती जुलूस भी निकाले जा रहे हैं। इस प्रकरण पर बसपा के समर्थक भी कांग्रेस सरकार के खिलाफ नजर आ रहे हैं। हालांकि वह किसी तरह का प्रदर्शन नहीं कर रहे लेकिन बसपा सुप्रीमो मायावती के ट्वीट के साथ खड़े नजर आ रहे हैं।

बसपा सुप्रीमो ने लिखा है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाल के पंजाब दौरे के दौरान जो सुरक्षा चूक हुई है, वह अति चिंतनीय। इस घटना को पूरी गंभीरता से लेकर इसकी उच्च-स्तरीय निष्पक्ष जांच जरूरी है ताकि इसके लिए दोषियों को उचित सजा मिल सके तथा आगे ऐसी घटना की पुनरावृति न हो। यह भी लिखा है कि पंजाब आदि राज्यों में होने वालेे विधान सभा आम चुनाव के मद्देनजर इस घटना को लेकर जो राजनीतिक खींचतान, आरोप-प्रत्यारोप व राजनीति की जा रही है, वह भी उचित नहीं। घटना के संबंध में राजनीति को विराम देकर इसकी गंभीरता के अनुरूप निष्पक्ष जांच होने देना ही उचित। बसपा के समर्थक व आम जनमानस भी इसी विचारधारा के प्रति रुझान दे रहे हैं।इस ट्वीट के समर्थन में संगीता गुप्ता ने लिखा कि बहन जी दिल जीत लिया आपने। राजनीति अपनी जगह, देश के प्रधानमंत्री का सम्मान चिंता अपनी जगह। कौशल प्रजापति ने लिखा कि कांग्रेस के नेता पंजाब में प्रधानमंत्री के साथ हुए दुर्भाग्यपूर्ण कृत्य का उत्सव और उपहास कर रहे हैं। ऐसी सोच किसी भी राष्ट्र की अस्मिता के लिए ख़तरा है। कांग्रेस का इस तरह जश्न मनाना सिद्ध करता है कि कहीं न कहीं इस साजिश में कांग्रेस का ही हाथ है। श्रीधर मिश्र ने लिखा कि बहन जी आपका ये ट्वीट बहुजन समाज के असली मतलब को समझाता है। देश को ऐसी राजनीति की जरूरत है। कुलभूषण व्यास ने अपने ट्वीट से सपा को घेरा। लिखा कि अखिलेश बबुआ अपनी भुआजी से कुछ सीखो...। राजनीति तो होती रहेगी...।

हरीश तिवारी में लिखा कि हमारे देश के विपक्षी को बुआ जी जैसा होना चाहिए। जो गलत है उसका विरोध करे और जो सही है उसका सरकार के साथ समर्थन करें। उत्तर प्रदेश में इस बार सपा से आगे बीएसपी निकलेगी और विपक्ष में बैठकर जनता के हक के लिए सरकार से सही सवाल जवाब करेगी। कृष्णा राय का कहना है, राजधर्म का‌ संदेश, उत्तम सोच सैलुट करता हूं। रोहित सिंह चौहान ने ट्वीट किया कि एक आप ही ऐसी अकेली विपक्ष की नेता हैं, जिन्होंने राष्ट्र व सुरक्षा से जुड़े हर कानून का समर्थन किया है। बाकी पूरे विपक्ष ने मोदी विरोध में राष्ट्र हित के मुद्दों पर भी विरोध किया है। आप ही अकेली विपक्ष की नेता थीं, जिसने 370, सीएए का समर्थन किया था राष्ट्रहित में।



12345678910...